10+ नैनीताल में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

यदि आप ठंडे प्रदेश हिमलाय के क्षेत्र में घूमना चाहते है तो नैनीताल में घूमने की जगह में आपका स्वागत है। जो की झीलों के शहर के नाम से भी जाना जाता है। यह उत्तराखंड राज्य के कुमायूं क्षेत्र में स्थित है जो की समुद्र तल से मात्र 1938 मीटर पर स्थित है। यहाँ आपको चारों तरफ बर्फ से ढके पहाड़ देखने को मिलते हैं और साथ ही यहाँ आपको काफी सारे झील भी देखने को मिलते हैं। चारों तरफ से ढके पहाड़ पर्वत , झील और प्राकृतिक सौन्दर्य के कारण नैनीताल में घूमने की यह जगह काफी खूबसूरत और अद्भुत लगती है। जिसे यहाँ आने वाले पर्यटकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

नैनीताल में घूमने की जगह ,जाने का समय और खर्चा

सिर्फ देशी ही नहीं विदेशी पर्यटकों द्वारा भी इसे काफी पसंद किया जाता है। उत्तराखंड के नैनीताल में आना आपके लिए स्वीट्जरलैंड में आने जैसा अनुभव होता है। क्योंकि इसकी सुंदरता और यहाँ की बर्फीली वादियाँ आपको बिलकुल स्वीट्जरलैंड में होने का अहसास करते हैं।

यहाँ आप कई तरह के रोमांचक गतिविधियों का भरपूर मजा ले सकते हैं जैसे की झीलों में बोटिंग का मजा ले सकते हैं , नौकायन का मजा ले सकते हैं। रोमांचक गतिविधियों में केबल कार की भी व्यवस्था है। इतनी सारी व्यवस्था होने के कारण यहाँ घूमने के दौरान का भी पल के लिए आपको बोरियत महसूस नहीं होने देता है।

इस लेख में आप नैनीताल में घूमने की जगह के बारे में विस्तार से जान सकेंगे साथ ही नैनीताल के रोचक तथ्य के बारे में भी आपको जानकारी मिलने वाली है।

इस लेख के अंत तक आप नैनीताल में घूमने की जगह में प्रशिद्ध पर्यटन स्थल , दर्शनीय स्थल तथा मंदिरों , नैनीताल कैसे जाएँ , कैसे घूमें, कहा रुकें , किस तरह की भोजन को अपने डाइट में शामिल करें , कब जाना चाहिए , साथ में क्या रखना होता है , पुरे नैनीताल के भर्मण में कितना खर्चा होता है। इन सारी चीजों की जानकारी आपको इस लेख के अंत तक काफी सरल भाषा में सुविधाजनक तरीके से मिल जाती है।

नैनीताल के बारे में रोचक तथ्य

  • नैनीताल झीलों के नगरी के नाम से प्रशिद्ध है। इसे सरोवर नगरी भी कहा जाता है। अगर आप इसके मानचित्र को देखेंगे इस मानचित्र में आप सबसे ज्यादा आपको झील देखने को मिलता है।
  • नैनीताल के खोज का श्रेय पी बैरन को जाता है। जिन्होंने 1841 में इसकी स्थापना की थी। जो की एक चीनी व्यापारी था।
  • पुराने समय में इस देश को खड़देश के नाम से जाना जाता था। आज यह हिल स्टेशन के रूप में प्रशिद्ध है।
  • नैनीताल को स्कन्द पुराण में त्री – ऋषि सरोवर के नाम से जाना जाता है।
  • कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान जो की हेली राष्ट्रीय उद्यान के रूप में प्रशिद्ध है। जो की आपको नैनीताल तथा पौड़ी के क्षेत्र में देखने को मिलता है।
  • नैनीताल में आपको तरह तरह के मंदिर देखने को मिलते हैं उनमे से कुछ प्रमुख हैं – नैना देवी मंदिर ,कैंची धाम , नैनी मंदिर
  • नैनीताल के उत्तरभाग तथा दक्षिणी भाग को मल्लीताल एवं तल्लीताल के नाम से जाना जाता है।

नैनीताल पर्यटन स्थल (Nainital Tourist Places in Hindi)

नैनी झील

नैनी झील नैनी ताल में घूमने की जगह में काफी लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। जो की पूरी तरह से प्राकृतिक झील है। नैनीताल के कुमाऊं क्षेत्र में स्थित यह अर्धचंद्राकार झील सबसे प्रशिद्ध झील है। नैनीताल में घूमने की जगह के रूप में प्रशिद्ध यह नैनी झील पर्यटकों के द्वारा नौका विहार पिकनिक तथा शाम को सैर के लिए काफी प्रशिद्ध है।

Naini Zeel
Naini Zeel

नैनीताल में स्थित यह नैनी झील सात अलग पहाड़ियों से घिरा होने के कारण यह काफी ज्यादा खूबसूरत तथा मनमोहक है। यहाँ आपको झील का 2 अलग अलग भाग देखने को मिलता है उत्तरी भाग मल्लीताल तथा दक्षिणी भाग तल्लीताल के नाम से जाना जाता है। यहाँ आप ऊँचे पहाड़ों में नौकायन के साथ साथ आप ढलते है सूर्य को देखने का भी मजा ले सकते हैं। इसी कारण से यह पर्यटकों के बीच लोकप्रिय बना रहता है। शाम के समय में घूमते समय आप प्राकृतिक वादियों में इस हसीन झील में बत्तकों को भी भर्मण करते देख सकते हैं। इन सब के बाद आपको नैना देवी मंदिर में आपको दर्शन के साथ पूजा अर्चना का भी मौका मिलता है।

इसे भी पढ़े

यह झील पर्यटकों के लिए सुबह 6 : 00 से शाम 6 : 00 खुला रहता है। काठगोदाम रेलवे स्टेशन से इसकी दुरी 25 किलोमीटर पड़ती है और तल्लीताल बस स्टैंड से इसकी दुरी मात्र 1 किलोमीटर की होती है।

नैनीताल चिड़ियाघर

यदि आपको पशु पक्षी और विभिन्न तरह के जानवर देखने को शौक है तो फिर आपको नैनीताल में घुमने की जगह में नैनीताल के गोविन्द पंथ हाई एल्टीट्यूड चिड़ियाँ घर को बिलकुल भी नहीं भूलना चाहिए। क्योंकि यह चिड़ियाँघर समुद्र तल से 2100 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है , इसलिए यह ऊंचाई के चिड़िया घर के नाम से प्रशिद्ध है। यह चिड़िया घर उत्तराखंड में सबसे पुराने चिडियाघर के रूप में प्रशिद्ध है।

nainital zoo
nainital zoo

नैनीताल के तल्लीताल क्षेत्र में शेर के डंडे के नाम के पहाड़ी में स्थित इस चिडियाघर का निर्माण 1984 में किया गया था। बाद में इसे पर्यटकों के लिए 1 जून 1995 से चालू कर दिया गया था। यहाँ आप ऊंचाई में पाए जाने वाले जानवरों को दखे सकते हैं जैसे हिम तेंदुवे , मृग , बकरी शेरों तथा सिबेरियाई बाघ। यह चिड़ियाँ घर 11 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ है। यहाँ आपको विभिन्न प्रकार की पक्षी लाल जंगल का पक्षी , खिले हुए सर वाले तोता, सफ़ेद मोर , पहाड़ी तीतर , कालिज , गुलाब की अंगूठी वाला तोता और गोल्डन तीतर देखने को मिलता है।

इसे भी पढ़े

यह चिड़ियाँ घर पर्यटकों के लिए 10 : 00 बजे से शाम के 4 : 30 बजे तक खुला रहता है। यह आपको नैनीताल के बस स्टैंड से मात्र 2 किलोमीटर की दुरी पर देखने को मिलता है। जहाँ आप 10 से 20 मिनट का सफर कर के आसानी से पहुँच सकते है और इसके आलावे चाहें तो आप किसी छोटे वाहनों का भी सहारा ले सकते हैं। बच्चों के लिए इस चिडियाघर में प्रवेश शुल्क मात्र 20 रुपया होता है और वयस्कों के लिए यहाँ का शुल्क 50 रुपया है।

राजभवन

उत्तराखंड के नैनीताल में घूमने की जगह यह राज भवन ब्रिटिश काल का इमारत है , यह इमारत आपको बिलकुल ही विक्टोरियन इमारत की तरह ही देखने को मिलता है। वर्तमान समय में राजभवन उत्तराखंड के राजपाल का निवास स्थान है। इसी कारण से इस ईमारत का दूसरा नाम गर्वनर हॉउस भी है।

Rajbhavan Nainital
 Rajbhavan Nainital

उत्तराखंड के नैनीताल में स्थित यह राजभवन जो की दो मंजिली इमारत है जहाँ आपको 113 कमरे देखने को मिलते हैं। ब्रिटिश के समय में इस इमारत का उपयोग खासकर गर्मियों के समय में किया जाता था। इस महल में आपको अद्भुत वास्तुकला देखने को मिलता है। इसे 1897 से लेकर 1900 के बीच बनवाया गया था

इसे भी पढ़े

अगर आप यहाँ घूमने के लिए आ रहे हैं। तो इस राजभवन में आपको एक शानदार बगीचा भी देखने को मिलता है और उसमे तरह तरह के फूलों की प्रजातियाँ भी देखने को मिलती है। इसके साथ आप यहाँ स्विमिंग पूल , बलतु के पेड़ और गोल्फ मैदान भी देखने को मिलता है।

पर्यटकों के लिए यह राजभवन सुबह 8 : 00 बजे से शाम के 5 : 00 बजे तक खुला रहता है। रविवार के दिन तथा अन्य राष्ट्रीय छुट्टियों के दिन यह बंद रहती है।

मॉल रोड

यदि आप खरीदारी के शौकीन है या खरीदारी करना अच्छा लगता है तो उत्तराखंड के नैनीताल में घूमने की जगह के इस मॉल रोड में आपका स्वागत है। यह मॉल रोड मल्लीताल और तल्लीताल को जोड़ने का काम करती है , जिसका निर्माण अंग्रेजों के द्वारा किया गया था। यहाँ आने वाले पर्यटकों के द्वारा इसे काफी पसंद किया जाता है। यहाँ आपको खरीदारी करने के लिए एक से बढ़कर एक दुकानें , रेस्टोरेंट और मॉल देखने को मिलती है।

Mall Road
Mall Road

नैनीताल में घूमने की जगह में यह बाजार खासकर के तरह – तरह के मोमबत्तियों के लिए काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। यहाँ आने वाले पर्यटक याद के तौर पर मोमबत्ती खरीदना नहीं भूलते हैं। अपनी यात्रा को यादगर बनाने के लिए आप भी अपनी खरीदारी में मोमबत्ती को शामिल करना कभी भी न भूलें। यहाँ आपको सड़क के किनारे भी मोमबत्तियां देखने को मिल जाती है।

यहाँ आपको उत्तराखंड के संस्कृति को भी देखने का मौका मिलता है और आप यहाँ के स्थानीय पारंपरिक भोजन का भी स्वाद लेने का मौका मिलता है। यहाँ आपको खरीदारी के दौरान सूंदर एवं गर्म कपड़े खरीद के ले जा सकते हैं।

यदि आप मई और जून के समय में यहाँ आ रहे हैं तो इस बात का खास ख्याल रखें की इस समय पर्यटकों की अत्यधिक भीड़ होने के कारण यहाँ गाड़ियों की आवाजाही बंद रहती है। इसलिए आपको यहाँ तक का सफर पैदल ही करना होता है।

पंगोट

उत्तरखंड के नैनीताल में यदि आप प्रकृति से घिरे किसी शांत वातावरण के तलाश में हैं तो आपका नैनीताल में घूमने की जगह पंगोट में आपका स्वागत है। पंगोट एक काफी सुंदर गाँव है जिसे की पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। क्योंकि पर्यटकों के लिए यहाँ पर ट्रैकिंग और कैम्पिंग के लिए भरपूर व्यवथा देखने को मिलती है। यहाँ प्रकृति के बीच का शांत वातावरण पर्यटकों को काफी शुकुन भरा माहौल देता है।

 Pangot
 Pangot

नैनीताल में घूमने की जगह के इस पंगोट गाँव में आपको तरह तरह के चिड़ियों की भी प्रकार देखने को मिलती है। शांत वातावरण में चिड़ियों की चहचाहट के कारण यह माहौल पर्यटकों के लिए और भी आकर्षक बना देता है। पंगोट एक गाँव है इसलिए यहाँ पर ठहरने के लिए कैसी व्यवस्था होगी इसके लिए बिलकुल भी चिंता न करें , यहाँ आपको होटल से भी कम खर्चे होटल की तरह ही रहने की व्यवस्था मिल जाती है।

इसे भी पढ़े

स्नो व्यू पॉइंट

अगर आप हिमालय की हसीन वादियों को करीब दे देखना चाहते हैं और बर्फ से ढकी चोटियों शानदर व्यू का मजा लेना चाहते हैं तो उत्तराखंड के नैनीताल में घूमने की जगह स्नो व्यू पॉइंट में आपका स्वागत है। नैनीताल के स्नो व्यू पॉइंट को पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। क्योंकि यहाँ से आप पुरे हिमालय के सफ़ेद रंग से ढके पहाड़ की चोटियों अद्भुत नज़ारे का मजा ले सकते हैं। यहाँ आप बर्फ से ढकी चोटियों में नंदा देवी , त्रिशूला और नंदा कोर्ट जैसी शानदार चोटियों को एक साथ देखने का मौका मिलता है।

Snow View Point Nainital
Snow View Point Nainital

त्रिशूला चोटी देखने में बिलकुल ही त्रिशूल के तरह दिखती है जो की तीन पहाड़ियों से मिलकर बानी हुई है। इस कारण से इस चोटी को त्रिशूल चोटी के नाम से जाना जाता है। अब अगर बात करें नंदा देवी चोटी की तो वर्तमान समय में यह भारत की दूसरी सबसे ऊँची चोटी के रूप में प्रशिद्ध है। 1975 तक यह नंदा देवी चोटी भारत के सबसे ऊँची चोटी के रूप में प्रशिद्ध था , लेकिन उसके बाद इसकी जगह कंचन जंघा ने ले लिया।

नैनीताल में घूमने की जगह के स्नो व्यू पॉइंट में आते ही आपको स्वर्ग में आने जैसा ही अनुभव होता है। चारों तरफ से आपको प्रकृति का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है , चारों तरफ आपको बर्फ से ढकी हुई चोटियाँ देखने को मिलती है। जब तक आप यहाँ अपना समय बिताते हैं उस समय तक आपको दिमाग पूरी तरह से तनाव मुक्त रहता है। इस स्नो व्यू पॉइंट से आप नैनीताल शहर के भी शानदार नज़ारे को भी अपने केमरे में कैद कर के अपनी यात्रा को शानदार तथा यादगार बना सकते हैं।

यहाँ आपको एक छोटा सा मंदिर भी देखने को मिलता है , जहाँ आपको राम , सीता, लक्ष्मण, शिव , दुर्गा और हनुमान जी जैसे देवी देवताओं की प्रतिमा देखने को मिलती है। कुछ आगे जाने पर आपको सूंदर विचित्र तिब्बती मठ – गधन कुंक्योप लिंग गोम्पा भी देखने को मिलता है।

नैनीताल के मुख्य बस स्टेण्ड से मात्र 3 किलोमीटर की दुरी तय करके आप यहाँ तक असानी से पहुँच सकते हैं। इसके अलवा यहाँ तक आने के लिए पर्यटकों के लिए केबल की भी व्यवस्था भी आपको देखने को मिलती है। अगर आपको पैदल चलना अच्छा लगता है तो पहाड़ी के संकरे रास्तों के सहारे आप यहाँ काफी मजे मजे में पहुँच सकते हैं।

स्नो व्यू पॉइंट का निकटम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है जिसकी दुरी मल्लीताल तक जाने के लिए मात्र 35 किलोमीटर है , जहाँ तक आप टैक्सी या बस की सहायता से आसानी से पहुंच सकते हैं। स्नो पॉइंट का बिल्कुल ही निःशुल्क है बस केबल या रोपवे के लिए आपको कुछ चार्ज देने होते हैं।

पर्यटकों के लिए नैनीताल में घूमने की जगह में यह स्नो पॉइंट सुबह 10 : 30 बजे से शाम 5 : 00 बजे के बीच खुला र हता है।

नैना चोटी

अगर आप ट्रेकिंग का शोक रखते हैं तो आपको नैनीताल में घूमने की जगह में इस नैना चोटी में अवश्य आना चाहिए। इसे पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। इस नैना चोटी का नाम नैनीताल में सबसे ऊँचे पर्वत शिखर के रूप में आता है। जहां से पर्यटक पुरे हिमालय के शानदर नज़ारे को अपनी खुली आँखों से देख सकते हैं। 1962 के भारत और चाइना युद्ध के बाद इस चोटी को चाइना पीक या चीना पीक के नाम से जाना जाता है।

Naina Peak Nainital
Naina Peak Nainital

इस बात का हमेशा ख्याल रखें की आप जब कभी भी आप यहाँ घूमने के लिए आ रहे हैं तो आपने साथ खाने पीने की चीजों को रखना कभी भी न भूलें , क्योंकि यहाँ आपको किसी भी तरह का भोजनालय , रेस्टोरेंट एवं दुकान नहीं मिलने वाली है। शिखर पर चढ़ने के लिए यात्रा के समय में हमेशा हलके तथा अच्छे गुणवत्ता वाले जूतों का प्रयोग करें , ताकि ट्रेकिंग के समय में आपको किसी भी तरह के परेशानी का समाना करना न पढ़े तथा आपके पैर में किसी भी तरह का जख्म न हो।

माल रोड से नैनीताल में घूमने की जगह के इस नैना चोटी में घोड़े की सवारी के द्वारा पहुँच सकते हैं। अगर आपको पैदल चलना अच्छा लगता है तो आप पैदल भी आ सकते हैं। नैनीताल से इसकी दुरी मात्र 7 किलोमीटर है। यह पर्यटकों के लिए सुबह 8:00 बजे से 5 : 30 बजे तक खुला रहता है।

हनुमानगढी

यदि धार्मिक प्रवृति के इंसान हैं और आपको किसी ऐसे स्थान की तलाश है जहाँ आप इत्मीनान से आप पूजा पाठ कर सकें और अपने मन को शांति दे सके तो नैनीताल में घूमने की जगह के हनुमानगढ़ी में आपका स्वागत हैं। यहाँ आपको एक हनुमान जी की प्रतिमा देखने को मिलती है। जिसमे हनुमान जी आपको अपने सीने को चीरते हुए दिखाई देते हैं , सीने में राम और सीता विराजमान होते हैं ।

Hanuman Garhi Nainital
Hanuman Garhi Nainital

इस मंदिर को बनवाने का श्रेय नीम करोली बाबा को जाता है , जिन्होंने इसे 1950 में बनवाया था। हनुमानगढ़ी का यह मंदिर आपको समुद्र तल से 1951 मीटर की ऊंचाई पर देखने को मिलता है। नैनीताल के मुख्य शहर इस मंदिर की दुरी 3 किलोमीटर है।

सूर्यास्त के समय यहाँ का नजारा काफी अद्भुत होता है। यहाँ के चारों और ऊँचे ऊँचे पहाड़ों तथा प्राकृतिक वातावरण के बीच नीले रंग केआसमान में नारंगी रंग के सूर्य की किरणे इस मंदिर को काफी खूबसूरत बना देते हैं , जिसके कारण पर्यटक यहाँ खींचे चले आते हैं। इस मंदिर में मंगलवार और शनिवार के दिन यहाँ आपको श्रधालुओं की काफी भीड़ देखने को मिलती है।

यहाँ आने के लिए आप किसी भी वाहन का सहायता ले सकते हैं।

टिफ़िन टॉप

अगर आप नैनीताल में घूमने की जगह में किसी ऐसे स्थान की तलाश में हैं जहाँ आप पूरी तरह से प्रकृति के बीच हों और पुरे नैनीताल के विहंगम नज़ारे को अपनी खुली आंखों से देखना चाहते हैं तो नैनीताल में घूमने की जगह टिफ़िन टॉप में आपका स्वागत है।

टिफ़िन टॉप को ब्रिटिश सैन्य अधिकारी ने कर्नल जे. पी. केलेट द्वारा अपनी स्वर्गीय पत्नी डोरोथी केलेट के याद में अयारपट्ट पहाड़ी में बनवाया था। जिसे आज के समय में पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। इसे डेरोथी केलोट भी कहा जाता है। आज के समय में यह पर्यटकों के लिये शानदार पिकनिक स्पॉट बन गया है। यहाँ आने वाले पर्यटक ट्रैकिंग करने के बाद अपना लंच करने का मजा इसी स्थान में लेना पसंद करते हैं। इसी कारण से इस स्थान को टिफ़िन टॉप के नाम से जाना जाता है।

Tiffin Top
Tiffin Top

अगर आप अकेले या अपने दोस्तों केसाथ घूमने के लिए जा रहे हैं। तो यहाँ आपको चारो तरफ देवदार , ओक और चीड़ के पेड़ देखने को मिलते हैं, इन प्राकृतक वादियों में आपको काफी ज्यादा शांति व शकुन मिलता है । साथ ही इस स्थान से आप पुरे सिटी को बिना किसी दूरबीन की सहयता से देख सकते हैं। और फोटोग्राफी के द्वारा अपनी यात्रा को काफी यादगार बना सकते हैं।

पर्यटकों के लिए यह सुबह 8 : 00 बजे से लेकर 5 : 30 बजे तक खुला रहता है।

केबल कार

यदि आप नैनीताल के सारे पर्यटन स्थलों और झीलों का आसमानी व्यू लेना चाहते हैं एवं सारे सूंदर नज़रों को एक ही साथ में देखना चाहते हैं। तो नैनीताल में घूमने की जगह के केबल कार में आपका स्वागत है। इसे पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। नैनीताल के सारे पर्यटन स्थल , झीलों , बर्फ से ढकी हुई बर्फ की चट्टानें एक साथ असामान की ऊंचाइयों से देखना आपको एक रोमांचकारी अनुभव देता है।

 Cable Car
 Cable Car

यह केबल कर आपको मल्लीताल से स्नो व्यू पॉइंट कि दुरी तय करवाता है। मात्र 3 मिनट में है आप पुरे नैनीताल के शहर का आप आसानी आसमानी भर्मण कर सकते हैं।

वयस्कों के लिए इसका शुल्क 300 रुपया और बच्चों के लिए इसका शुल्क 200 रुपया है। यह पर्यटकों के लिए सुबह 10 बजे से लेकर 4 बजे तक खुला रहता है।

नौकुचियाताल व भीमताल

अगर आप झीलों में नौकायन करना , पैडलिंग करना और बोटिंग करने का शौक रखते हैं तो आपको नैनीताल में घूमने की जगह के इस नौकुचियाताल व भीमताल में जरूर आना चाहिए। भीमताल नैनीताल में स्थित इस कुमाऊं क्षेत्र के सबसे बड़े झील के रूप में प्रशिद्ध है। भीमताल चारों तरफ से ऊँचे ऊँचे पहाड़ो से घिरा हुआ है जिसके कारण यहाँ के पानी का रंग बिलकुल ही हरा दिखाई देता है। झील में आपको कमल के फूल भी देखने को मिलते हैं।

Bhimtal and Naukuchiatal
Bhimtal and Naukuchiatal

झील के बीच में एक द्वीप है जहाँ पर आप नाव की सहायता से जा सकते हैं , जहाँ आपको एक मछली घर के साथ साथ अन्य समुद्री जीव भी देखने को मिलते हैं। नैनीताल में घूमने की जगह में आप सिर्फ बर्ड वाचिंग और नेचर वॉक का नहीं बल्कि यहाँ आप पैराग्लाइडिंग का भी भरपूर मजा ले सकते हैं। भीमताल की दुरी नैनीताल से 22 किलोमीटर और मुक्तेश्वर से 39 किलोमीटर है।

इको गुफा पार्क

इको गुफा पार्क नैनीताल में घूमने की जगह में काफी खूबसूरत तथा लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। जिसे की यहाँ आने वाले पर्यटकों के द्वारा किया जाता है। यहाँ आपको बहुत तरह के जानवरों की गुफा देखने को मिलती है। जो की पूरी तरह से प्राकृतिक है। इन प्रकृतिक गुफाओं की देख रेख यहाँ की प्रशासन करती है।

कुछ प्रमुख जानवरों की गुफा जैसे चीता , बंदर, गिलहरी उड़ने वाली लोमड़ी ,पैंथर चमगादड़ की गुफाएं देखने को मिलती है। इन गुफाओं में रोशनी की भी बहुत अच्छी व्यवस्था उपलब्ध है। रोशनी के लिए यहाँ आपको पेट्रोल से जलते लेम्प देखने को मिलते हैं। ताकि आप गुफा को काफी अच्छी तरह से भर्मण कर सके।

Eco Cave Park Nainital
Eco Cave Park Nainital

यहाँ आपको एक फव्वारा भी देखने को मिलता है जो इस गुफा की खूबसूरती में चार चाँद लगाता है। साथ ही यहाँ आप विभिन्न पर्यटन स्थलों जैसे कांची धाम , भीमताल , नैना देवी मंदिर जॉन विल्डरनेस चर्च का भी दर्शन करने का मौका मिल जाता है।

नैनीताल बस स्टेण्ड यह लगभग 3 किलोमीटर की दुरी देखने को मिलती है। यहाँ तक पहुँचने के लिए आपको बस स्टेण्ड से टैक्सी मिल जाती है। वयस्कों के लिए यहाँ का प्रवेश शुल्क 60 रुपया तथा बच्चों क लिए 25 रुपया है। यह पर्यटकों के लिए सुबह 9 : 30 बजे से शाम को 5 : 30 बजे तक खुला रहता है।

नैनीताल में 1 दिन में घूमने लायक जगह  (Place to Visit in Nainital in One Day)

  • नौकुचियाताल व भीमताल
  • इको केव गार्डन
  • नैनीताल
  • स्नो व्यू पॉइंट
  • नैनी झील
  • नैना देवी मंदिर

3 दिनों के यात्रा में नैनीताल में घूमने लायक जगह (3 Days Trip to Nainital)

  • गुर्नी हाउस
  • फ्लैटस
  • सेंट जॉन वाइल्डरनेस चर्च
  • श्री अरबिंदो आश्रम का हिमालयी केंद्र
  • सीताबनी
  • सरिया ताली
  • सातताल ( सात ताल )
  • बिनायक
  • एआरआईएस

नैनीताल में दोस्तों के साथ घूमने लायक जगह (Place to visit in Nainital with Friends)

  • नौकुचियाताल व भीमताल
  • केबल कार
  • टिफ़िन टॉप
  • हनुमानगाड़ी
  • नैना चोटी पंगोट
  • मॉल रोड
  • राजभवन
  • नैनीताल चिड़िया घर

नैनीताल में प्रसिद्ध भोजन

उत्तराखंड के नैनीताल में घूमने की जगह में आपको काफी सारे पर्यटन स्थल देखने को मिलते हैं। यहाँ व्यंजन भोजन भी आपको वैसा ही देखने को मिलता है। यहाँ आपको हर तरह का व्यंजन देखने को मिलता है। आप यहाँ स्थनीय व्यंजन के साथ साथ , अलग अलग राज्यों के भोजन का भरपूर मजा ले सकते हैं। और अगर आप कॉन्टिनेंटल फ़ूड के शौकीन हैं तो यहाँ उनकी भी जबरदस्त व्यवस्था है।

नैनीताल में घूमने की जगह में स्थानीय भोजन के रूप में आप भट्टे की चुरकानी , गुलगुला , अरसा , आलू के गुटके , कई दलों से बनी , बाड़ी काफी प्रशिद्ध है जिसे पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। इसमें आपको खट्टे मीठे और तीखे हर तरह के व्यंजन का स्वाद मिल जाता है।

अन्य भारतीय भोजन जैसे तंदूरी रोटी , दाल पनीर , दाल मखनी की भी भरपूर वयवस्था यहाँ देखने को मिलती है। नैनीताल काफी लोकप्रिय पर्यटन स्थल है। इसलिए यहाँ आपको स्थानीय , भारतीय तथा कॉन्टिनेंटल हर तरह की फ़ूड की व्यवस्था मिल जाती है।

नैनीताल घूमने का सबसे अच्छा समय

नैनीताल में घूमने के लिए काफी सारे पर्यटन स्थल है और बात करें इन पर्यटन स्थलों के घूमने की तो पर्यटकों के द्वारा इसे सबसे ज्यादा गर्मियों के समय में पसंद किया जाता है। इस समय यहाँ आपको काफी संख्या में पर्यटक देखने को मिल जाते हैं। नैनीताल बर्फीली पहाड़ी इलाका है और यह एक ठंड प्रदेश है। जहाँ आपको गर्मियों के समय में नैनताल के अलावा अन्य शहरों में आपको भीष्ण गर्मी का सामना करना पड़ता है। वहीँ पर्यटकों को गर्मी के समय में यहाँ जन्नत का शुकुन मिलता है।

गर्मियों के समय नैनीताल में घूमने की जगहों का तापमान आपको मात्र 28 डिग्री देखने को मिलता है। जिसके कारण गर्मियों के मौसम को यहाँ घूमने के लिए सबसे बेस्ट समय माना जाता है। इस समय यहाँ का मौसम काफी सुहावना होता है और घूमने के अनुकूल होता है।

अगर आप बर्फ़बारी देखने का शौक रखते हैं तो फिर यहाँ आपको दिसम्बर से फरवरी के बीच आना चाहिये। इस समय आपको चारों बर्फ ही बर्फ देखने को मिलते हैं। इस समय यहाँ का मौसम काफी ज्यादा ठंडी रहती है और इस समय यहाँ का तापमान 0 डिग्री सेल्सियस से भी कम हो जाता है।

वैसे तो यहाँ सालों भर पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। यह आपके मूड पर जाता है की आप किस समय जाना चाहते हैं और नैनीताल में घूमने की जगह में किस तरह के खूबसूरती को फील करना चाहते हैं।

अगर आप बरसात के मौसम में यहाँ घूमने के लिए आ रहे हैं तो कुछ बातों का विशेष रूप से ख्याल रखें बरसात के कारण यहाँ की जमीने धंस जाती है। और यह समय घूमने के लिए बिलकुल भी उपयुक्त नहीं होता है। काफी ज्यादा बर्फ पड़ने से यहाँ का रास्ता भी बंद हो जाता है। जिस कारण से यहाँ आने वाले यात्रियों को काफी दिक्क्तों का सामना करना पड़ता है।

नैनीताल में घूमने की जगह के सारे पर्यटन स्थलों में इस समय में पर्यटकों की भीड़ एकदम से नहीं के बराबर होती है जिस कारन इस समय यहाँ की हर चीज आपको काफी सस्ती में मिल जाती है। अगर आपका बजट काफी कम है और काम बजट में ही ट्रेवल करना चाहते हैं। तो आपके लिए यह मौसम काफी फायदेमंद रहने वाला है।

नैनीताल कैसे पहुंचे?

उत्तरखंड के नैनीताल में घूमने की जगह में आपको काफी सारे पर्यटन स्थल देखने को मिलते हैं जिनके बारे में आप ऊपर पढ़ चुके हैं अब बात करते हैं यहाँ तक पहुँचने की , यहाँ तक पहुँचने के लिए आपको सड़क मार्ग , रेलवे मार्ग और हवाई मार्ग तीनों की व्यवस्था आपको यहाँ काफी आसानी से मिल जाती है। यह आप पर निर्भर करता है की आप यहाँ किस मार्ग द्वारा जाना पसंद करते हैं। और आपका बजट एवं रूचि किस तरह का है।

सड़क मार्ग द्वारा

नैनीताल में सड़क के माध्यम से जाने के लिए आपको अपने शहर के किसी प्रमुख बस स्टेण्ड से नैनीताल के लिए टिकट लेनी होती है जो नैनीताल के लिए सीधे बस की सर्विस देता हो। इनमे से कुछ प्रमुख शहरों के नाम इस प्रकार से हैं दिल्ली , गाजियबाद , लखनऊ , मोरादाबादी , हल्दवानी जो आपने यात्रियों को नैनीताल के लिए सीधे बस सर्विस देती है। अगर आप ऐसे शहरों से हैं तो आपके लिए काफी ख़ुशी की बात है अन्यथा आप पहले किसी ऐसे नजदकी शहर के लिए टिकट बुक करायें , जहाँ से आप नैनीताल के लिए सीधे बस ले सकते हैं।

रेलवे माध्यम से

भारतीय पर्यटकों के लिए सबसे ज्यादा पसंदीदा सवारी भारतीय रेलवे होता है। नैनीताल का अपना कोई भी रेलवे स्टेशन नहीं है इसका नजदीकी रेलवे स्टेशन काठगोदाम है। जो की नैनीताल से मात्र 24 किलोमीटर की दुरी में देखने को मिलती है।

काठगोदाम रेलवे स्टेशन सिर्फ उत्तरखंड शहर के रेलवे स्टेशन से ही नहीं बल्कि भारत के सारे प्रमुख शहरों के रेलवे स्टेशनों से जैसे दिल्ली , कोलकत्ता , मुंबई , लखनऊ , देहरादून , कानपूर से काफी अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यहाँ से आप काठगोदाम के लिए सीधे ट्रैन ले सकते हैं।

हवाई मार्ग द्वारा

नैनीताल का अपना कोई भी हवाई अड्डा नहीं है। इसका नजदीकी हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है। पंतनगर हवाई अड्डा काफी छोटा हवाई अड्डा है जो भारत के पमुख शहरों के लिए सीधे हवाई यात्रा की सुविधा बिलकुल भी नहीं देता है। इसलिए यहाँ आने के लिए पहले दिल्ली में स्थित इंद्रा गाँधी अंतरास्ट्रीय हवाई अड्डा में आना होता है। जिसके कारण पर्यटकों का बजट अन्य ट्रिप की तुलना में थोड़ा ज्यादा हो जाता है।

कितने दिन के लिए नैनीताल की यात्रा का आयोजन करें?

नैनीताल में घूमने की जगह में बहुत सारे पर्यटन स्थल हैं जैसा की आप ऊपर पढ़ चुके हैं और यहाँ करने के लिए काफी सारे रोमांचक गतिविधियाँ भी पर्यटकों के लिए मौजूद हैं। ऐसे में पुरे नैनीताल को एक ही दिन में घूमना बिलकुल मुमकिन नहीं है। इसके लिए कम से कम आपको 3 दिनों के लिए यात्रा का प्लान करना होता है।

नैनीताल में कहां ठहरे?

उत्तराखंड के नैनीताल में घूमने की जगह को अच्छी तरीके से घूमने के लिए सबसे पहले यहाँ रुकना होता है। पर्यटकों के द्वारा नैनीताल को काफी पसंद किया जाता है। इसलिए यहाँ रुकने के लिए आपको एक से बढ़कर एक व्यवस्था देखने को मिलती है। आप अपने बजट के हिसाब से तल्लीताल और मल्लीताल के किसी भी क्षेत्र में होटल , मोटेल , लॉज , धर्मशाला तथा होम स्टे कही भी रम बुक कर सकते हैं।

यदि आपका नैनीताल में ज्यादा दिन तक घूमने का प्लान है तो फिर यहाँ के लिए आप पेइंग गेस्ट भी बुक कर सकते हैं। यहाँ आपको होटल से भी अच्छी सुविधा मिलती है।

यहाँ पर्यटकों की काफी भीड़ होने के कारण अचानक से रूम मिलना काफी मुश्किल होता है इसलिए आपको यहाँ पहले से ही ऑनलाइन रूम बुक करके आना होता है।

नैनीताल कैसे घूमे?

हवाई अड्डे तथा रेलवे स्टेशन से बाहर निकलते ही आपको ऐसे ढेरों दुकान देखने को मिल जाते हैं। जो यहाँ आने वाले पर्यटकों को बाइक टैक्सी किराये में देने का काम करते हैं। जिसकी सहयता से आप नैनीताल में घूमने की जगह में सरे पर्यटन स्थलों को काफी आराम से तथा काफी सुविधजनक तरीकों से भर्मण कर सकते हैं।

आप चाहे तो नैनीताल में घुमने की जगहों को एक्स्प्लोर करने के लिए यहाँ की टूर बस का भी मदद ले सकते हैं। जो की पर्यटकों के लिए काफी कम खर्चे में उपलब्ध रहता है।

नैनीताल की यात्रा के दौरान कौन-कौन सी चीजे अपने साथ रखें?

जैसा की आप ऊपर जान चुकें हैं नैनीताल में घूमने की जगह को एक्स्प्लोर करने के लिए सबसे अच्छा समय गर्मियों के समय होता है। इसलिए अगर आप गर्मियों के समय में यहाँ आ रहें हैं तो इस बात का खास ख्याल रखें की गर्मियों के समय में मैदानी इलाकों में सूर्य की किरणों का प्रभाव काफी ज्यादा होता है। इसलिए अपने साथ सनस्क्रीन , मॉइस्चरराइजर एवं लिप बाम को हमेशा अपने साथ रखा करें।

इसके अलावा यदि आप ठंडी के दिनों में यहाँ आ रहें तो इसकी भी भी जानकारी आपको पहले मिल चुकीं है। सर्दियों के समय में यहाँ तापमान 0 डिग्री से भी काम हो जाता है। इसलिए यहाँ आते समय आपको ठंड से बचने के लिए तगड़ा इंतजाम करके आना होता है। मतलब की अपने पास अत्यधिक ठंडी से बचने के लिए हर तरह के गर्म कपड़ो को अपने साथ रखना न भूलें जैसे की जैकेट स्वेटर मफलर , कंबल , सॉल एवं इसी प्रकार के गर्म कपडे जो आपको यहाँ की अत्यधिक ठंडियों के दौरान आपको बचाने में सक्षम हों।

अगर आप खेलने के शौकीन हैं तो यहाँ पर उनकी की काफी जबरदस्त व्यवस्था है। नैनीताल में घूमने की जगह में आपको यहाँ एक शानदार फुटबॉल मैदान भी देखने को मिलता है। इस मैदान में आपक्रिकेट फुटबॉल , बैडमिंटन तथा हॉकी जैसे खेलों का भरपूर मजा ले सकते हैं। जो भी आपको अच्छा काज उसके लिए आपको अपने साथ इन खेलों को खेलने के लिए किट लेन की जरूरत होती है। जो भी खेल आपको अच्छा लगता हो उनकी किट लाना कभी भी न भूलें। इस तरह से आप अपने यात्रा को काफी यादगार बना सकते हैं।

यहाँ आपको शॉपिंग करने के लिए एक से बढ़कर एक दुकान देखने को मिलती है। यहाँ आप ढेरों शॉपिंग भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने साथ एक कैरी बैग रखना अति आवश्यक है।

साथ ही यदि आपको ट्रेकिंग का शोक है तो अपने साथ ऐसे ट्रैकिंग के जूतों को अवश्य रखें जो की ट्रैकिंग के दौरान आपके लिए मददगार साबित हो।

निष्कर्ष

हमारे इस लेख में आपको नैनीलात में घूमने जगह से सम्बंधित हर तरह की जानकारी , कब जाना चाहिए , कैसे जाना चाहिए , कैसे घूमना चाहिए और किन चीजों को साथ रखना चाहिए। इन से सम्बंधित सारी जानकारी आपको बड़ी ही आसानी से मिल जाती है। अगर आपको बर्फ से ढके पहाड़ी झीलों , सफ़ेद रंग के हिमालयी चट्टाने और प्रकृति का खूबसूरत नजारा देखना अच्छा लगता है। तो आपके लिए यह लेख काफी ज्यादा मददगार साबित होने वाला है।

हमरा यह लेख नैनीताल में घूमने की जगह आपके लिए थोड़ा भी हेलफुल हो तो इसे अपने सोशल मीडिया में शेयर करना बिलकुल भी न भूलें और इस लेख से सम्बंधित कोई भी सुझाव या सवाल है तो एप विचार को कमेटं सेक्शन में रखना न भूलें। हर संभव आपकी सहायता की जाएगी। इस लेख को अंत तक पढ़ने के लिए दिल से धन्यवाद।

FAQ

नैनीताल में घूमने के लिए कौन सा महीना अच्छा रहता है ?

नैनीताल में घूमने के लिए गर्मियों का महीना सबसे अच्छा रहता है। मतलब मार्च से जून का महीना अच्छा रहता है।

नैनीताल में घूमने के लिए कितना खर्च आता है ?

नैनीताल को आप 1000 की खर्चे में आसानी से घूम सकते हैं।

नैनीताल घूमने के लिए कितने दिन चाहिए ?

पुरे नैनीताल को आप 2 से 3 दिनों में काफी अच्छी तरह से घूम सकते हैं।

नैनीताल में बर्फबारी कब होती है ?

अगर आप बर्फ़बारी देखना चाहते हैं तो आपको दिसम्बर से मार्च के बीच में नैनीताल में घूमने आना चाहिए।

नैनीताल की सबसे मशहूर चीज क्या है ?

नैनीताल की सबसे मशहूर चीजें यहाँ की नैनी झील है। नैनीताल के बीच में स्थित यह नैनी झील चारों तरफ से ऊँचे ऊँचे बर्फीले पहाड़ की चोटियों तथा प्राकृतक वातावरण से घिरा होने के कारण इसे पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

Leave a comment