10+ मथुरा में घूमने की जगह और दर्शनीय स्थल

Mathura Me Ghumne Ki Jagah : प्राचीन काल से ही भारत को ऋषि मुनियों संतो और महात्माओं का देश कहा जाता है। इस लेख में आप उत्तर प्रदेश के मथुरा में घूमने की जगह के बारे में विस्तार से जानकारी मिलने वाली है , मथुरा जो की श्री कृष्ण जन्मभूमि के लिए सिर्फ भारत में ही नहीं पुरे विश्व में प्रशिद्ध है इसलिए यहाँ आपको काफी संख्या में धार्मिक स्थल और मंदिरें देखने को मिलते हैं। प्राचीन समय से लेकर अब तक इन मंदिरों और धार्मिक स्थलों की अनेकों चमत्कार आपको यहाँ देखने को मिलते हैं। इन मंदिरों और पवित्र स्थलों के अनेकों चमत्कार आपको पुराणों तथा ग्रंथो में पड़ने को मिलता है। इन्हीं में से एक नाम उत्तर प्रदेश शहर के मथुरा का जो भगवान कृष्ण की लीलाओं के कारण जाना जाता है।

मथुरा में घूमने की जगह जाने का समय और खर्चा

इस लेख के माध्यम से आप मथुरा में घूमने की जगह और वहां के दर्शनीय स्थलों के बारे में जानने को मिलेगा। इस लेख में आपको भगवान श्री कृष्ण की जन्मस्थली के बारे में विस्तार से जानने को मिलेगा। हिन्दू धर्म ग्रंथों में रामायण महाभारत , पुराणों में भगवान श्री कृष्ण का उल्लेख हर जगह देखने को मिलता है। क्योंकि यह भगवान श्री कृष्ण की जन्म भूमि है इसलिए इसका पुरे भारत में प्रशिद्ध है। यहाँ सालों भर पर्यटकों का तथा भक्तगणों का भीड़ देखने को मिलता है।

यहाँ आपको धार्मिक स्थलों के साथ साथ कई पर्यटन स्थल, दर्शनीय स्थल और भी कई तरह की झीलें देखने को मिलती है। जहाँ काफी सांख्या में पर्यटकों का भीड़ देखने को मिलता है। इस लेख के अंत तक आपको मथुरा में घूमने की जगह और जाने से सम्बंधित सारी जानकारी आपको आसानी से मिल जाती है। बिना समय गवाये और बिना स्किप किये आप शरु से अंत तक इस आर्टिकल में बने रहें , हमारा यह लेख आपके लिए काफी ज्यादा हेल्पफुल रहने वाला है।

मथुरा से जुड़े तथ्य

  • भारत के उत्तर प्रदेश में स्थित मथुरा जिला भगवान श्री कृष्ण की जन्मस्थली के रूप में काफी ज्यादा प्रशिद्ध है।
  • मथुरा शहर का जिक्र आपको पौराणिक कथाओं में देखने को मिलता है , जहाँ भगवान श्री कृष्ण ने अपना बचपन बिताया और यहाँ पर अनेकों दिव्य लीलाओं की।
  • यह शहर 3000 वर्ष भी ज्यादा पुराना है और यहाँ का इतिहास काफी प्राचीन और काफी समृद्ध है। मथुरा का नाम सबसे पुराने शहरों में आता है।
  • मथुरा का नाम भारत का सबसे पवित्र शहरों में आता है। यह हिन्दुओं के लिए एक पवित्र तीर्थ स्थल है। हर साल यहाँ लाखों की सांख्या श्रद्धालुओं का जमावड़ा देखने को मिलता है। यहाँ होली और जन्मास्टमी में भक्तों का ज्यादा भीड़ देखने को मिलता है।
  • मथुरा को असंख्य मंदिरों का घर कहा जाता है। यहाँ आपको कदम कदम में आपको अलग अलग देवी देवताओं का मंदिर देखने को मिलता है।
  • मथुरा में होली का पर्व काफी उत्शाह और उल्लास के साथ मनाया जाता है।
  • मथुरा शहर यमुना नदी के तट पर बसा हुआ है। यमुना नदी का भी पुराणों काफी विशेष महत्व देखने को मिलता है।
  • भगवान शिव को मथुरा का कोतवाल कहा जाता है , क्योंकि मथुरा नगरी के चारों तरफ आपको सिर्फ भगवान शिव के ही मंदिर देखने को मिलते हैं।
  • मथुरा में ही भगवान श्री कृष्ण ने मथुरा वासी को अपने मामा कंस के अत्याचार से मुक्त कराया था। और अपने नाना कंस के कैद से आजाद कराया था।

मथुरा में पर्यटक स्थल (Mathura Tourist Places in Hindi)

जैसे की आप पहले ही जान चुकें मथुरा हिन्दुओं के लिए बहुत ही पवन भूमि है। मथुरा को असंख्य मंदिरों क घर कहा जाता है। मथुरा में घूमने की जगहों में आपको एक से बढ़कर मंदिर दर्शनीय स्थल , पर्यटन स्थल देखने को मिलते हैं। इस लेख के अंत तक आपको मथुरा में घूमने की जगह के बारे में काफी सारी जानकारी आपको बड़ी आसानी से मिल जाएगी। आइये मथुरा के कुछ प्रशिद्ध मंदिरों पर्यटन स्थलों तथा दर्शनीय स्थलों के बारे में जानने का प्रयास करते हैं।

कृष्ण जन्मभूमि मथुरा में घूमने की की जगह

कृष्ण जन्म भूमि जैसा की उसके नाम से ही पता चलता है यह भगवान श्री कृष्ण का जन्म भूमि है। जहाँ पर भगवान श्री कृष्ण का जन्म हुआ था। मथुरा में घूमने की जगह में यह कृष्ण जन्म भूमि हिन्दुओं के लिए पवित्र धर्म स्थल है जहाँ काफी सांख्या भक्त गण दर्शन करने के लिए जाते हैं। जैसा की हम सभी को पता है भगवान श्री कृष्ण का जन्म जेल के एक कल कोठरी में हुआ था , जहाँ पर उनके माता पिता को उनके मामा कंस द्वारा बंदी बना लिया गया था।

Krishna Janmabhoomi
Krishna Janmabhoomi

आज उस काल कोठरी के स्थान पर आपको एक मंदिर देखने को मिलता है। जहाँ लाखों की संख्या में श्रद्धालुओं और पर्यटकों का जमावड़ा देखने को मिलता है। होली और जन्मास्टमी के समय यहाँ भक्तों में काफी उत्साह देखने को मिलता है।

इसे भी पढ़े

कंस किला मथुरा में घूमने की जगह

मथुरा में घूमने की जगह में आपको एक कंस किला भी देखने को मिलता है जिसका सम्बन्द महाभारत के समय से है। और इस किले का सम्बंद भगवान श्री कृष्ण के मामा कंस से था। जिनका वध करके भगवान कृष्ण ने मथुरा को उसके अत्याचार से मुक्त कराया था। यमुना नदी के आसपास बने इस किले को देखने के लिए आज भी यहाँ काफी संख्या में पर्यटकों का भीड़ देखने को मिलता है।

Kans Quila, Mathura
Kans Quila, Mathura

इस किले को बनवाने का श्रेय अकबर के नौ रत्नों में एक राजा मान सिंह को जाता है। इस किले में आपको हिन्दू मुस्लिम का वास्तुकला देखने को मिलता है। वर्तमान समय में यह किला पहले जैसा नहीं रहा , लेकिन फिर भी आज के समय में यह काफी खूबसूरत पर्यटक स्थल है।

इसे भी पढ़े

गोवर्धन पर्वत

मथुरा में घूमने की जगह में गोवर्धन पर्वत काफी प्रशिद्ध पर्यटन स्थल है जिसका की विशेष धार्मिक महत्व देखने को मिलता है। यह पर्वत काफी पवित्र माना जाता है। मथुरा से गोवर्धन पर्वत की सफर आप मात्र 22 किलोमीटर की दुरी तय करके कर सकते हैं। हिन्दुओं के प्रशिद्ध धर्म ग्रंथो में गोवर्धन पर्वत के किस्से कहानियाँ देखने एवं सुनने को मिलते हैं। पुराने समय में एक बार भगवान इंद्र जब क्रोधित हो गए थे थो उन्होंने ने मथुरा वृन्दावन को डूबाने के लिए भयंकर बारिश करनी शुरू कर दी थी। जिसके कारण मथुरा वाशी परेशान होकर इधर उधर भागने लगे। तब भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपने ऊँगली पर उठके पुरे मथुरा वाशी की रक्षा की।

Goverdhan Parvat
Goverdhan Parvat

गुरु पूर्णिमा के समय में पर्यटक नंगे प्यार से गोववर्द्धन पर्वत का चक्कर लगाते हैं जो की 23 किलोमीटर है और भक्त अपनी मनोकामना को पूर्ण करते हैं। हिन्दुओं के लिए यह पर्वत काफी पवित्र है तथा अपना एक अलग ही महत्व रखता है। आज के समय में दिवाली के बाद गोवर्धन पर्वत की पुजा की जाती है।

इसे भी पढ़े

द्वारिकाधीश मंदिर

भगवान कृष्ण का दूसरा नाम द्वारिकाधीश है। द्वारिका के राजा होने के कारण भगवान श्री कृष्ण को द्वारिकाधीश के नाम से जाना जाता है। इन्ही के नाम पर यहाँ द्वारिकाधीश नाम का एक मंदिर देखने को मिलता है जिनके अंदर भगवान श्री कृष्ण को राजा के रूप में विराजमान किया गया है।

Shree Dwarikadhish Temple
Shree Dwarikadhish Temple

इस मंदिर की सबसे बड़ी खासियत यह है की यहाँ पर भगवान श्री कृष्ण को आप बिना मोर पंख तथा बिना बांसुरी के देख सकते हैं। इसके अलावा आप किसी भी मंदिर में भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति को बिना मोर पंख और बिना बांसुरी के कभी भी नहीं देख सकते हैं। इस मंदिर का निर्माण भगवान श्री कृष्ण के एक भक्त के द्वारा 150 साल पहले कराया गया था।

इसे भी पढ़े

मथुरा संग्रहालय

मथुरा में घूमने की जगह में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला पर्यटक स्थल मथुरा संग्रहालय है। इस संग्रहालय में आपको मथुरा से सम्बंधित अनेकों तरह के तथ्य और साक्ष्य देखने को मिलते है। जो की आपको प्राचीन मथुरा के बारे में जानकरी हासिल करने में मदद करता है। इस म्यूजियम को 1874 में बनवाया गया था।

Government Museum
Government Museum

मथुरा में घूमने की जगह में विशेष महत्व रखने वाले इस म्युसियम को भारत सरकार द्वारा जारी किये जाने वाले डाक टिकटों में भी देख सकते हैं। इस संग्रहालय को बनवाने के लिए लाल बलुवा पत्थर का उपयोग किया गया है। यह अपनी आश्चर्यजनक वास्तुकला के लिए भी काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। अगर आप यहाँ घूमने के लिए आ रहे हैं तो आप यहाँ प्राचीन साम्राज्य से सम्बंधित गुप्त तथ्य भी देख सकते हैं। इसी कारण से भारत सरकार ने इस जगह में टिकट लगाया है। यहाँ प्रवेश करने से पहले आपको टिकट लेना होता है।

यहाँ का प्रवेश शुल्क मात्र 10 रुपया है। सुबह 10:30 में खुलता है और शाम को 4:30 बजे बंद होता है। प्रत्येक सोमवार तथा सरकारी छुटियों के समय यहाँ पर अवकास होता है।

कुसुम सरोवर

मथुरा में घूमने की जगह में कुसुम सरोवर काफी प्रशिद्ध पर्यटक स्थल है जो की गोवर्धन पर्वत और राधा कुंड के बीच स्थित है। एवं पर्यटकों द्वारा सबसे ज्यादा देखा जाने वाला पर्यटन स्थलों में से एक है। सरोवर में आपको बहुत ही खूबसूरत जलाशय देखने को मिलता है , जिसे बनाने में राजसी बलुआ पत्थर का इस्तेलमाल किया गया है।

Kusum Sarover
Kusum Sarover

इस जलाशय के चारों तरफ आपको सीढ़ियां देखने को मिलती है जो की यहाँ आने वाले पर्यटकों को जलाशयों में उतरने में मदद करती है। आप अपने यात्रा के समय में इस जलाशयों में पर्यटकों को डुबकी लगाते , स्नान करते और तैराकी करते देख सकते हैं।

मथुरा में घूमने की जगह में यह सरोवर काफी शांत एवं साफ़ है और मथुरा में भर्मण के दौरान इस सरोवर के चारों तरफ काफी सांख्या में मंदिर देखने का मौका मिलता है। इस जलाशय के चारों तरफ आपको सिर्फ कदम के पेड़ देखने को मिल जायेंगे जो की पर्यटकों को काफी भाते हैं।

राधा कुंड

मथुरा में घूमने की जगह में राधा कुंड काफी प्रशिद्ध पर्यटन स्थल है , जो की काफी धार्मिक और पवित्र स्थल है। यह राधा कुंड राधा और भगवान श्री कृष्ण के प्रेम से सम्बंधित इतिहास के बारे में बताता है। इस पर्यटन स्थल भी मथुरा के अन्य धार्मिक स्थल के जैसा ही है जो की यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं के लिए तीर्थ स्थल जैसा है। इस राधा कुंड को खासकर वैष्णव समुदाय के लोगों के द्वारा खूब पसंद किया जाता है।

RadhaKund
RadhaKund

बरसाना

बरसाना का सम्बंद मथुरा में घूमने की जगह से है। बरसाना उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में स्थित है और बरसाना काफी सूंदर और पवित्र शहर है और यह का नगर पंचायत भी है। बरसाना राधा रानी का जन्म स्थल है। यहाँ आपको राधा रानी का भव्य मंदिर देखने को मिलता है क्योंकि बरसाना में ही राधा रानी का जन्म हुआ था। इस मंदिर में हजारों की संख्या में आपको भक्त गण देखने को मिलता है।

Barsana
Barsana

इसे भी पढ़े

मथुरा में लोकप्रिय स्थानीय भोजन

क्योंकि मथुरा भगवान श्री कृष्ण की जन्म स्थली है और आप सभी को पता है की भगवान श्री कृष्ण को माखन चोर के नाम से जाना जाता है। यानि हमारे प्रिय कान्हा को दूध , दही , खोवा मलाई काफी पसंद है। ठीक इसी तरह से आपको यहाँ पर हर तरह के दुग्ध उत्पाद आसानी से मिल जाते हैं। मथुरा खासकर शाकाहारियों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है यह शाकाहारियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है। मथुरा का प्रशिद्ध मिठाई पेड़ा है जो की यहाँ आने वाले पर्यटकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है। इन सब के अलावा आप यहाँ और भी अन्य तरह के स्वादिस्ट पकवान और भोजन का भरपूर मजा ले सकते हैं :

  • रबड़ी
  • आलू टिक्की
  • दही लस्सी
  • गोलगप्पे
  • आलू चाट
  • डुबकी वाले आलू
  • जलेबी
  • कचौड़ी
  • पेड़े
  • उत्तर भारतीय भोजन

मथुरा में कहां ठहरे?

अगर मथुरा में घुमने की जगह में सारे पर्यटन स्थलों , धार्मिक स्थलों , मंदिरों को अच्छी तरह से देखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको यहां कुछ दिन के लिए रुकना होता है। यहाँ आपके रुकने के लिए लॉज , होटल, रिसार्ट और आश्रम की बहुत अच्छी व्यवस्था मिलती है। आप अपने बजट के हिसाब से हाई रेट और लौ रेट वाले होटल को चुन सकते हैं

इसके अलावा अगर आप और भी सस्ते में रुकना चाहते हैं तो आप के लिए यहाँ का आश्रम सबसे अच्छा विकल्प है। वैसे यहाँ के आश्रमों को यहाँ आने वाले पर्यटकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

मथुरा के प्रमुख मंदिर

जैसा की आप ऊपर पढ़ चुकें हैं मथुरा में घूमने की जगह अनेकों अनेक मंदिर देखने को मिलते हैं और इसी कारण से मथुरा को मंदिरों की नगरी या शहर भी कहा जाता है। उनमे से कुछ प्रमुख मंदिरों के नाम निम्नलिखित हैं –

  • राधावल्ल्भ मंदिर
  • वैष्णो देवी धाम
  • श्री रंग जी मंदिर
  • भूतेश्वर महादेव मंदिर
  • चामुंडा देवी मंदिर
  • दौजी मंदिर
  • इस्कॉन मंदिर

मथुरा के प्रमुख बाजार

अब तक आपने जाना मथुरा में घूमने की जगह में काफी सारे दर्शनीय स्थलों और पर्ययटन स्थलों के बारे ,अब बात करते हैं यहाँ के मुख्य बाजारों के बारे में। जब भी कहीं आप घूमने के लिए जाते हैं और कुछ खरीदारी न करें यह हो ही नहीं सकता है। आइये जानते हैं कुछ प्रमुख बाजारों और उनकी प्रशिधि के बारे में , किस सामग्री के कारण इन बजारों की प्रशिद्धि है।

  • तिलक द्वारा बाजार – यहाँ आप धार्मिक वस्तुएं पेंटिंग तथा हस्तशिल्प खरीद सकते हैं।
  • छत्ता बाजार – इस छत्ता बाजार में आपको कपड़े , घर को सजाने के लिए चीजें मिठाई आदि चीजों को खरीद सकते हैं।
  • लाल बाजार – लाल बाजार में आप हाथ से बानी सूंदर चीजें , मूर्तियाँ तथा लकड़ी की वस्तुओं को खरीद कर आप घर ले जा सकते हैं।
  • हाइवे प्लाजा – यहाँ आपको शॉपिंग मॉल देखने को मिलता है और विभिन्न तरह भोजन एवं व्यंजन की दुकाने देखने को मिलता है।
  • कृष्ण नगर बाजार – इस मार्किट आपको टेटू पार्लर , संगीत स्टोर तथा कपड़ों के बड़े बड़े ब्रांड देखने को मिलता है

मथुरा घूमने के लिए सबसे अच्छा समय

अगर आप मथुरा घूमने के लिए जाना चाहते है और मथुरा में घूमने की जगह में सारे पर्यटन स्थल अच्छी तरह से घूमना चाहते हैं तो इसके लिए आपको किसी अच्छे मौसम में जाने की जरूरत है।

अगर आप गर्मी या बरसात के मौसम में जाने की सोच रहे हैं या मन चुकें है तो अपनी योजन को रद्द कर दें क्योंकि इस समय यहाँ आप मथुरा में घूमने की जगह की यात्रा मन भर कर कभी भी नहीं कर सकते हैं। इस समय मथुरा जाने का मतलब पैसा और समय दोनों की ही बर्बादी है।

मथुरा में घूमने के लिए सबसे अच्छा समय सर्दियों का समय होता है। इस समय यहाँ का मौसम शांत , सुहावना और घूमने लायक होता है। इस समय यहाँ आप काफी संख्या में पर्यटकों को देख सकते हैं। इसके अलावा होली और जन्मास्टमी मथुरा में घूमने का सबसे अच्छा समय मन जाता है।

मथुरा कैसे पहुंचे?

मथुरा एक ऐसा धार्मिक स्थल है जिसकी प्रशिद्धि सिर्फ उत्तर प्रदेश में ही नहीं बल्कि पुरे भारत देश में है। इसलिए आप यदि भारत के किसी भी छोटे बड़े शहर से मथुरा में घूमने की जगह को एक्स्प्लोर करने के बारे में सोच रहे हैं और यहाँ आने के बारे में सोच रहें हैं तो आपको बता दें की यहाँ आप ट्रेन, बस और प्लेन किसी भी माध्यम से काफी आसानी और आराम से आ सकते हैं।

वायु मार्ग द्वारा

अगर आपका बजट अच्छा खासा है और आप यात्रा वायु मार्ग द्वारा करना चाहते हैं तो आपको बता दें की मथुरा का अपना कोई भी हवाई अड्डा नहीं है। मथुरा का निकटम हवाई अड्डा आगरा हवाई अड्डा है लेकिन यहाँ देश से काफी काम हवाई जहाजों का आना जाना लगा रहता है। फिर भी यदि आप आगरा हवाई मार्ग से आ रहे हैं तो यहाँ से मथुरा शहर की दुरी मात्र 58 किलोमीटर की है जिसे आप आसानी से 1 से 2 घंटे में सफर कर सकते हैं।

इसके आलवा मथुरा का निकटम हवाई अड्डा इंदिरा गाँधी अंतरास्ट्रीय हवाई अड्डा है यहाँ के लिए आप देश या विदेश कही से भी यहाँ के लिए आप फ्लाइट ले सकते हैं। उसके बाद मथुरा पहुँचने के लिए हवाई अड्डे के बाहर निकलते ही मथुरा के लिए बस ट्रेन टैक्सी मिल जाती है। जिसकी सहयता से आप आसानी से और काफी सुविधजनक तरीके से मथुरा पहुँच सकते हैं।

रेल मार्ग द्वारा

आपकी जानकारी के लिए बता दें की मथुरा जंक्शन का नाम मध्य और पश्चिमी रेलवे के प्रमुख रेलवे स्टेशन मे आता है। और यह देश के सारे प्रमुख रेलवे मार्ग से काफी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इसलिए यदि आप दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, लखनऊ , वाराणसी , आगरा , ग्वालियर , भोपाल तथा इंदौर से हैं तो आप मथुरा के लिए सीधे ट्रेन ले सकते हैं।

सड़क मार्ग से

अगर आप अपने प्राइवेट कार या वाहन द्वारा मथुरा जाना चाहते हैं तो इसके लिए मथुरा जाने वाले सड़कों पर आपका हार्दिक स्वागत है। क्योंकि मथुरा की सड़के कोलकाता, मुरादाबाद, भोपाल, इंदौर, आगरा, बीकानेर, जयपुर तथा दिल्ली को काफी अच्छी तरह से जोड़ता है। इसके अलावा मथुरा जाने के लिए आप हरिद्वार , मेरठ , कानपूर, जबलपुर , ग्वालियर, अलीगढ़, लखनऊ , चंडीगढ़ अजमेर उदयपुर ,जयपुर, अलवर, आगरा , बीकनेर, जयपुर तथा दिल्ली जैसे शहरों से अपने निजी वाहनों से बड़े ही इत्मीनान बिना किसी झंझट के पहुँच सकते हैं।

बस द्वारा

अगर आप बस से मथुरा जाना चाहते हैं तो उसके लिए मथुरा आने वाले कुछ प्रमुख शहरों से चंडीगढ़ , जयपुर , अलीगढ़, भोपाल, इंदौर, उदयपुर , हरिद्वार,अलवर, आगरा और दिल्ली जैसे शहरों से मथुरा के लिए डायरेक्ट बस मिल जाती है। जिसके सहयता से आप बड़े ही इत्मीनान से मथुरा जा सकते हैं।

मथुरा घूमने का खर्चा

वैसे तो मथुरा में घूमने की जगह में काफी सरे पर्यटन स्थल ऐसे हैं जहाँ आप बिलकुल निशुल्क घूमे सकते हैं। यहाँ तक की मथुरा में बहुत सारे ऐसे आश्रम भी हैं जहाँ पे पर्यटकों के लिए काफी बड़ी संख्या में निःशुक्ल सेवा तथा रहने की व्यवस्था है।

इसके बावजूद भी यहाँ के होटल में रुकने का खर्चा , मथुरा में घूमने की जगह के सारे पर्यटन स्थलों में भर्मण करने के लिए उपयोग में लाये जाने वाले यातायात के खर्चों तथा भोजन आदि के खर्चों को मिलकर कुल खर्चा 10000 से लेकर 20000 तक खर्चा आ ही जाता है।

साथ में क्या रखें?

आप कहीं भी घूमने के लिए जा रहें हैं तो सबसे पहले वहां के मौसम के हिसाब से कपडे अपने साथ रखना बिलकुल न भूलें। इसके आलावा जरुरी दस्तावेजों जैसे की आधार कार्ड , एटीएम कार्ड, क्रेडिट कार्ड, कुछ कैश , खाने पीने के कुछ ड्राई फ्रूट्स और पानी की बोटलों को अपने साथ अवश्य रखें।

साथ ही कुछ दवाई को भी अपने साथ अवश्य रखें।

निष्कर्ष

भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि के रूप में प्रशिद्ध मथुरा काफी प्रशिद्ध है। यह हिन्दुओं के लिए काफी पवित्र धार्मिक स्थल , मथुरा में घूमने की चाह हर हिन्दू की होती है। मथुरा आने की तम्मना हर हिन्दू की होती है क्योंकि मथुरा हिन्दुओं के लिए प्रशिद्ध तीर्थ स्थान है।

हमारे इस लेख में आपको मथुरा में घूमने की जगह(Mathura Me Ghumne ki Jagah) जाने का समय, खर्चा और यहाँ का पर्यटन स्थल सारी चीजों की जानकारी आपको बारीकी से दी गयी है। ताकि आपको यात्रा के दौरान किसी भी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।

हमारे इस लेख को अपने ,जरूरत मंद दोस्तों के साथ भी शेयर अवश्य करें ताकि उसे भी मथुरा में घूमने की जगह के बारे अच्छी जानकारी मिल सके हैं।

FAQ

भगवान श्री कृष्ण का जन्म कहाँ हुआ था ?

भगवान श्री कृष्ण का जन्म मथुरा में कंस के कारागाह में हुआ था।

मथुरा में कौन सी चीज मशहूर है ?

मथुरा भगवान श्री कृष्ण के जन्म भूमि होने के कारण काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। यहाँ आपको भगवान श्री कृष्ण तथा राधा रानी की अनेकों मंदिर देखने को मिलते हैं।

मथुरा का खास पकवान क्या है ?

मथुरा का खास पकवान माखन मिश्री है। जो की भगवान कृष्ण को बहुत ज्यादा पसंद है। यहाँ आपको मंदिर में प्रसाद के रूप में मखान मिश्री ही मिलेगा।

मथुरा कब जाना चाहिए ?

मथुरा सर्दियों के मौसम अक्टूबर से मार्च के बीच जाना चाहिए , क्योंकि इस समय यहाँ का मौसम काफी सुहावना होता है और घूमने लायक होता है।

मथुरा आप कितने दिनों में घूम सकते हैं ?

यहाँ घूमने के लिए काफी सारी धार्मिक स्थल पर्यटन स्थल देखने को मिलते हैं जैसे की मथुरा वृन्दावन , बरसाना, गोकुल तथा गोवर्धन धाम। सारे तीर्थ स्थलों को घूमने के लिए कम से कम आपको 3 से 7 दिन देने ही होते हैं।

Leave a comment