10+ चितकुल में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

मेरे इस लेख में आपको चितकुल में घूमने की जगह , जाने का का सही समय और खर्चा इन सारी चीजों की जानकारी काफी सरल शब्दों में मिल जाएगी। बस आपको इस लेख में शुरू से अंत तक बने रहने जरूरत है।

चितकुल में घूमने की जगह ,जाने का समय और खर्चा

अगर आप मेरे तरह ही एक घुमक्क्ड है और आपको घूमने फिरना अच्छा लगता है तो अपने यात्रा की सूचि में चित कुल को जरूर शामिल कर लें।

चितकुल जो की भारत के आखिरी गाँव के रूप में प्रशिद्ध है। जो भारत की तिब्बत सीमा में स्थित है और यह इंग्लिश में इंडिया के लास्ट विलेज के नाम से भी चर्चित है। यह गाँव आपको सांगला से 28 किलोमीटर देखने को मिलती है। यह किन्नौर घाटी में समुद्र तल से 3450 मीटर की ऊंचाई में स्थित है। इस गाँव में आपको मात्र 600 स्थनीय लोग ही देखने को मिलते हैं।

यह जगह काफी छोटी है लेकिन इसकी प्राकृतिक सौन्दर्य एवं अद्भुत हिमालयन नजारा आपको एकदम से स्वर्ग में होने का अहसास दिलाता है। यहाँ आपको चिटकुल में घूमने की जगहों में एक से एक पर्यटनीय स्थल एवं दर्शनीय स्थल देखने को मिलते हैं। जो आपके घूमने के ट्रिप को सचमुच मनोरंजक बना के रखते हैं।

चितकुल एक खूबसूरत हिल स्टेशन है जो की अपने शांत वातावरण , खूबशूरत नज़रों , विशाल चट्टान , नदियाँ , जंगल एवं घांस के मैदान दिखने को मिलते हैं। जिस वजह से यह यहाँ आने वाले पर्यटकों को अपनी करती है।

चितकुल के बारे में रोचक तथ्य

  • चितकुल भारत के अंतिम गांव के रूप में प्रशिद्ध है।
  • चितकुल को भारत का छिपा हुआ गाँव कहा जाता है।
  • इस गांव की समुद्र तल से ऊंचाई 11319 है।
  • यह पूरी तरह से प्रदूषण मुक्त गाँव है।
  • चितकुल तिब्बत सीमा के पास स्थित है।

चितकुल में लोकप्रिय पर्यटक स्थल ( Chitkul Tourist Places in Hindi)

सांगला मेदो

चितकुल में घूमने वाले स्थानों में से यह काफी ज्यादा प्रशिद्ध दर्शनीय स्थल है। यहाँ आपको हिमालय की अद्भुत नजारा देखने को मिलती है जहाँ आप बर्फ से ढके हुए पहाड़ , हरे भरे घास के मैदान और उन मैदानों में कीचड़ के धब्बे खूबसूरती में चार चाँद लगाते हैं। यह यहाँ आपको एकदम से नयेपन का अहसास होता है। वातावरण आपको यात्रा को और भी यादगार बना देता है।

 Sangla Meadow
 Sangla Meadow

यह चितकुल में सबसे ज्यादा पसंद किये जाने वाले जगहों में से एक है। यहाँ आप घूमने के दौरान लाखों की संख्या में पर्यटकों को देख सकते हैं। चितकुल का यह प्रशिद्ध दर्शनीय स्थल अपने शांति एवं खुशहाली के लिए प्रशिद्ध है। यह सांगला घाटी के से भी प्रशिद्ध है। अगर आप चितकुल में भर्मण करने के लिए आ रहे हैं तो यहाँ इस सांगला मेदो का दर्शन करने जरूर जाएँ।

बेरिंग नाग मंदिर

बेरिंग नाग मंदिर चितकुल में घूमने लायक जगहों में से काफी प्रशिद्ध दार्शिनय स्थल है। यह काफी पुराणी एवं ऐतिहासिक मंदिर है। यह अपनी खूबसूरती एवं अध्भुत वास्तुकला के लिए काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। जिस वजह से लाखों की सांख्या में शर्धलुवों का आना जाना यहाँ लगा रहता है।

Shree Bairing Nag Ji Temple
Shree Bairing Nag Ji Temple

बेरिंग नाग मंदिर काफी प्रशिद्ध हिन्दू मंदिर है। जिसमे भगवान जगथ की पूजा की जाती है। चितकुल यात्रा के दौरान यहाँ अगस्त एवं सितम्बर के महीने में आपको फलिच नाम के मेले के भी आनंद लेने का मौका मिलता है। क्योंकि हर वर्ष के इसी महीने में यहाँ पर फलिच नाम के मेले का आयोजन किया जाता है।

कल्पा

चितकुल में घूमने वाले पर्यटन स्थलों कल्पा भी काफी प्रशिद्ध है एवं किन्नौर का मुख्य गाँव है। यहाँ घूमने फिरने के दौरान आप यहाँ एक से एक खूबसूरत मंदिर एवं मठ देख सकते हैं। कल्पा सेब के बगीचों के लिए भी काफी ज्यादा चर्चित एवं प्रशिद्ध है। कल्पा समुद्र तल से 2579 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

 Kalpa
 Kalpa

यहाँ आपको सूर्योदय का अध्भुत नजारा देखने को मिलता है। यह नजारा सचमुच आपके लिए काफी शानदार एवं यादगार होने वाला है। साथ ही यह गांव जीव जंतु, वनस्पति एवं जड़ी बूटियों के लिए भी काफी ज्यादा प्रशिद्ध है।

कमरू किला

कमरू किला चितकुल में घूमने वाले पर्यटन स्थलों में काफी अद्भुत दर्शनीय स्थल है। अगर आप ऐतिहासिक चीजों में रूचि रखते हैं तो आपको यह कामरु किला काफी ज्यादा पसंद आने वाला है। आज के समय में इसे एक मंदिर में बदल दिया गया है। जो की काफी विशाल मंदिर है। इस मंदिर में कामख्या देवी की पूजा की जाती है। यहाँ आप तीसरी मंजिल में देवी की मूर्ति को देख सकते हैं। जो की काफी खूवबसूरत है।

Kamru Fort
Kamru Fort

मंदिर के सामने ही भगवान बुध की बड़ी सी प्रतिमा राखी हुई है ,जिसे की पर्यटकों के द्वारा काफी ज्यादा पसंद किया जाता है। और यह पर्यटक के बीच आकर्षण का केंद्र है।

बसपा नदी

बसपा नदी चितकुल में घूमने वाले स्थानों में काफी खूबसूरत पर्यटन स्थल है। अगर आपको रोमांचक गतिविधियों का शोक है तो आपको यह जगह आपको काफी ज्यादा पसंद आए वाला है। अगर आप शहर के भीड़ भाड़ से दूर शांत जगह की तलाश में हैं तो यहाँ आपको जरूर आना चाहिए।

 Baspa River
 Baspa River

अगर आपको फोटोग्राफी का शोक है तो यह जगह आपके स्वर्ग से काम नहीं है। यहाँ आपको इंद्र धनुष के शानदार नज़ारे देखने को मिलते हैं। पहाड़ों के मध्य का जो इंद्र धनुष है उसकी खूबसूरती सचमुच काफी अद्भुत होती है। यहाँ आने वाले पर्यटक इसे अपनी कैमरे में कैद करना नहीं भूलते हैं। अगर आप यहाँ के लिए आ रहे हैं तो इस नजारे को अपने कैमरा में कैद करना मौका बिलकुल भी न छोड़े।

चितकुल में यात्रा के दौरान आप क्या कर सकते हैं –

हिमाचल प्रदेश के चितकुल में घूमने वाले पर्यटन स्थलों में आप घूमने फिरने के साथ बहुत सारी गतिविधियों का भी आनंद ले सकते हैं –

प्राकृतिक सौन्दर्य

चितकुल अपने प्राकृतिक सुंदरता के लिए काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। यहाँ अद्भुत प्राकृतिक वातावरण एवं इसकी सुंदरता आपके मन को मोह लेती है। यहाँ आपको खूबूसरत वादियाँ , वन्य जीव एवं नदियाँ देखने को मिलती है।

ट्रेकिंग

यहाँ चितकुल के आसपास आपको कई ट्रेकिंग मार्ग देखने को मिल जाते हैं। ट्रेकिंग के मदद से आप यहां की अद्भुत खूबसूरती का मजा काफी करीब से ले सकते हैं। ट्रेकिंग के लिए आपको यहाँ एक से एक ट्रैकिंग ट्रेक मिल जाते हैं। कुछ प्रमुख ट्रैकिंग के नाम इस प्रकार से हैं – जाकु ट्रेक पॉइंट , लामबा लामबडोर्जी ट्रेक एवं किन्नौर का किनारी ट्रेक।

पूजा एवं ध्यान

चितकुल में आपको एक से एक हिन्दू मंदिर देखने को मिल जाते हैं जहाँ आप काफी अच्छी तरीके से पूजा अर्चना कर सकते हैं।

फोटोग्राफ़ी

अगर आपको फोटोग्राफी का शोक है तो आप यहाँ पर फोटोग्राफी के हर शौक को पूरा कर सकते हैं। और अपने यात्रा को यादगार बना सकते हैं।

पर्वतीय स्पोर्ट्स

चितकुल के बर्फीले पहाड़ों में आप यहाँ पर आयोजित होने वाले रोमांचक खेलों जैसे की स्काइंग , घुड़ड़गाड़ी , माउंटेन बाइकिंग एवं पैराग्लाइडिंग।

चितकुल का प्रसिद्ध भोजन

अगर आप हिमाचल प्रदेश चितकुल में घूमने के लिए जा रहे हैं तो यहाँ के प्रशिद्ध भोजन तुड़किया भात को स्वाद लेना कभी भी न भूलें , जो कि यहाँ के लोंगो के द्वारा काफी ज्यादा पसंद किया जाता है। इसे देशी घी के साथ अपने मेहमानों को दिया जाता है। जो की इसके स्वाद को और भी ज्यादा बड़ा देता है।

यहाँ आने के बाद इसके स्वाद का मजा लेना कभी भी न भूलें , कहा जाता है यदि गलती से भी कोई भी पर्यटक इसके स्वाद को चख लेता है तो वह इसके स्वाद को कभी भी भूल नहीं पता है। यहाँ और भी कुछ प्रमुख भोजन है इस प्रकार से भेय, धाम , मद्रा खट्टा। हिमाचल प्रदेश का यह काफी ज्यादा प्रशिद्ध भोजन है। यह वापको हिमाचल प्रदेश के हर गल्ली नुक्क्ड़ में मिल जाता है।

चितकुल में रुकने की जगह

अगर आप अकेले या फिर अपने परिवार वाले के साथ चितकुल घूमने के लिए जा रहे हैं और आप रुकने की जगह की तलाश में है तो आपकी जानकरी के लिए बता दें की यहाँ आपको सस्ते एवं महंगे हर तरह होटल मिल जाते हैं। आप अपने बजट एवं सुविधा के अनुसार जो भी अच्छा लगे उसे चुन सकते हैं। और यहाँ के यात्रा का आनंद ले सकते हैं।

यहाँ आपको 500 से 1500 तक की होटल बड़ी आसानी से मिल जाती है। जहाँ आपको होटल में ठहरने के लिए किसी भी प्रकार की कठिनाई का सामना करना पड़ता है।

चितकुल जाने का सही समय

चितकुल में घूमने वाले पर्यटन स्थलों के दर्शन के लिए आप कभी भी वर्ष के किसी भी महीने में जा सकते हैं। इसके बावजूद भी यदि आप किसी विशेष ,मौसम में जाना चाहते हैं तो आपके लिए मई से अक्टूबर का महीना सबसे शानदार होता है। इसके अलावा चितकुल भारी बर्फ बारी के 6 महीने तक अक्टूबर से फरवरी के लिए बंद रहता है।

इसलिए यहाँ घूमने के लिए सबसे अच्छा समय मई से अक्टूबर के बीच होता है। इस समय आप यहाँ के घूमने फिरने के सारे जगहों को काफी अच्छी भर्मण कर सकते हैं। इस समय आपको चितकुल में घूमने फिरने के दौरान किसी भी तरह के समस्या का सामना करने नहीं पड़ता है।

चितकुल कैसे पहुंचे?

अब बात आती है की चितकुल तक पहुँचने की यहाँ आप सड़क मार्ग , रेलवे मार्ग एवं हवाई मार्ग किसी भी माध्यम से जा सकते हैं। बस आपको हर किसी के बारे में सही जानकारी होनी चाहिए की कौन सा आपके बजट एवं लोकेशन से सही रहता है फिर आप आगे की यात्रा बड़े ही इत्मीनान से तथा काफी मनोरजंक ढंग से पूरा कर सकते हैं।

रेल मार्ग के द्वारा

अगर आपको रले का सफर अच्छा लगता है और आप रेलवे यात्रा के शौकीन है तो आपकी जानकारी के लिए बता दें की सांगला तक जाने के लिए आपको कोई भी रेलवे स्टेशन नहीं मिलने वाला है। इसलिए सांगला जाने के लिए इसके करीबी कालका रेलवे स्टेशन में उतरना होता है। जो की शिमला में स्थित है।

शिमला के कालका रेलवे स्टेशन से सांगला तक की यात्रा करने के लिए आपको बस एवं टैक्सी दोनों ही मिल जायेंगे , आप चाहे तो आगे की यात्रा आप बाइक से भी कर सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा

अगर आपको सड़क मार्ग से यात्रा करना अच्छा लगता है तो आपको और आप दिल्ली हरियाणा , पंजाब एवं चंडीगढ़ से हैं तो आपके लिए बहुत बड़ी खुशखबरी है। यहाँ से आप सांगला के लिए एच आर टी सी बस सर्विस का आनंद ले सकते हैं जो की सांगला के लिए रोजाना आपना सर्विस देती है। अगर आप इन राज्यों से नहीं हैं तो पहले आपको इन राज्यों तक जाने का योजना बना लेना चाहिए। फिर आप बड़ी आसानी से चितकुल की यात्रा कर सकते हैं और चितकुल मजा ले सकते हैं।

हवाई मार्ग

अगर आपको हवाई यात्रा करना अच्छा लगता है और आपका बजट अच्छा खासा है। तो आप चितकुल के नजदीकी हवाई अड्डा शिमला के लिए उड़ान भर सकते हैं। शिमला का यह हवाई अड्डा चितकुल से 238 किलोमीटर की दुरी पर स्थित है। हवाई अड्डा से बाहर आपको सांगला के लिए काफी सारी टैक्सी बस मिल जाएगी , जिसके सहायता से आप बड़े आराम से आगे की यात्रा को पूरा कर सकते हैं।

यहाँ आपको एक और हवाई अड्डा देखने को मिलता है जो की सांगला से 3 : 30 घंटे की दुरी पर स्थित है। जो की भारत के बड़े बड़े शहरों से चंडीगढ़ , अहमदाबाद , शिमला , धर्मशाला एवं मुंबई के हवाई अड्डों से काफी अच्छी तरह से जुड़ा है।

चितकुल में घूमने का खर्चा

चितकुल में घूमने जाने वाले पर्यटकों की संख्या लाखों में होती है। इसलिए यह अब पहले की तरह सस्ता नहीं है। फिर यह ज्यादा महंगा भी नहीं है यहाँ आप काफी काम खर्चे में भी बड़ी आसानी से चितकुल में घूमने वाले पर्यटन स्थलों एवं दर्शनीय स्थलों के भर्मण कर सकते हैं।

चितकुल काफी छोटी जगह है यहाँ आप 15 से 20 हजार रूपये खर्चा करके अपने ट्रिप को शानदार बना सकते हैं। इतने कम ख़र्चे में आप का सफ्ताह का ट्रिप आसानी से कर सकते हैं।

चितकुल घूमते वक्त अपने साथ क्या रखें?

जैसा की आपको पहले ही जानकारी मिल चुकी है जो की चितकुल में घूमने के वाले पर्यटन स्थल पहाड़ी क्षेत्रों में स्थित है। और यहाँ का मौसम हमेशा बदलता रहता है। इसलिए आपको यहाँ हर तरह के कपड़ों को अपने साथ रखने का जरूरत होता है क्योंकि यहाँ मौसम बदलते देर नहीं लगती है।

यह जगह आपने भरी बर्फबारी के कारण प्रशिद्ध है। कहने का मतलब यह एक ठंडा प्रदेश है इसलिए आपने साथ आपको ज्यादातर ठंडे कपड़ों को साथ रखने का जरूरत है। कुछ छोटे मोठे दवाइयाँ जो की आप हर ट्रिप में अपने साथ रखते हैं। जैसे की दर्द बुखार एवं सर्दी में इस्तेमाल किया जाने वाले दवाइयों को अपने साथ जरूर रखें। खाने पीने की चीजों को भी अपने साथ रखना न भूलें।

FAQ

चितकुल में जाने का सबसे अच्छा समय क्या है ?

चितकुल जाने का सबसे अच्छा समय गर्मियों का समय होता है जो की मार्च से मई के महीनों में होता है।

चितकुल क्यों प्रशिद्ध है ?

चितकुल ही वह आखिरी गाँव है जो की जहाँ पर पांडव अज्ञातवास के दौरान रुके हुए थे।

चितकुल कहाँ पर स्थित है ?

चितकुल हिमाचल प्रदेश की किन्नौर जिले में बसा हुआ खुबशुरत सा हिल स्टेशन है।

चितकुल कितना ऊँचा है ?

चितकुल की ऊंचाई बसपा नदी से 11400 फ़ीट ऊँचा है।

चितकुल में कौन सी नदी बहती है ?

चितकुल में बसपा नदी बहती है।

निष्कर्ष

इस लेख में चितकुल में घूमने की जगहों(Chitkul Me Ghumne ki Jagah) से सम्बंधित सारी जानकारी आपको काफी सरल शब्दों में समझने की कोशिश की गयी है।

आशा करते हैं की मेरे इस लेख में दी गयी जानकारी आपके लिए काफी ज्यादा मददगार साबित रही होगी।

अगर मेरा यह लेख आपको पसंद आया हो , तो इसे अपने सोशल मिडिया के अकाउंट में शेयर करना कभी भी न भूलें। साथ ही यदि इस लेख से सम्बंधित आपको किसी भी प्रकार का समस्या या समाधान आपके दिमाग में चल रहा हो तो इसे कमेंट सेक्शन में रखना बिलकुल भी न भूलें।

Leave a comment