10+भोपाल में घूमने की जगह, जाने का समय और खर्चा

Bhopal me ghumne ki jagah : अगर आप घूमने फिरने के शौकीन हैं और भोपाल में घूमने की जगह(Bhopal me ghumne ki jagah) तलाश रहे हैं तो फिर इस लेख में शुरू से अंत तक बने रहे हैं। भारत के मध्य में बसा मध्य्प्रदेश की राजधानी भोपाल है। मध्य प्रदेश के भोपाल में घूमने की जगह काफी सारी है। यहाँ आपको बहुत ज्यादा मात्रा में झीलें देखने को मिलेगी, इसी वजह से इसे झीलों के शहर भी कहा जाता है। यहाँ का छोटा तालाब और बड़ा तालाब पर्यटकों के बीच आकर्षण का केंद्र बना रहता है।

भोपाल में घूमने की जगह, जाने का समय और खर्चा

साथ ही यहाँ आपको कई सारे पर्यटन स्थल भी देखने को मिलेंगे , जिसके वजह से भोपाल भोपाल में घूमने की जगह के लिए प्रशिद्ध है। यहाँ का भोजन खान पान, रहन सहन भी लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बना रहता है। इसी वजह से सालों बाहर पर्यटकों का भरमार देखने को मिलता है।

यह भारत का सबसे ज्यादा आबादी वाला शहर है और मध्य प्रदेश का प्रशासनिक केंद्र भी है। यहाँ काफी सांख्य में पर्यटक सालों भर आते रहते हैं। यदि आप झीलों का शहर कहे जाने वाले भोपाल की यात्रा का मन बना रहे हैं तो फिर तो इसके पहले आपको इसके बारे में जानना अति आवश्य्क है की कैसे जाएँ , कब जाएँ , कहा रुकें तो इन सरे सावलें के जवाब आपको इस लेख में आसानी से मिल जायेंगे।

Contents

भोपाल के बारे में रोचक तथ्य और इतिहास 

  • राजा भोज ने इस शहर का निर्माण करवाया था इसी के नाम से इसका नाम भूपाल पड़ा में इसे बदल कर भोपाल कर दिया गया।
  • मोहमद ने अपने शासन काल में भोपाल का सबसे ज्यादा विकाश करवाया था।
  • हैदराबाद के बाद भोपाल सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला शहर है। जब भारत में सभी राज्यों का एककीकरण हो रहा था उस समय यहाँ के अंतिम नवाब ने भोपाल को एक देश बनने की छह राखी थी लेकिन सरदार वलालब भाई पटेल ने ऐसा नहीं होने दिया।
  • इसे भारत का हृदय भी कहा जाता है। भोपाल को सबसे साफ सुथरा वाला शहर भी कहा जाता है। यह शहर चिकत्सा विज्ञान, शिक्षा, फेशन क़ानूनी व्यवथा जैसे सारे चीजों में सर्वोत्तम योगदान देता है।
  • इसे इंजनीयरिंग हैब के नाम से भी जाना जाता है।
  • कुदसिया बेगम ने अपने शासन कल में भोपाल का काफी विकाश किया था , यह यहाँ की पहली महिला शासक थी।
  • भोपाल में एक ताजमहल भी है जो की बिलकुल आगरा के ताजमहल के तरह ही है जिसे नवाब शाह बेगम ने बनवाया था।

भोपाल में 15 घूमने की जगह – Bhopal me Ghumne ki Jagah

अपर झील भोपाल में घूमने की जगह

भोपाल को झीलों का शाहर कहा जाता है अगर आप भोपाल घूमने जा रहे हैं तो फिर ऊपर झील जाना कभी भी न भूलें क्योंकि यह भोपाल में घूमने की जगह में सबसे प्रशिद्ध झील है। यह देश की सबसे पुरानी कृत्रिम झीलों में से एक है। भोपाल के स्थानीय लोगों के द्वारा इसे बड़ा तालाब के नाम से जाना जाता है। इसे भोजताल झील जाता है। सालों भर यहाँ पर्यटकों का काफी भीड़ देखने को मिलता है।

Bada Talab
Source : Bada talab

यहाँ के मूल निवासियों के लिए यह पीने के पानी का मुख्य स्रोत है , यहाँ से हर साल 30 मिलयन गैलन पानी का सप्लाई होता है। इसका निर्माण राजा भोज ने डी 11वी शताब्दी कोलन नदी को रोक कर करवाया था। इस झील के कोने पर राजा भोज के मूर्ति को आप आसानी से देख सकते हैं।

यदि आप तालाब पर घूमने आते हैं तो फिर आपको ऊपर एक सुंदर ब्रिज देखने को मिलता है जो छोटी झील तथा बड़ी झील को अलग करता है। जिसे सेल्फी पॉइंट के नाम से भी जाना जाता है यहाँ आप अपने फोटोग्राफी के शोक पूरा कर सकते हैं। इसके साथ ही एक कमला पार्क देखने को मिलता है लोग अपने आप को तनाव मुक्त करते हैं।

साथ ही आप इस सुप्रशिद्ध भोपाल में घूमने की जगह में तरह तरह के बोट और नौका का भी आनंद ले सकते हैं जैसे पेडल बोट , पर्सनल मोटर बोट एवं क्रूज बोट। यहाँ नाव की सवारी का भी भरपूर मजा ले सकते है और यहाँ के नाव का शुल्क 80 रुपया से लेकर 250 रुपया तक होता है।

वन विहार भोपाल में घूमने की जगह

यदि आप प्रकृति प्रेमी और पशु प्रेमी हैं तो फिर भोपाल में घूमने की जगह वन विहार में खुद को लाने से नहीं रोक सकते हैं। वन विहार बड़ी झील के ठीक समीप श्यामला पहाड़ियों के पास स्थित है। यदि आप प्रकृति प्रेमी है तो फिर यह आपके लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है।

Van vihar
Source : Pinterest

यहाँ आप विभिन्न प्रजातियों के पशु पक्षियों , जीव जंतुओं और पौधों को देख सकते हैं। यहाँ आपको विभिन्न तरह के जानवर देखने को मिलता है जैसे ब्लैकबक, सांभर, चीता, बाघ, साही, चीतल , ब्लू बेल लकड़बग्घा और जंगली सूअर । यदि आप सफ़ेद बाघ देखने का शौक रखते हैं तो फिर आपको अपने यात्रा की योजना जुलाई से सितबर के बीच करनी चाहिए।

साथ ही कई तरह के पेड़ पौधों के भी देख सकते हैं और कई तरह के विदेशी फूलों को भी देखने का मौका मिलता है। यहाँ के शांत और हरा भरा वातावरण में आप शकुन के कुछ पल को बिता सकते हैं।

वन विहार तक पहुँचने के लिए आपको किराये का टैक्सी या ऑटो रिक्सा लेना होता है जिसे सहायता से आप वन विहार के प्रवेश द्वार तक पहुँच सकते हैं। क्योंकि यहाँ तक जाने के लिए आपको किसी भी तरह का निजी बस नहीं मिलेगा।

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मानव संग्रहालय

यदि आप मानव विकाश और इतिहास के बारे में जनना चाहते हैं। तो फिर इस मानव संग्रहालय में आना कभी न भूलें। मानव संग्राहलय भोपाल में घूमने की जगह में काफी खूबसूरत जगह है। यह मानव संग्राहलय 200 एकड़ जमीन में फैला हुआ है। यदि आप अपने प्राचीन संस्कृति के बारे में जानने को इक्छुक हैं तो फिर आपका इस संग्राहलय में स्वागत है जो की भोपाल में घूमने की जगह में काफी प्रशिद्ध है।

Manav sangrahlay
Source : Manav Sangrahalya

यहाँ आप मानव जाती के विकाश और इतिहास को अच्छी तरह से समझ सकते हैं। साथ ही आप यहाँ प्राचीन कल में उपयोग में लाये जाने वाले सारे सामग्री को आप यहाँ आसानी से देख सकते हैं। जैसे बर्तन कपड़े , खाने की साडी सामग्री और भी विभिन्न तरह की कलाकृतियों को देख सकते हैं।

यह रेलवे जंक्शन से 9 किलोमीटर की दुरी पर है। यहाँ का शुल्क प्रति व्यक्ति छात्रों के लिए 25 रुपया और वयस्कों के लिए 50 रुपया है। मार्च से अगस्त में यह सुबह 11 बजे खुलता है और शाम को 6.30 को बंद होता है। सितम्बर से फरवरी तक 10 बजे से 5.30 तक खुला रहता है।

निचली झील

छोटा तालाब के नाम से प्रशिद्ध यह झील भोपाल में घूमने की जगह के रूप में काफी प्रशिद्ध है यहाँ का वतावरण और यहाँ का माहौल मन को एक अलग लेवल का शकुन और शांति प्रदान करता है। यह झील भोपाल रेलवे जंक्शन से 4 किलोमीटर की दुरी पर है। छोटा तालाब, निचली झील और लोअर लेक के नाम से जाना जाने वाला यह लेक में एक ब्रिज भी है जो पुल पुख्ता के नाम से प्रशिद्ध है। जो दो झीलों के बीच है। इस झील को 1794 में बनवाया गया था , उसके बाद भोपाल में घूमने की जगह के तोर पर और भी फेमस हो गया और उसकी खूबसूरती में चार चाँद लग गया।

Nichli Jheel
Source : Pinterest

भीमबेटका

इस गुफा का सम्बन्ध महाभारत के भीम से है इसी वजह से इसे भीमबेटका के नाम से जाना जाता है भीम बेटका गुफा भोपाल में घूमने की जगह में काफी प्रशिद्ध पर्यटन स्थल में से है। यह गुफा भोपाल से 45 किलोमीटर की दुरी पर है। यह गुफा पर्यटक 30000 साल पुराना है 2003 में इसे उनेस्को के विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया था।

Beem Betka
Source : Pinterest

भीमबेटका गुफा के अंदर बहुत सारी गुफाएं देखने को मिलती है और उन गुफाओं के आदि मानव के द्वारा किया गया पेंटिंग भी देखने को मिलता है। रिसर्च से पता चलता है की यह जगह आदिमानवों का पॉश इलाका रहा करता था। काफी हरे भरे वातावरण, प्राकृतिक माहौल से घिरा यह भीम बेटका गुफा भोपाल में घूमने की जगह में घूमने के दौरान बेजोड़ अहसास देता है।

गोहर महल

गोहर महल को भोपाल में घूमने की जगह के तौर पर सबसे आकर्षक इमारतों के रूप में जाना जाता है। इस आकर्षक और आशार्यजनक स्मारक का निर्माण पहली महिला शशिका गोहर बेगम ने कराया था। पिछले कुछ दिनों में इनकी खूबसूरती में काफी गिरावट आयी है। जिस वजह से अब इसका ख़ूबसूरती पहले जैस नहीं रहा है। वर्तमान समय में इसका जीर्णोद्वार किया जा रहा है जिससे इसे पहले जैसा सम्मान दिया जा सके।

Gohar Mahal
Source : Pinterest

यहाँ आने के लिए रेलवे स्टेशन और हवाई जहाज दोनों की सुविधा उपलब्ध है। यह रेलवे स्टेशन से 6 किलोमीटर दूर और हवाई अड्डा से 9 किलोमीटर दुरी पर है।

प्रत्येक वर्ष यहाँ पर जनवरी और फ़रवरी में एक शानदार कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है, जहाँ काफी संख्या में पर्यटकों का भीड़ देखा जाता है।

बिरला मंदिर

भोपाल में घूमने की जगह के रूप में एक लक्ष्मी नारायण मंदिर है जिसे बिरला मंदिर के नाम जाना जाता है। यह भोपाल में घूमने की जगह के रूप में एक प्रशिद्ध पर्यटन स्थल है और साथ ही एक खुबसुरत मंदिर भी है। यदि आप भोपाल घूमने आ रहे हैं और इस मंदिर की यात्रा किये बिना लौट जा रहे हैं तो यकींन मानिये आपकी यात्रा को अधूरी मानी जाएगी। इस मंदिर का निर्माण बिरला परिवार ने करवाया था इसलिए इसे बिरला मंदिर के नाम से जाना जाता है। भारत में यह उन 18 मंदिरों में से एक जिनका निर्माण बिरला परिवार ने करवाया था।

भोपाल में घूमने की जगह में प्रशिद्ध मंदिर में लक्ष्मी और विष्णु की पूजा की जाती है। यह भोपाल में घूमने की जगह में काफी खूबसूरत स्थान है और यहाँ का परिदृश्य भी अद्भुत है।

Birla Mandir
Source : Pinterest

यहाँ आपको एक संग्राहलय भी देखने को मिलता है। जिसके मदद से आप इस शहर के इतिहास के बारे में जान सकते हैं , इस संग्राहलय में पूर्व ऐतिहासिक युग के अवशेष भी भी देखने को मिलते हैं। इसके आलावा आप यहाँ पे नवपाषण और पुरापाषाणकालीन लोगों द्वारा उपयोग में लाया जाने वाले सारी सामग्री को देख सकते हैं।

17वी ईसा पूर्व और 13वी ईसा पूर्व की पत्थरों से बानी मूर्ति भी देखने को मिलती है ,दूसरी शताब्दी के पाण्डु लिपि के सिक्के भी देखने को मिलते हैं।

अगर आप इतिहास और पुरातत्व में रूचि रखते हैं तो फिर यह भोपाल में घूमने की जगह के रूप में आपके लिए सर्वोत्तम जगह हो सकता है।

शौकत महल

भोपाल में घूमने की जगह में से शौकत महल अपनी विचित्र संरचना के लिए काफी प्रशिद्ध है। शौकत महल दुनिया भर में अपनी अनूठी शैली के लिए जाना जाता है। यहाँ आपको इंडो इस्लामिक और यूरोपीय कारीगरी का कॉम्बिनेशन देखने को मिलता है। इस महल की नक्काशी बेहद जटिल है। जिससे इसके कारीगरों की अध्भुत कारीगरी का पता चलता है।

Shokat  Mahal
Source : Shaukat – Mahal

यह भोपाल के रेलवे स्टेशन से मात्र 4 किलोमीटर की दुरी में है वहा से आप ऑटो रिक्शा , टैक्सी किराया लेकर आसानी से अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं .

मोती मस्जिद

यदि आप भोपाल घूमने जा रहे हैं या फिर घूमने का मन बना रहे है तो फिर मोती मस्जिद को अपने लिस्ट में शामिल अवश्य कर लें क्योंकि मोती मस्जिद भोपाल में घूमने की जगह में मस्जिदों के शहर के नाम से मशहूर है।

यह भोपाल में घूमने की जगह में भारत का सबसे प्रशिद्ध इतिहासिक स्थालों जाना जाता है। यह मोती मस्जिद बिलकुल दिल्ली के जमा मस्जिद जैसी है सिर्फ आकर में उससे छोटी है। मस्जिद के बाहरी हिस्सों में आपको गुम्बद देखने को मिलता है।

Moti Masjid
Source : Moti Masjid

मुख्य भवन में दो टावर देखने को मिलते हैं जिसे अद्भुत लाल रंग से डिजाइन किया गया है। यह शहर के बीचों बिच स्थित है इसलिए यहाँ आने में आपको किसी भी तरह के परशानी का सामना करना नहीं पड़ सकता है।

भोपाल के रेलवे स्टेशन के मदद से आप भोपाल के सार्वजिनिक परिवहन तक आप पहुँच सकते हैं। यह परिवहन निगम या बस अड्डा आपको हमीदिया रोड में मिल जाता है।

पुरातत्व संग्रहालय

मध्य प्रदेश के भोपाल में घूमने की जगह में यह पुरातत्व संग्राहलय एक प्रशिद्ध पर्यटन स्थल है। यहाँ शहर के सभी कलाकारों द्वारा बनाई गई मूर्तियों और शिल्पों का प्रदर्शन होता है। इन मूर्तियों के माध्यम से इस राज्य के संस्कृति अच्छी तरह से समझ सकते हैं।

Puratatav Sangrahly
Source : Pinterest

मध्य प्रदेश के भोपल में घूमने की जगह के रूप में प्रशिद्ध यह संग्राहलय कमला पार्क बस स्टेशन से 2.3 किलोमीटर की दुरी पर है और निशातपुर रेलवे से 9 किलोमीटर की दुरी पर है। वहाँ से भाड़े की टैक्सी लेकर आप आगे की यात्रा कर सकते हैं।

साँची स्तूप

साँची स्तूप भोपाल में घूमने की जगह के रूप में प्रशिद्ध और प्रमुख पर्यटन स्थल है। इसका निर्माण सम्राट अशोक द्वारा करवाया गया था। इस स्तूप की प्रशद्धि सिर्फ भोपाल में ही नहीं बल्कि पुरे भारत देश में प्रमुख बौद्ध स्मारक के रूप में होता है।

Sanchi Stupa
Source : Sanchi Stupa

इस स्तूप में विशाल गुम्बद है और उस गुम्बंद में आपको भगवान बुध्द के अवशेष देखने को मिलते हैं। इस स्तूप को आप 8.30 Morning से 5.30 Evening तक दर्शन कर सकते हैं।

भोजेश्वर मंदिर

यह मंदिर मध्य प्रदेश के भोपल से 30 किलोमीटर दुरी पर बसा हुआ है। इस मंदिर को भगवन शिव के समर्पण में बनवाया गया था। इस मंदिर को बनवाने का श्रेय राजा भोज को जाता है जिसने 11वी शताब्दी में इसका निर्माण करवाया था। भोपाल में घूमने की जगह में यह मंदिर काफी प्रशिद्ध मंदिर है ,यहाँ आपको 3 मीटर लम्बा शिवलिंग देखने को मिलता है। इस मंदिर की तुलना गुजरात में स्थित सोमनाथ मंदिर से की जाती है। भोजेश्र्वर मंदिर भोपाल में घूमने की जगह में यह हिन्दुओं का पवित्र और प्रमुख दर्शनीय मंदिरों में से एक है।

Bojeshwar Mandir
Source : Bhojpur Mandir

इस मंदिर के शिवलिंग की ऊंचाई काफी ज्यादा होने के कारण पुजारी को यहाँ पर सीढ़ी लगाकर पूजा अर्चना करना पड़ता है। क्योंकि यह मंदिर पूरी तरह से नहीं बन पाया अन्यथा यह मंदिर आज भारत में हिन्दुओं का सबसे बड़े मंदिर के रूप में जाना जाता।

शिवरात्रि और संक्रांति के महीनो में काफी संख्या में यहाँ भक्तों का भीड़ देखा जाता है। यहाँ दूर दूर से भक्तगन जल चढ़ाने आते है। इस दौरान मंदिर परिसर में एक काफी संदर मेले का आयोजन होता है। जिसमे आपको भक्तों की काफी भीड़ और अपार श्रद्वा देखने को मिलती है। मदिर के खम्भों पर आपको शिव पार्वती, सीता राम, और लक्ष्मी नारायण चित्र देखने को मिलते है जिसके वजह से इसकी खूबसूरती में चार चाँद लग जाता है।

भोपाल का प्रसिद्ध भोजन

सुलेमान चाय

आपने बहुत तरह के चाय के बारे में सुना होगा जैसे मसालेदार चाय, निम्बू चाय, अदरक चाय और शहद चाय। लेकिन सुलेमानी चाय के बारे में न सुना होगा और नहीं ही स्वाद लिया होगा। भोपाल सिर्फ भोपाल में घूमने की जगह के लिए प्रशिद्ध नहीं है बल्कि यह अपने सुलमानि चाय के लिए भी काफी प्रशिद्ध है। सुबह उठते ही इंसान का सबसे ज्यादा जरूरत चाय की ही होती है इसलिए यहाँ आते ही अपने दिन की शुरुआत है।

दाल बाफला

दाल बाफला बिलकुल ही राजस्थान के दाल बाटी जैसा है , क्योंकि इसे बिलकुल उसी तरीके से बनाया जाता है। आटे में दाल को डाल कर पानी में उबला जाता है , फिर घी लगा कर अपने प्रियजनों को खाने के लिए दिया जाता है।

अगर आप भोपाल घूमने की लिए जा रहे है तो इसे चखना बिलकुल भी न भूलें, यकीन मानिये यह आपके यात्रा को और भी यादगार बना देगा।

पोहा-जलेबी

नास्ते के रूप में सुबह सुबह आपको पोहा और जलेबी हर नुकड़ में आसानी से मिल जाएगी। स्थीनिय लोग भी सुबह के नास्ते में पोहा की जलेबी को लेना पसंद करते हैं। आप भी अपने दिन की शुरआत इस मीठे नास्ते के साथ कर सकते हैं।

भोपाली गोश्त कोरमा

यहाँ शाकाहारी और मांसाहारी दोनों के लिए काफी अच्छी व्यवस्था है। लेकिन हम यहाँ बात कर रहे हैं माँसाहारी भोजन के बारे में , भोपल का भोपाली गोस्त कोरमा काफी प्रशिद्ध है। इसका स्वाद आपकी यात्रा को और भी यादगार एवं शानदार बना देगा।

यहाँ के स्थानीय लोगों के लिए काफी पसंदीदा भोजन है, इसके कारण ही यहाँ के लोंगो द्वारा इसे भोपाली के नाम से जाना जाता है। इसे बनाने में मटन का प्रयोग किया जाता है , और तैयार करने में २ घंटे का समय लगता है। इसी वजह से इसका स्वाद अद्भुत है।

भोपाली चिकन कोरमा

मांसाहारी लोगों के लिए दूसरा सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला भोजन भोपाली चिकन कोरमा है। इस व्यंजन को स्वादिस्ट ग्रेवी के साथ धीमी आंच पर बनाया जाता है जिस के कारण इसका स्वाद और भी बढ़ जाता है। यदि आप भोपाल जा रहे हैं तो फिर इसे एक बार जरूर टेस्ट करें।

भुट्टे का किस

भोपाल सिर्फ भोपाल में घूमने की जगह के लिए ही प्रशिद्ध नहीं यही बल्कि यहाँ के भोजन के कारण भी इसकी प्रशिद्धि एक अलग है। आपने भुट्टे का स्वाद अवश्य लिया होगा लेकिन भुट्टे का किस का स्वाद नहीं लिया होगा। भुट्टे को मशाले और मिक्सड दूध के साथ काफी अच्छी तरह से बना कर परोसा जाता है।

बर्फी रसमलाई और हाजी लस्सी वाला

भोपाल सिर्फ शाकाहारी और मांसाहारी भोजन के लिए ही प्रशिद्ध नहीं है। यह अपने मीठे व्यंजन के कारण भी काफी प्रशिद्ध है। यहाँ का रसमलाई पर्यटकों को काफी लुभाता है। इटावा चौक के पास मिलने वाला हाजी अली की लस्सी भी काफी प्रशिद्ध है , पर्यटकों के लिए काफी पसंदीदा होता है। पर्यटकों के लिए हाजी लस्सी वाला का लस्सी और मीठा रास मलाई काफी प्रशिद्ध है।

इन सब के अलवा यहाँ का फालूदा, मावा बाटी और लस्सीवाला का लस्सी, मटर पुलाव हाजी और जलेबी काफी प्रशिद्ध है और पर्यटकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

भोपाल घूमने का सही समय

भोपाल घूमने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च के बीच होता है , क्योंकि इस समय सर्दी का मौसम होता है। बरसात और गर्मी के समय यहाँ घुमने का सारा मजा किरकिरा हो जाता है।

भोपाल कैसे पहुंचे?

क्योंकि मध्यप्रदेश भारत के मध्य में स्थित है और भोपाल मध्य प्रदेश की राजधानी है। इसी कारण यहाँ आपके आने में किसी भी प्रकार के दिकक्तों का सामना नहीं करना पड़ता है। यहाँ आने के लिए तीनो सुविधाएँ उपलब्ध है, सड़क मार्ग, वायु मार्ग और रेल मार्ग जो भी आपको अच्छा लगे अपने बजट और सुविधा के हिसाब से चुन सकते हैं।

वायुमार्ग द्वारा भोपाल कैसे पहुंचे

भोपाल शहर से 10 किलोमीटर की दुरी राजा भोज हवाई अड्डा स्थित है ,जो भारत के सभी छोटे बड़े शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा है। यहाँ पहुँचते ही आपको शहर के अंदर जाने के लिए टैक्सी, ऑटो रिक्शा किराये पर मिल जायेंगे। जिसके मदद से पुरे शहर के भर्मण आप आसानी से कर सकते हैं।

ट्रेन से भोपाल कैसे जाएं

अगर आपका बजट है और आपको ट्रेन से यात्रा करना अच्छा लगता है। तो आपकी जानकारी के लिए बता दे की भोपाल के रेलवे जंक्शन का नेटवर्क देश के सभी बड़े एवं छोटे नेटवर्क से जुड़ा हुआ है। इससे आपको यह फायदा मिलता है की आप भारत के किसी भी स्थान से यहाँ तक आसानी से पहुँच सकते हैं।

बस से भोपाल कैसे पहुंचे

क्योंकि भोपाल मध्य्प्रदेश की राजधानी और मुख्य शहर है। जो की भोपाल में घूमने की जगह में काफी विशेष महत्व रखता है। यह काफी प्रशिद्ध टूरिस्टी जगह है इसलिए यहाँ के सड़क सेवा बहुत सारे राज्यों से डायरेक्टली जुड़ा हुआ है जैसे की इंदौर, मुंबई और दिल्ली से भोपाल के लिए आपको सीधे ही बस मिल जायेंगे। इसके अलावा यदि आप इन शहरों से नहीं हैं तो फिर पहले यहाँ के लिए टिकट बुक करा लें फिर आगे की यात्रा यहाँ जारी रखें।

भोपाल में रुकने के स्थान

भोपाल में रुकने के लिए आपको हर तरह के होटल मिल जायेंगे , आप यहाँ अपनी मर्जी से 2 स्टार होटल से लेकर 5 स्टार होटल किसी भी होटल में रुक सकते हैं। यहां आपको सस्ते महंगे हर तरह के होटल देखने को मिल जायेंगे। आप अपने बजट के हिसाब से जो अच्छा लगे चुन सकते हैं।

भोपाल के कुछ प्रशिद्ध होटल

  • होटल मयूर
  • जहान नुमा पैलश
  • होटल आमोर पैलेस
  • होटल लेक व्यू अशोका
  • होटल सुरेंद्र विलासी
  • होटल सोनाली रीजेंसी
  • होटल पलाश रेजीडेंसी

भोपाल कैसे घूमे?

आप भोपाल किसी भी माध्यम से जा सकते हैं जैसे की रेलयान, हवाई मार्ग और बस। स्टेशन के बाहर पहुंचते ही आपको किराये में बस और टैक्सी मिल जाती है जिसके सहायता से आप स्लो पुरे भोपाल का यात्रा आसानी से कर सकते हैं। 350 से 500 के बीच आसानी से बाइक आपको रेंट पे मिल जाएगी।

यदि आप बुलेट या किस अन्य अच्छे गाड़ी के शौक रखते हैं तो फिर 800 से 1000 रूपये देने होंगे।

और अगर पुरे परिवार के साथ यात्रा का मन बना लिया है तो फिर आप 1000 से 1500 रूपये मिल जायेगा हिसाब से आप किराये का टैक्सी ले कर अपनी यात्रा पूरी कर सकते हैं। काम पैसों में अपनी यात्रा को पूरी कर सकते हैं।

भोपाल के प्रमुख शॉपिंग मार्केट

भोपाल में घूमने के दौरान यदि आप कुछ खरीदारी के शौक रखते हैं तो फिर बिट्टन बाजार, न्यू मार्किट , सराफा बाजर और चौक बजार इन जगहों में आना कभी भी न भूलें। क्योंकि की आप यहाँ आप बेग कपडे जुते और भी अन्य तरह की सामग्री खरीद सकते हैं।

निष्कर्ष

यदि आप भोपाल में घूमने की जगह (Bhopal me Ghumne ki Jagah) को तलाश रहे हैं तो फिर यह लेख आपके लिए काफी मददगार साबित होने वाला है यहाँ आप भोपाल से जुड़ी सारी जानकारी इस लेख में मिल जाएगी।

भोपाल में घूमने की जगह में प्रशिद्ध स्थान कौन सा है , कैसे जाएँ, कब जाएँ कहा रुकें इन सारी चीजों की जानकारी इस लेख में आपको आसानी से मिल जाएगी।

यदि आपका कोई दोस्त है जो भोपाल में घूमने की जगह तलाश रहा है या फिर वहाँ की जानकारी को तलाश रहा है तो फिर इस लेख को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ शेयर करना न भूले।

भोपाल का सबसे फेमस चीज क्या है ?

भोपाल एक टूरिस्टिक जगह है जो की पर्यटकों के लिए काफी पसंद किया जाता है यहाँ देखने की लिए बहुत सारी फेमस चीजें हैं ऊपरी झील ,निचली झील, वन विहार, बिड़ला मंदिर, मानव संग्राहलय, गुफा मंदिर , ताज उल मस्जिद, गोहर महल और शौकत महल।

भोपाल घूमने में कितने दिन का समय लगता है ?

भोपाल में घूमने के लिए 3 दिन और 2 रात काफी है ,इतने दिनों में आप पुरे भोपाल को अच्छी तरह से एक्स्प्लोर कर सकते हैं।

भोपाल का पुराना नाम क्या है ?

भोपाल का पुराना नाम भोज या भोजपाल है जिसका नामकरण राजा भोज के नाम पे हुआ था।

भोपल क्यों प्रशिद्ध है ?

भोपाल अपने झीलों के लिए काफी प्रशिद्ध है , यहाँ कई सारे छोटे बड़े झील हैं , इसलिए इसे झीलों के शहर के नाम से जाना जाता हैं।

भोपाल में सबसे सस्ता क्या मिलता है ?

यहाँ लोग ज्यादातर सस्ते सामानों के लिए आते हैं न्यू मार्किट में कपड़ों के साथ साथ ट्रेडिशनल बटुवा आपको सस्ते दामों में मिल जायेगा।

भोपाल में कोन सी नदी चलती है ?

भोपाल में बेतवा नदी बहती है जो की हमीरपुर के पास बेतवा में मिलती है।

भोपाल में घूमने के लिए सबसे अच्छा समय कोन सा होता है ?

भोपाल में घूमने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फ़रवरी के बीच होता है क्योंकि यह सर्दियों का समय होता है और इस समय यहाँ का मौसम काफी सुहावना होता है।

Leave a comment