10+ कसौली में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

kasauli me ghumne ki jagah : इस लेख में आप हिमाचल प्रदेश के कसौली में घूमने की जगह , खर्चा और जाने के समय से सम्बन्दित सारे सवालों के जवाब आसानी से जान पाएंगे। हिमचाल प्रदेश की एक एक जगह पर्यटकों को लुभाने के लिए काफी है।  यहाँ आपको चारों तरफ से ऊचें ऊँचे  पर्वतों के साथ साथ हरियाली भी देखने को मिलेगी। यहाँ आप 12 महीनो में कभी भी आ सकतें हैं , क्योंकि की यहाँ का तापमान साल भर काफी सुहाना रहता है। हिमाचल परदेश के कसौली की बात ही कुछ अलग होती है यहाँ कसौली में घूमने की जगह के रूप में काफी सारी प्रशिद्ध जगह देखने को मिलती है क्योंकि यहाँ का प्राकृतिक सौन्दर्य काफी उच्च लेवल का होता है।  लेकिन इस लेख में आप कसौली के बारे म जानेंगे।  

शिमला और  चंडीगड़ के मार्ग में बसा कसौली हिमचाल प्रदेश का एक छोटा सास हिल स्टेशन है।  यह देवदार के जंगलों और हिमालय के निचली हिस्सों में बसा है।  इसके शांत वातावरण और लुभावने  यह पर्यटकों को काफी आकर्षित करता है।  कसौली विक्टोरियन इमारतों के लिए भी काफी प्रशिद्ध है।  यह हिल स्टेशन शहर के भाग दौड़ से दूर शांत  और शुकुन वाला माहौल देता है।  इस हिल स्टेशन  में रोप वे और ट्रैकिंग का आप भरपूर मजा ले सकते हैं। 

कसौली में घूमने की जगह, जाने का समय  और खर्चा

इस लेख में आपको कसौली में घूमने की जगह के बारे , कसौली के इतिहास के बारे में , कसौली का रोचक तथ्य तथा कसौली में जाने का समय के बारे में, आप कसौली कैसे जाएँ , कहा रुकें इन सारी  चीजों का सम्पूर्ण जानकारी इस लेख में आपको आसानी से मिल जायेगा। 

कसौली में घूमने की जगह | Kasauli Me Ghumne ki Jagah

Contents

कसौली के बारे में रोचक तथ्य 

आप इस  बात से भली भांति परिचित हैं , हर जगह का अपना एक कुछ न कुछ इतिहास  होता है।  ठीक उसी तरह से  कसौली का भी अपना इतिहास है और वह भी काफी खुबसुररत है।  और इस प्रकार से है।  

  • कसौली हिमाचल प्रदेश के सोलेम जिलें में बसा  हुआ छोटा सा हिल  स्टेशन है।  जो की समुन्दर के तल से  5889 फ़ीट की की उचाई पर्वतों के बीच बसा हुआ शहर है।  
  • 18  वी शताब्दी में राजनैतिक परिस्थितियों के कारन रेवाड़ी के राजपूत कसोल में आके बेस थे।  
  • बाद में यही कशूल   गांव  कसौली के नाम से प्रशिद्ध हुआ।  
  • 1842 ईस्वी में इसी जंगल में ब्रिटिश सरकर ने सैनिक छावनी के रूप में एक हिल स्टेशन का स्थापना करवाया था।  
  • कसौली अपनी सुंदरता के लिए  आज भी सुप्रसिद्ध है।  
  • कसौली अपनी विक्टोरिया इमारतके लिए  एक अलग ही पहचान रखता है।  
  • कसौली अपनी गिल्बर्ट ट्रेल के लिए भी काफी प्रशिद्ध है , जो की 1500 मीटर लम्बी है और पथरीली और सकरी सड़क के रूप में है।  
  • कसौली हिमालय के निचे बसा हुआ एक बहुत ही सूंदर सा हिल स्टेशन है। 
  • यहाँ आपको पर्वतीय क्षेत्रों में सैनिक छावनी भी देखने को मिलेगी।  
  • कसौली में आपको गोरखा फोर्ट भी देखने को मिलेगा , जिसे अंग्रेजो से युद्ध हरने के दौरान बनाया था।  

कसौली में घूमने की जगह काफी खूबसूरत   खुबशुरत , लुभावना  और मनभावना होता है। इसके इलावा यहाँ कुछ इतने महत्वपूर्ण जगह है , जो अपनी एक अलग ही विशेशता के लिए  प्रशिद्ध है।   जिसे आप चाह कर भी नजर अन्दाज नहीं कर सकते है जिसे की करिस्ट चर्च , सनसेट पॉइंट मंकी पॉइंट , ट्रिबल  ट्रेल, गोरखा किला,  बालक नाथ मंदिर, गुरुनानक जी गुरुद्वारा, कसौली ब्रूआरी , मॉल रोड कसौली का सबसे खूबसूरत प्वॉइंट बड़ोक।

कसौली में लोकप्रिय पर्यटक स्थल ( Kasauli Tourist Places in Hindi)

क्राईस्ट चर्च 

 कसौली के पास बसा यह चर्च काफी लोकप्रिय पर्यटन स्थल है जो की कसौली में घूमने की जगह के रूप में काफी प्रशिद्ध है।  इस चर्च का निर्माण अंग्रेजों ने गोथिक शैली में 1854 ईस्वी में करवाया था।  इस चर्च में लगी कांच की छिड़कियाँ इसकी सुप्रशिधि का प्रमुख कारण है।  क्राइस्ट चर्च सेंट बरनबास और सेंट फ्रांसिस के समर्पण में बनाया गया है।  कांच आकर में बानी यह विचित्र आकर में बानी यह विचित्र संरचना वाली चर्च  कसौली के बीच में बसा हुआ है जो की काफी सूंदर और स्वच्छ है।  कसौली में यह चर्च काफी पसन्दीदा और पर्यटकों की दृस्टि से काफी महत्वपूर्ण जगह है।   

Christ Church  kasoli me ghumne ki jagh
Source : Christ Church

मंकी पॉइंट 

कसौली में बसा यह पर्यटक स्थल कसौली का सबसे ऊँचा पर्यटक स्थल है और कसौली में घूमने की जगह के रूप में काफी फेमस है।  जहाँ से आप पूरी कसौली का  सूंदर नजारा बड़ी आसानी से ले सकते हैं।  इस स्थान के बारे में एक अलग मान्यता है रामायण के समय में जब मेघनाथ के द्वारा लक्समन को मूर्छित किया गया था तब हनुमान जी संजीवनी बूटी लेने के लिए हिमालय पर्वत पे आये थे।  पर्वत उठाते समय उनका एक पैर यहाँ पे पड़ा था।  

Moneky point kasoli me ghumne ki jagh
Source : Monkey Point

और यह पैर के आकर का बना हुआ बर्फ से ढका बहुत ही खूबसूरत जगह है। यहाँ हनुमान जी का काफी खूबसूरत मंदिर भी है जहाँ आपको काफी संख्या में बंदरों को आठ खेलियों करते देख सकते हैं।  यहाँ का मैनेजमेन्ट और संचालन भारतीय वायुसेना के पास होता है जिसके लिए सबसे पहले आपको यहाँ जाने के लिए सेना से परमिट लेना होता है।  

गोरखा किला 

यह गोरखा किला सुबाथू पहाड़ी में बसा  है जो की कसौली में घूमने की जगह के रूप महत्वपूर्ण पर्यटन स्थल है। जो गोरखवों के शौर्य का प्रतीक है और समुन्दर के 4500 फ़ीट उचाई पर बसा है।  पर्यटकों के लिए काफी आकर्षक जगह है।  इसका निर्माण 19 वीं सदी  गुरखाओं के सेनापति अमर सिंह तापा ने करवाया था।  यहाँ आप 180 साल पुराणी तोपें देख सकते है जो पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है।  1857 के युद्ध में गुरखावों के हरने के बाद इस किले को  ब्रिटिश सरकार ने अपने कब्जे में क्ले लिए था। 

Gurakha Fort Kasoli me ghumne ki jagah
Source : Gurakha Fort

अब यह किला भारतीय सेना के प्रशिक्ष्ण का केेन्द्र है जो नीलगिरि के जंगलों से घिरा हुआ है।  

ट्रिंबले ट्रेल रिजॉर्ट 

ट्रिम्बल ट्रेल कसौली में  बसा दो पहाड़ियों के बीच बसा अनूठा शहर है।  जो प्रकृति का अनूठा सौन्दर्य प्रदर्शित करता है।  यह शहर का काफी मनमोहक और आकर्षक हिस्सा हैऔर कसौली में घूमने की जगह के रूप में काफी प्रशिद्ध है   यह काफी शांत शहर है और शहर के भाग दौड़ से काफी दूर है।  रोप वे की वजह से आप दो पहाड़ियों के बीच की दुरी आसानी से 10 में तय कर सकते हैं।  रोपवे देवदार की जंगलों और छोटी छोटी पहाड़ियों के ऊपर से जाती है इसलिए इस रोपवे   की यात्रा काफी रोमांचकारी होता है।   टिम्बर ट्रेल में रोमांचकारी रोपवे, इसका अनूठा और बेजोड़ प्राकृतिक सौन्दर्य तथा कौशल्या नदी इसके खूबसूरती में चार चाँद लगता है।  

Timber Trail Resort kasoli me ghumne ki jagah
Source : Timber Trail Resort

सनसेट पॉइंट 

यह सनसेट  गिल्बर्ट ट्रेल के नाम से प्रशिद्ध है।  जो कसौली में घूमने की जगह में सबसे खूबसूरत मनमोहक और आकर्षक जगहों में से एक है।  यहाँ हर रोज सैकड़ों की संख्या में लोग आते है, सूर्योदय और सूर्यास्त का मजा लेते हैं।  इसे अपने अपने कमरे में कैद करके इसे यादगर बनाते है .

Sunset point kasoli me ghumne ki jagh
Source : Sunset Point

 यह सनसेट प्रकृति की गोद   में बसा है जो  देवदार कै सूंदर जंगलों का लुभवना दृश्य  दिखता है।  यह सिर्फ पर्यटकों का नहीं स्थानीय  लोगों का भी पसंदीदा  जगह  है।  शंकुधारी पेड़ो के जंगल, सूंदर वादियों , बर्फ से ढके ऊँचे पर्वतों के कारन यहाँ आने वाले हर पर्यटकों के लिए यादगार पल होता है।  

कृष्ण भवन मंदिर 

यह एक अद्भुत मंदिर है जो चर्च संरचन में बना है , इस मंदिर को इम्पेरियल लार्ड ने 1926 को बनवाया था। यह मंदिर भारतीय यूरोपीय वास्तुकला को प्रदर्शित करता है और यह स्थापित शैली का भी बेजोड़ उदाहरण है।  इस मंदिर की विशेष विशेषता यह है की इसकी अध्भुत  वास्तुकला और दो अनूठी स्तापत्य शैली का मिश्रण पर्यटकों को आशर्चय चकित करता है और यह मंदिर कसौली में घूमने की जगह में सबसे पवित्र मना जाता है ।  इस मंदिर का खुलने का समय सुबह 6 बजे और शाम 7 बजे होता है।  भगवान श्री कृष्ण के मंदिर के कारन कसोली की खूबसूरती में चार चाँद लग जाती है।  यह कसौली शहर के बीच स्थित है और यह पर्यटकों के लिए आकर्षण  का केन्द्र है। 

Krishna Bhawan Mandir Kasoli Me Ghumne ki jagah
Source : krishna Bhawan Mandir

श्री बाबा बालक नाथ मंदिर 

कसौली में घूमने की जगह में सबसे सुप्रसिध मंदिरों में से एक है बाबा बालक नाथ मंदिर भी है।  यह मंदिर गुफा के आकर में बना ग्रेनेर हिल में बसा है।  बाबा बालक नाथ को भगवन शिव के पुत्र कार्तिकेय का अवतार कहा जाता है। इसका एक धार्मिक मान्यता यह है की यदि निसंतान दम्पति आयन आकर मनत मांगे तो उसे संतान प्राप्ति का सुख अवश्य मिलता है।  यह धार्मिक स्थल और पर्यटन स्थल दोनों के रूप में काफी पसंद किया जाता है। 

Baba Balak Nath Temple Garkhal
Source : Baba Balak Nath Temple Garkhal

श्री गुरु नान जी गुरुद्वारा 

श्री गुरु नान जी गुरुद्वारा सफ़ेद संमरमर से बना काफी खूबसूरत गुरुद्वारा है।  यह गुरुद्वारा धार्मिक और दर्शनीय स्थल दोनों के रूप में प्रशिद्ध है।  

यह गुरुद्वारा घरखाल बाजार में स्थित है जहा हर रोज हजारों की संख्या में पर्यटक और श्रद्धालु माथा टेकने आते हैं।  रविवार के दिन यहाँ विशेष तरह के कार्यकर्म  का आयोजन होता है। इस गुरुद्वारा की चकाचोँद पर्यटकों के लिए काफी आकर्षक होता है।  यदि आप कसौली में घूमने की जगह ढूंढ रहे हैं तो गुरुद्वारा के सैर करना बिलकुल भी न भूलें। यहाँ रहने के भी काफी अच्छी व्यवस्था भी है।  

Gurudwara Shri Guru Nanakji Kasoli me Ghumne ki jagah
Source : Gurudwara Shri Guru Nanakji

कसौली घूमने जाने का सही समय 

हिमाचल प्रदेश के कसौली में बसा सुंदर सा हिल स्टेशन सालो भर पर्यटक को अपनी और आकर्षित करते रहते हैं। इसका सबसे मुख्य कारन है यहाँ का प्राकृतिक सौन्दर्य।  कसौली एक ऐसी जगह है जहाँ आप सालों भर कभी भी घूमने आ जा सकते है।  

गर्मियों का समय पर्यटकों के लिए सर्वोत्तम होता है क्योकि यह एक ठंडा प्रदेश है जो की गर्मियों में आपको काफी राहत देता है।  अगर आप एडवेंचर के शौकीन हैं तो आपका मानसून में भी स्वागत है।  

कसौली में घूमने की जगह की बात करें तो सालों भर आप कभी भी आ जा सकते हैं यहाँ का रोमांचकारी माहौल सालों भर पर्यटक को अपनी और खींचता है।  

कसौली में स्थानीय भोजन 

हिमाचल प्रदेश का कसौली सिर्फ कसौली में घूमने की जगह के रूप में प्रशिद्ध नहीं है यहाँ का भोजन भी काफी मशहूर है कसौली के होटलों रेस्टोरेंट और भोजनालयों में हिमाचली भोजनो के साथ साथ आपको पंजाबी भोजन भी जायदातर मात्रा में देखने को मिलेगा।  यहाँ आपको स्थानीय भोजन के रूप में खास खास का  हलुवा, कड़ी और सिद्धू ( एक तरह का ब्रेड ) मिलेगा जो काफी स्वादिस्ट होता है।  

पेय पदार्थों के रूप में  आप ग्रीन जिंजर टी , जो दाल चीनी और मसालों से बनी होती है लेना कभी भी न भूलें। यात्रा के द्वारा यह आपके मन और शरीर दोनों को तरोताजा रखता है।  यहाँ के चाय का स्वाद हिमचाल के यात्रा को और भी सुखद बना देता है।  

यहाँ आपको फ़ास्ट फ़ूड के रूप में आलू टिक्की, कचोरी, समोसे, छोले भठूरे और ब्रेड पकोड़े आदि मिलेगा।  

जो भी आपको पसंद आये उसका आप भरपूर मजा ले सकते है। 

 कसौली में रुकने की जगह 

हिमाचल प्रदेश के कसौली में घूमने की जगह की सांख्य बहुत ज्यादा होने के कारण यहाँ पर्यटकों की सांख्या काफी होती है। यहाँ आपको गेस्ट हाउस , होटल और रिसोर्ट भी बहुत सारे मिलजाएँगे।  कसौली में आपको सस्ते और महँगे दोनों के तरफ के होटल मिल जायेंगे आप अपनी बजट और लोकेशन के हिसाब से जो भी अच्छा लगे उसे चुन सकते हैं।  

कसौली कैसे पहुंचे 

 कसौली से चंडीगढ़ की दुरी 65 किलोमीटर और कालका की दुरी 40 किलोमीटर है।  कसौली का नजदिकी हवाई अड्डा चंडीगढ़ है और नजदीकी रेलवे स्टेशन कालका है।  कसौली के लिए निकटम अंतरास्ट्रीय  हवाई अड्डा नई दिल्ली है और यहाँ से आपको आसानी से कसौली  के लिए टैक्सी और बसें मिल जाएगी।  यहाँ का सड़क भी काफी अच्छा है।  

फ्लाइट  से 

Flight

कसौली के लिए नजदीकी एयरपोर्ट चंडीगढ़ है जो की  भारत के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। दिल्ली,  मुंबई,  कोलकाता और  चेन्नई  अपनी बजट और लोकेशन के हिसाब से आप अपने शहर से कसौली के लिए ट्रैन पकड़ सकते हैं।  

सड़क  मार्ग से 

कसौली के लिए हिमाचल प्रदेश और आस पास के शहरों से काफी बसें 24 ऑवर चलती है आप अपनी लोकेशन और बजट के हिसाब से जैसे चाहें वैसा  सकते हैं।  

ट्रैन से 

कसौली का नजदीकी रेलवे स्टेशन कालका है जो की देश कई अन्य बड़े शहरों  से जुडी हुई है जिसे की दिल्ली मुंबई और कोलकाता।  आप कही से भी नजदीकी रेलवे स्टेशन कालका के लिए ट्रैन बुक कर सकते है।  हिमालियों कि पहरियों से ट्रैन का सफर आपको काफी रोमांचकरी अनुभव देता है।

निष्कर्ष

यहाँ इस लेख के माध्यम आप हिमचाल प्रदेश के छोटे से हिलस्टेशन कसौली में घूमने की जगह(Kasauli Me Ghumne ki Jagahके सभी प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में जानेंगे साथ ही , आप यहाँ कैसे जाएँ , कहा रुकें किस तरह से घूमने इन सारे सवालों के जवाब आप को इसी लेख में मिल जायेंगे।

इन सब के अलावे भी किसी तरह एक सवाल यदि आपके मन में हो तो में पूछना न भूलें हर संभव आपका सहायता किया जायेगा।

साथ ही यदि आपका कोई भी मित्र या साथी जो कोई भी हो और कसौली में घूमने की जगह के बारे में जानने को इच्छुक हो तो फिर उन्हें यह लेख शेयर करना न भूलें।

  

कसौली जाने के लिए सबसे अच्छा समय कोन  सा है?

कसौली में घूमने के लिए गर्मियों का मौसम सबसे बेस्ट होता है क्योंकि यहाँ का मौसम सालों भर सुहावना होता है।

कसौली जाने के लिए कितना समय  चाहिए ?

कसौली घूमने के लिए 2 रातें और 3 दिन काफी होता  है।  सनसेट पॉइंट,  सन राइज पॉइंट, मंकी पॉइंट गिबर्ट ट्रेल इन सब आकर्षक जगहों के बारे में पता करने के लिए आपको एक दिन अवश्य देना होगा।  

क्या अगस्त कसौली जाने का अच्छा समय है ?

कसौली जाने के लिए मानसून वाकई बहुत अच्छा समय होता है लेकिन अगस्त का  महीना सही नही होता है।  क्योंकि इस महीने में अत्याधिक बारिश होने क सम्भावन होता है जिसके कारन आपको गर्मी और आर्दता का सामना करना पड़ सकता है , जिसके आप अपने रूम में ही पैक रहेंगे और यात्रा करने से वंचित रहेंगे।  

क्या कसौली में बर्फ़बारी होती है ?

कसौली में बर्फ़बारी होती है लेकिन एक विशेष समय में साल भर नहीं।  दिसंबर के अंत में और जनवरी फरवरी के शुरुवात में , यहाँ काफी ज्यादा बर्फबारी होती है।  

कसौली की यात्रा सुराक्षित क्यों नहीं है ?

कसौली के यात्रा सुरक्षति नहीं है क्योकि यहाँ काफी ज्यादा भूस्खलन होती है।  

क्या जून में कसौली जाना अच्छा है ? 

कसौली घूमने के लिए साल का सबसे अच्छा  महीना गर्मियों कही मना जाता है, जो की मई जून जुलाई में पड़ता है।  बस जलवायु को  हुए अपने नजर में रखते हुए अपने यात्रा की योजना बनानी है।  

Leave a comment