20+ पटना में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

Patna Me Ghumne ki Jagah : इस लेख में आप पटना में घूमने की जगह , जाने का सही समय , खर्चा , कब जाना चाहिए कैसे जाना चाहिए घूमने के लिए कौन सा माध्यम आपके लिए बेस्ट होने वाला है। इन सारी चीजों की जानकारी आपको इस लेख में काफी सरल शब्दों में मिल जाएगी , बस आपको शुरू से अंत तक इसमें बने रहने की जरूरत है।

पटना में घूमने की जगह , जाने का समय और खर्चा

बिहार एवं पटना का इतिहास का अपने आप में काफी विशेष महत्व रखता है। यहाँ पर अनेकों शक्तिशाली शासकों ने शासन किया। पटना प्राचीन काल में पाटलिपुत्रा के नाम से जाना जाता है। क्योंकि पटना गंगा नदी के किनारे स्थित है। इसलिए यहाँ की भूमि काफी उपजायु होती है। जिस करना से यहाँ फसलों का पैदावार काफी अच्छा होता है। यहाँ का नालंदा शिक्षण के लिए पुरे देश के लिए प्रशिद्ध है। वर्तमान समय में पटना सबसे तेज गति से विकशित होने वाला शहर है काफी जल्द आपको यहाँ मेट्रो ट्रेन भी दौड़ता हुआ देखने को मिलेगा , क्योंकि वर्तमान समय में इसका कार्य काफी तेज गति से चल रहा है।

पुराने समय में पटना अंतराष्ट्रीय लेवल में कृषि लेवल का सम्पन्न केंद्र हुआ करता था। पटना ने इस देश को काफी सारे विद्वान दिए जिनका नाम इस प्रकार से हैं – चाणक्य , आर्यभट्ट , बालक पाणिनि , गौतम बुद्ध एवं राजेंद्र प्रसाद। देश में बड़े बड़े धर्मों सिक्ख धर्म , बोध धर्म एवं जैन धर्म का उदय भी इसी शहर में हुआ था।

इस शहर को पर्यटकों के द्वारा काफी ज्यादा पसंद किया जाता है। यहाँ आपको अनेकों अनेक पर्यटन स्थल देखने को मिलते हैं। यहाँ घूमने के लिए तथा यहाँ के इतिहास को समझने को लिए आपको एक से बढ़कर एक खंडर देखने को मिलते हैं। यहाँ आपको एक से एक मठ , मंदिर तथा संग्राहलय भी स्थित है , जो की पर्यकटों को बड़ी सांख्या में अपनी और आकर्षित करते हैं।

आइये एक एक करके यहाँ के सारे दर्शनीय स्थलों , पर्यटन स्थलों के बारे में विस्तार से जानने की कोशिश करते हैं ताकि आपको यात्रा के दौरान किसी भी तरह की परेशानी का सामना करना न पड़े और इस लेख में दी गई जानकारी से आप अपनी पटना में यात्रा के कार्यक्रम को और भी मजेदार बना सकते हैं।

पटना के बारे में रोचक तथ्य

  • पटना बिहार का एक सुप्रशिद्ध शहर है एवं बिहार की राजधानी है। इस शहर का पुराना नाम पाटलीपुत्रा है। यहाँ की मातृभाषा भोजपुरी, मगही एवं हिंदी है।
  • इस शहर का एक अलग ही ऐतिहासक महत्व देखने को मिलता है।
  • यहाँ आपको दुनिया का सबसे लम्बा पानी पर बनाया गया फुल देखने को मिलता है।
  • दुनियाँ का का सबसे बड़ा वाई फाई रेंज जोन आपको पटना में ही देखने को मिलता है। यह 1 या 2 किलोमीटर में ही नहीं बल्कि पुरे 20 किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • पटना में आपको हरमंदिर साहब के नाम का एक गुरुद्वारा भी देखने को मिलता है। जो की सिखों के लिए काफी पवित्र धार्मिक स्थल है। यहीं पर सिखों के 10 वें गुरु गोविन्द सिंह का जन्म हुआ था।
  • यह शहर गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है और इसकी काफी ऐतिहासिक विशेषताएं भी देखने को मिलती है।
  • पटना ने इस देश को काफी सारे विद्वान दिए हैं जिनके नाम इस प्रकार से हैं – आर्यभट्ट , पाणनि चाणक्य एवं कालिदास।
  • पटना में पहले के समय में काफी ज्यादा गुलाब के फुलों की खेती की जाती थी , उस समय गुलाब के फूलों को पाटली के फूलों के नाम से जाना जाता था। इसका इस्तेमाल इत्र एवं दवाई बनाने में किया जाता था। इसलिए पहले इसे पाटली ग्राम के नाम से भी जाना जाता था।
  • पटना में आपको चार नदियाँ देखे को मिलती है उनका नाम निम्न लिखित है – सोन , गंडक , गंगा एवं पुनपुन।
  • ककड़बाग एशिया के सबसे बड़ी कालौनी के रूप में प्रशिद्ध है एवं जनसँख्या के हिसाब से इसका नाम दूसरे स्थान में आता है।
  • कोलकाता का बाद पटना का नाम दूसरे सबसे बड़े शहरों में आता है।
  • पटना में आपको देश का सबसे बड़ा सभ्यता द्वार भी देखने को मिलता है।
  • पटना में आपको भूर्ण हत्याएं काफी कम देखने को मिलती है।
  • इतिहासकारों के अनुसार कहा जाता है। प्राचीन कल में जब इस शहर के राजा पुटराका की पत्नी पा टली को जब पुत्र प्राप्त हुआ तो उसकी के नाम पर इस शहर का नाम पाटलिपुत्रा रखा गया जो की बाद में बदल कर पटना कर दिया गया।

पटना में लोकप्रिय पर्यटक स्थल (Best Places to Visit in Patna in Hindi)

पटना संग्रहालय

पटना संग्राहलय को को जादू घर के नाम से भी जाना जाता है। पटना संग्रहालय बिहार में घूमने की सबसे प्रशिद्ध जगहों में से एक है। यहाँ आपको 50,000 से भी ज्यादा दुर्लभ वस्तुओं को एक साथ देखने का मौका मिलता है , जो की सचमुच काफी प्रसंसनीय है। साथ ही यहाँ आपको मध्य युग , ब्रिटिश औपनिवेशिक काल और प्राचीन काल की भारतीय कलाकृतियों को भी एक साथ देख सकते हैं। इस इमारत में आप मुगल और राजपूत वास्तुकला को एक साथ देख सकते हैं। यहाँ आपको हिन्दू और बौद्ध धर्म के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलता है। इन सारी चीजों के अलावा आपको यहाँ पर और काफी सारी प्राचीन अवशेष भी देखने को मिलते हैं। पटना संग्रहालय को घूमने के बाद आप पटना के पुराने इतिहास के बारे में बहुत सारी चींजो को काफी आसानी से समझ सकते हैं।

 Patna Museum
 Patna Museum

श्री कृष्ण विज्ञान केंद्र

यह श्री कृष्ण विज्ञान केंद्र आपको गाँधी मैदान के पश्चिमी क्षेत्र में देखने को मिलता है। इस विज्ञान केंद्र का खाशकर शिक्षा के क्षेत्र में आपना विशेष योगदान रहा है। इसे विधार्थियों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। इसे भारत के प्रथम मुख्यमंत्री डॉ श्री कृष्ण सिंह के नाम पर 1978 में बनवाया गया था।

इसके बगल में आपको एक काफी सुंदर उद्यान देखने को मिलता है। यहाँ भी आपको विज्ञान के सिद्धांतों का प्रदर्शनी देखने को मिलता है। श्री विज्ञान केंद्र तीन मंजिला है , जिसके हर मंजिल में आपको विज्ञान की अध्भुत कारीगरी देखे को मिलती है।

Shrikrishna Science Centre
Shrikrishna Science Centre

यहाँ पर आसपास के सभी स्कूली बच्चों के विज्ञान के प्रदर्शनी के देखने के लिए जाता है जिससे उन बच्चों को यहाँ विज्ञान के प्रति काफी कुछ सिखने को मिल सके हैं। श्री कृष्ण विज्ञान केंद्र को देखने के लिए बिहार के अलग अलग जिलों से भी काफी संख्या में लोग देखने के लिए आते हैं।

यहाँ अभी भी वैज्ञानिक कुछ शोधों पर काफी जोर से काम कर रहे हैं , ताकि भविष्य में इन तकनीकों का उपयोग करके मनुष्य के जीवन को और भी आसान बनाया जा सके हैं। पटना में घूमने वाले प्लेस में यह काफी महत्वपूर्ण जगह है। जिसे हर उम्र के लोगों बच्चे बुजुर्ग तथा वयस्कों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

इसे भी पढ़े

जालान हाउस

पटना का जालान हाउस पर्यटकों के द्वारा काफी पटना में घूमने की जगहों के रूप में काफी पसंद किया जाता है। यह किला हाउस के नाम से भी प्रशिद्ध है। यहाँ आज के समय में सिर्फ आपको बेशकीमती चीजें जैसे की हीरे जवाहरत एवं चीनी वस्तुओं का संग्रह देखने को मिलता है। आज के समय में यह निजी सम्पति है। यहाँ पर्यटकों के द्वारा सबसे ज्यादा देखा जाने वाला और पसंद किया जाने वाला चीज है तो वह है नेपोलियन का बिस्तर।

Jalan House
Jalan House

इसे बनवाने के लिए शेरशाह सूरी के टूटे हुए अवशेषों का इस्तेमाल किया गया था , जिसे बनवाने का श्रेय राधा कृष्ण जालान को जाता है। यहाँ की अध्भुत कलाकारी को लोंगो के द्वारा काफी पसंद किया जाता है।

इसकी सुंदरता पर्यटकों को दीवाना बना देती है। यहाँ की अद्भुत कलाकारी और दीवारों की नक्काशी पुरे विश्व में प्रशिद्ध है। जिसे देखने के लिए विश्व भर से पर्यटकों का आना जाना लगा रहता है। इसे बनाने के लिए अनेकों प्रकार के कीमती चीजों , जैसे सोना चाँदी एवं अन्य तरह के कीमते धातुओं का इस्तेमाल किया गया है। जिसके कारण इसकी खूबसूरती विश्व भर में प्रशिद्ध है।

महावीर मंदिर

पटना जंक्शन से बाहर निकलते ही आपको महावीर मंदिर देखने को मिल जाते हैं। जंक्शन के सामने होने के कारण यह यहाँ आने वाले हर पर्यटकों का जोर शोर से स्वागत करता है। इस मंदिर के द्वारा कैंसर के इलाज के लिए कुछ अस्पतालों को भी चलाया जाता है। यह हनुमान मंदिर नया बाजार में स्थित है। यहीं हनुमान मंदिर से कुछ दुरी पर आपको मस्जिद भी देखने को मिलता है। जो की हिन्दू मुस्लिम की एकता को दर्शाता है।

Mahavir Mandir
Mahavir Mandir

क्योंकि मैं पटना से हूँ और इस मंदिर में मेरा रोज का आना जाना लगा रहता है। इस लिए इसे मैं काफी करीब से जानता हूँ। इस मंदिर में रोजाना सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं का आना जाना लगा रहता है। यहाँ प्रसाद में दिया जाने वाला लड्डू स्थानीय लोंगो के बीच काफी पसंद किया जाता है। अपनी सारी मनोकामना को पूरी करने के लिए पटना भर्मण के दौरान इस महावीर मंदिर में आना कभी भी न भूलें।

गांधी संग्रहालय

पटना में घूमने के पर्यटन स्थलों में गाँधी संग्राहलय काफी खूबसूरत पर्यटन स्थल है। जिसे पर्यटकों के द्वारा खूब पसंद किया जाता है। इस संग्रहालय में आपको गाँधीजी के जीवन के बारे में सब कुछ काफी करीब से जानने का मौका मिलता है। जैसा की नाम से ही पता चलता है यह संग्राहलय गाँधी जी के जीवनी पर ही बनाया गया है। यह गाँधी संग्राहलय बांकीपुर बालिका उच्च विद्यालय के समीप स्थित है।

Gandhi Sangrahalaya
Gandhi Sangrahalaya

यहाँ आपको गाँधी जी के जीवन से जुडी हर एक चीजों को करीब देखने का मौका मिलता है। यहाँ आपको गाँधी जी के दैनिक जीवन में इस्तेमाल में लायी जाने वाली चीजें जैसे की गाँधी जी का चरखा , गाँधी जी की खड़ाऊ , गाँधी जी का चश्मा , गाँधी जी का कपड़ा और भी उनके जीवन से जुड़े विभन्न चीजों को देखने का मौका मिलता है।

यहाँ आपको एक पुस्तकालय भी देखने को मिलता है। जिसमे आप गाँधी जी के द्वारा उपयोग में लायी जाने पाठ्य पुस्तकों , उनके द्वारा लिखी गयी पुस्तकें का अनूठा संग्रह देखने को मिलता है।

इस संग्रहालय की सबसे बड़ी विशेषता यह है यहाँ गाँधी जी के तीनों बंदरों , लाठी एवं चश्मा इन सभी चीजों को काफी अच्छी तरीके सजा कर रखा गया है। जिसकी कलाकारी देखने लायक है।

पटना साहिब गुरुद्वारा

पटना में घूमने के स्थान में यह गुरद्वारा सिखों के लिए काफी पवित्र स्थान है। यह गुरुद्वारा आपको पटना सिटी में देखने को मिलता है। इस गुरुद्वारा को सिखों के 10 वें गुरु गोविन्द सिंह के याद में बनवाया गया था , जिसे बनवाने का श्रेय महाराजा रणजीत सिंह को जाता है।

Patna Sahib gurudwara
Patna Sahib gurudwara

पटना में घूमने के स्थानों इस खूबसूरत से गुरूद्वारे में आपको सिखों के इतिहास के बारे में भी बहुत कुछ जानने कको मिलेगा , इसके अलावा आप यहाँ सिखों के 10 वें गुरु की याद में संभल कर रखे गए कुछ बेशकीमती चीजें लोहे के तीर , एक जोड़ी चप्पल , सोने की परत वाला पालन को देख सकते हैं।

यहाँ आपको सिख धर्म के अनेकों धार्मिक ग्रंथ देखने को मिलते हैं। यहाँ आपके ठहरने के लिए का बड़ा सा धर्मशाला की भी व्यवस्था की गयी है। इस धर्मशाला में ठहरने एवं खाने पीने के लिए हजारों की संख्या में व्यवस्था आपको देखने को मिल जाती है। जिसमें काफी संख्या में सिख समुदाय के लोग यहाँ माथा टेकने , घूमने के लिए आते हैं। क्योंकि गुरूद्वारे में हर धर्म के लोगों का स्वागत किया जाता है , इसलिए यहाँ सिर्फ समुदाय के लोग ही नहीं आते हैं। यहाँ हर धर्म के लोग घूमने फिरने एवं मौजमस्ती के लिए आते हैं।

पाटन देवी का मंदिर

पाटन देवी मंदिर पटना में घूमने के स्थानों में काफी अच्छा पर्यटन स्थल है जिसे की यहाँ आने वाले पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। स्थानीय लोगों के बीच यह पटनेश्वरी देवी के रूप में जाना जाता है यह काफी पुरानी मंदिर है।

Badi Patan Devi Temple
Badi Patan Devi Temple

स्थानीय लोगों का कहना है की इसी मंदिर के कारण इस शहर का नाम पटना पड़ा , इस मंदिर की विशेषता यह है की यह शक्ति पीठों में से एक है।

खुदा बख्श ओरिएंटल लाइब्रेरी

पटना में घूमने वाले जगहों में यह खुदा बख्स लाइब्रेरी मुस्लिम समुदाय के लोंगो के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। यहाँ आपको मुग़ल और इस्लामिक धार्मिक ग्रंथों का बहुत बड़ा संग्रहालय देखने को मिलता है। यहाँ एक कुरान भी रखा गया है , जो की 25 मिलीमीटर है।

 Khuda Bakhsh Oriental Library
 Khuda Bakhsh Oriental Library

इस लाइब्रेरी में आप नादिर शाह की तलवार को भी देख सकते हैं। जिसे नादिर शाह ने दिल्ली में रहने वाले लोंगो के नरसंहार के लिए , दिल्ली के सुनहरी मस्जिद से उठाया था।

यहाँ आपको इस्लामिक धर्म ग्रंथों का भंडार देखने को मिलता है। यह काफी बड़ा लाइब्रेरी है जिसमे ढाई लाख के करीब किताबों को रखा गया है। जिसके कारन भरी संख्या में यहाँ मुस्लिम समुदाय के लोंगो हुजूम देखने को मिलता है।

सभ्यता द्वार

यह सभ्यता द्वार देखने में बिलकुल इण्डिया गेट एवं गेटवे आफ इंडिया के तरह लगता है। इस सभ्यता द्वार का निर्माण गंगा घाट के तट पर किया गया है। जो की 34 मीटर ऊँचा है। यह सभ्यता द्वार भारत की संस्कृति और सभ्यता को काफी अच्छी तरीके से प्रदर्शित करता है।

Sabhyata Dwar
Sabhyata Dwar

इस द्वार में आपको महापुरुषों भगवान महात्मा बुद्ध , सम्राट अशोक , महावीर स्वामी के विचारों को देखने को मौका मिलता है। जो की किसी के भी जीवन में सकारात्मक प्रभाव लाने के लिए काफी है। साथ ही इन श्लोकों के माध्यम से आपको पाटलिपुत्रा के के इतिहास के बारे में भी अच्छी खासी जानकारी मिल जाती है।

यहाँ उन महान व्यक्तियों के विचारों के बारे में भी पड़ने को मिलता है जो सभी धर्मों की के सम्मान करने की शिख देते है और सभी धर्मों में भाई चारा रखने के लिए सिखाता है। इस तरह से भारत देश की पावन भूमि की महिमा और गरिमा पुरे विश्व में फैलती है।

इंदिरा गांधी तारामंडल

यदि आप खगोल विज्ञान में रूचि रखते हैं तो पटना में घूमने वाले स्थानों में इंद्रा गाँधी तारामण्डल में आना कभी भी न भूलें , पटना में स्थित यह तारा मंडल एशिया के सबसे बड़े तारा मंडल में से एक है। यहाँ आने वाले पर्यटकों के द्वारा इसे काफी पसंद किया जाता है। तारा मंडल का मतलब होता है तारों का समूह या घर।

Indira Gandhi Planetarium Patna
Indira Gandhi Planetarium Patna

यहाँ आपको तारों ग्रहों नक्षत्रों के बारे में बहुत कुछ देखने सिखने और समझने को मिलता है। जिसके माध्यम से आप खगोल विज्ञान में अच्छी खासी जानकारी हांसिल कर सकते हैं। यह तारा मंडल काफी प्रशिद्ध और प्रतिष्टित तारा मंडल है। इस तारा मंडल में काफी अच्छी तरह से खगोलीय विज्ञान से सम्बंधित फिल्म दिखाई जाती है। जिससे की यहाँ देखने वाले पर्यटकों तथा दर्शकों को सब कुछ काफी अच्छी तरीके से समझ में आ सके हैं।

गोलघर

पटना में घूमने वाले स्थानों में पटना का गोलघर काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। इसे पटना में घूमने आने वाले पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। अगर आप पटना घूमने के लिए आ रहे हैं तो एक बार आपको पटना के गोलघर में जरूर आना चाहिए , यह आपके यात्रा को यादगार बना देता है। यह देखने में बिलकुल ही साधारण लगता है लेकिन इसकी वास्तुकला और इतिहास काफी रोचक एवं अद्भुत है।

Golghar
Golghar

इस गोलघर का निर्माण अनाज रखने के लिए गोदाम के रूप में किया जाता था। इसका निर्माण 1786 में किया गया था। इसे बनवाने का श्रेय कैप्टन जॉन गस्टिन को जाता है। कहा जाता है शुरू से लेकर अब तक इसमें इसकी अधिकतम क्षमता तक अनाज कभी भी नहीं रखा गया है।

यह देखने में बिलकुल ही एक स्तूप के तरह लगती है और यहाँ आपको कुल 145 सीढ़ी देखने को मिलती है। अगर आप यहाँ पर घूमने के लिए आ रहे हैं तो इस स्तूप के ऊपरी मंजिल तक जाना बिलकुल भी न भूलें , उपरी मंजिल तक जाते ही आपको यहाँ के पटना तथा पटना के गंगा नदी का अद्भुत नजारा देखने को मिलता है।

बिहार म्युसियम

पटना में घूमने वाले पर्यटनस्थलों में बिहार का म्यूजियम पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। अगर आप पटना घूमने के लिए आ रहे है। पटना के मध्य भाग में स्थित इस बिहार के म्युसियम को देखने का मौका कभी भी न छोड़े , इस म्युसियम में आपको पटना शहर के इतिहास के बारे में जानने को मिलता है। 13 एकड़ मेंफैले इस म्युसियम आपको डिजिटल डिस्कवरी मैप भी देखने को मिलता है। जिसके मदद से कृषि फिल्म को आसानी से समझ सकते हैं।

बिहार म्युसियम
बिहार म्युसियम

यहाँ के स्क्रीन पर चल रहे चल चित्रों के माध्यम से आप बिहार के भुत भविष्य एवं वर्तमान सारे के बारे में काफी अच्छे तरीके से जान सकते हैं। यहाँ होने वाले हर छोटे से लेकर बड़ी चीजों के बारे आसानी चल चित्र में चल रहे फिल्मों के माध्यम से काफी अच्छी तरह समझ सकते हैं। जैसे की यहाँ होने वाले छठ पूजा , दुर्गा पूजा होली दिवाली इन सभी के बारे में चल चित्रों के माध्यम से आसानी से समझ सकते हैं।

स्क्रीन पर चल रहे चल चित्रों के माध्यम से आप आप यहाँ के सामाजिक कल्चर , खान , पान एवं पहनावा इन सरे चीजों के बारे में काफी अच्छी तरह से जानकरी हांसिल कर सकते हैं।

साथ ही यहाँ आपको आर्टिफिशियल गुफा और चिड़ियाघर भी देखने को भी मिलता है। फोटोग्राफी के शौकीन लोंगो के लिए यह काफी शानदार जगह है। इस म्युसियम में आपको मानव इतिहास के बारे में भी बहुत कुछ जानने एवं समझने को मिलता है।

इस्कॉन मंदिर

अगर आप धार्मिक प्रवृति के इंसान हैं और आपको राधा कृष्ण के भक्ति का नशा है तो आपको बिलकुल भी चिंता करने की जरूरत नहीं है। वृन्दावन और मायापुरी के तरह ही यहाँ भी आपको इस्कॉन मंदिर देखने को मिलता है। पटना में घूमने के पर्यटन स्थलों में यह इस्कॉन मंदिर अभी पूरी तरह से बनकर तैयार नहीं हुआ है। इसलिए यह मायापुर एवं वृन्दावन के तरह यह इस्कॉन मंदिर भव्य नहीं है।

ISKCON Temple
ISKCON Temple

जल्द ही यह मंदिर बनकर तैयार हो जायेगा इसके बाद यह मंदिर बिहार में विशालकाय मंदिर के रूप में प्रशिद्ध हो जायेगा। इस मंदिर को बनवाने के लिए सफ़ेद एवं लाल रंग के पत्थरों का इस्तेमाल किया है। भगवान कृष्ण के इस मंदिर के भीतरी भाग में आपको श्री राम दरबार की मूर्तियां , श्री गौर निताई एवं श्री राधे बांके बिहारी की मूर्तियां देखने को मिलती है।

आज के समय में भी आप यहाँ वृन्दावन एवं मायापुरी के तरह ही श्री कृष्ण के तरह है भक्ति में डूबने का आनंद ले सकते हैं।

महात्मा गांधी सेतु

अगर आप दुनियाँ के एक ही नदी में बने सबसे बड़े सड़क पुल को देखना चाहते हैं तो आपको पटना के इस महात्मा गाँधी सेतु के पूल में अवश्य आना चाहिए। गंगा नदी पर यह पुल जिसकी लम्बाई 5.7 किलोमीटर है पर्यटकों को यह खूब भाता है। क्योंकि इस पूल से आप गंगा नदी के शानदार एवं खूबसूरत नजारा का भरपूर आनंद ले सकते हैं।

Gandhi Setu Patna
Gandhi Setu Patna

इस पूल का नाम राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के नाम पर रखा गया है इस पूल में आपको चार लेन वाली दो सड़के देखने को मिलती है एवं पैदल चलने वाले यात्रियों के लिए भी काफी अच्छी व्यवस्था देखने को मिलती है।

नालंदा विश्वविद्यालय

पटना में घूमने वाले स्थानों में यहाँ का नालंदा विश्व विश्वविद्यालय पुरे विश्व में प्रशिद्ध है। यह बिहार एवं पटना शहर का सबसे महत्वपूर्ण तथा सबसे ज्यादा घुमा जाने वाला जगह है। प्रचीन काल से ही यह विदेशी सैलानियों के लिए चर्चा का विषय रहता था और बना हुआ है।

नालंदा विश्व विद्यालय पहले के समय में अपने छात्रों के लिए रहने के लिए आवास मुहैया करने वाला एक मात्र विश्व विधालय हुआ करता था। उस समय में यहाँ रहने वाले विधार्थियों के लिए काफी अच्छा व्यवस्था उपलब्ध करवाता था जो की आज के समय में विधार्थियों को दी जाने वाली सुविधाओं से लाखों गुना बेहतर होता था।

Nalanda Vishwa Vidyalaya
Nalanda Vishwa Vidyalaya

इस विश्व प्रशिद्ध नालंदा विश्व विद्यालय की स्थापना पांचवी सदी में की गया था। उस समय कई देशों के विद्वान एवं विधार्थी यहाँ शिक्षा ग्रहण करने के लिए आते हैं। पुरे विश्व से चीन , जपान, इंडोनेशिया, तर्की , कोरिया एवं फारस जैसे सैकड़ों देशों के विधार्थी यहाँ शिक्षा ग्रहण करने के लिए आते थे। आज भी विधालय के आस पास आपको मंदिर एवं मठ देखने को मिलते हैं।

इसकी प्रशिद्धि इस बात से पता चलता है जब तर्की के शासक ने इस विश्व विद्यालय में आग लगवा दिया था उस समय पुरे तीन महीने तक यहाँ के पुस्तकालय की किताबे धूं धूं करके जलती रही थी। उस समय उन्होंने अनेकों धर्माचार्यों तथा बौद्ध भिक्षुओं को मौत के घाट उत्तार दिया था।

आज भी आपको यहाँ पर भगवान बुद्ध की अनेकों अनेक प्रकार की मूर्तियाँ देख सकते हैं । एक चीनी यात्री जो की सातवीं शताब्दी में पटना बिहार के नालंदा जिले में रुके हुए थे , वह इस विश्व विद्यालय से इतना प्रभवित हुए की उन्होंने इस पर काफी विस्तार से का एक बुक लिखा जिसका नाम है व्हेन त्सांग।

संजय गांधी बायोलॉजिकल पार्क

यदि आपको प्राकृतिक वातावरण से काफी लगाव है और आप प्राकृतिक माहोल में रहना पसंद करते हैं तो पटना में घूमने वाले स्थान में संजय गाँधी बायोलॉजिकल पार्क में आना कभी भी न भूलें। बायोलॉजिकल पार्क के मामले में इस पार्क का नाम एशिया में प्रथम स्थान पर आता हैं।

Sanjay Gandhi Jaivik Udyan
Sanjay Gandhi Jaivik Udyan

यहाँ आपको विभिन्न प्रकार के देशी विदेशी जंगली जानवर देखने को मिलते हैं और उनमे से काफी लुफ्तप्राय जानवर भी आपको देखने को मिलते हैं। उनके नाम कुछ इस प्रकार से हैं चिता , बाघ , भालू , हिरन ,शेर एवं हिप्पोपोटामस। 335 से भी ज्यादा विलुप्त हो चुके या हो रहे पक्षियों की प्रजातियां भी आपको देखने को मिलता है। गैंडों की संख्या के मामले यह पार्क विश्व में दूसरे नंबर में आता है।

सिर्फ पशु पक्षी प्रेमी के लिए ही नहीं बल्कि यह पार्क घूमने फिरनेवाले लोंगो के लिए काफी ज्यादा पसंद किया जाता है। इस पार्क में आपको काफी खूबसूरत झीलें और शानदर देखने को मिलता है। यह जगह पिकनिक स्पॉट के लिए भी काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। यहाँ आप बच्चों तथा परिवार के साथ हाथी की सवारी एवं टॉय ट्रेन जैसे रोमांचक गतिविधियों का भरपूर मजा ले सकते हैं।

जब भी आप यहाँ घूमने के लिए आ रहे हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें की इस पार्क में आप नवबर से फरवरी महीने में आप 6 बजे से 5 बजे तक आ सकते हैं। और वहीँ आप मार्च से अक्टूबर महीने में 5 बजे सुबह से 6 बजे तक शाम को आ सकते हैं। सोमवार के दिन यहाँ अवकाश रहता है।

हंगामा वर्ल्ड

पटना में घूमने वाले पर्यटन स्थलों में हंगामा वर्ल्ड में आपका स्वागत है। यह एक तरह का वाटर पार्क है। जिसमे बड़े बुजुर्गों के साथ बच्चे भी भरपूर मस्ती करते हैं। इसका निर्माण 2014 में किया गया था। इसे बच्चों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। यहाँ हमेशा आपको सैकड़ों लोंगो का भीड़ देखने को मिलता है।

Hungama World
Hungama World

यहाँ पर आप तरह तरह के वाटर स्पॉट्स का भरपूर मजा ले सकते हैं। इस हंगामा वर्ल्ड को बनाते समय बच्चों एवं नौजवानों का ख़ास ध्यान रखा गया है। यहाँ आपको तीन तरह के पूल देखने को मिलते हैं जिसमे स्लाइडिंग के लिए तरह तरह की व्यवस्था की गयी है।

इस पार्क को विशेषतः बच्चों को ध्यान में रखते हुए बनाया गया है। यहाँ बच्चों के लिए मनोरंजन के लिए काफी चीजों के भी व्यवस्था की गयी है। अगर आप परिवार एवं बच्चों के साथ पटना घूमने के लिए आ रहे हैं यहाँ आपको जरूर आना चाहिए।

यहाँ आपको घूमने के साथ साथ खाने पीने के लिए भी काफी अच्छी व्यवस्था देखने को मिलती है। यहाँ कैंप के अंदर पर्यटकों के लिए बहुत सरे रेस्टोरेंट की भी व्यवस्था की गई है।

जल मंदिर

पटना में घूमने वाले पर्यटन स्थलों में से एक नाम इस जल मंदिर का भी आता है जिसे की कमल फुल से बने तालाब के बीच में बनवाया गया है। यह जल मंदिर भगवान महावीर को समर्पित का मंदिर है। जिसे की सफ़ेद संमरमर से बनवाया गया है , जो देखने में काफी आकर्षक एवं अद्भुत लगता है।

 Pawapuri Jal Mandir
 Pawapuri Jal Mandir

यह सिर्फ पर्यटकों को आकर्षित करने का ही काम नहीं करता है बल्कि आपके मन को असीम शांति की प्राप्ति होती है , शांत मन का मतलब शक्तिशाली मन

यह मंदिर ज्यादा पुराना नहीं है इस मंदिर को हाल के ही दिनों में बनवाया गया है। इस मंदिर की अद्भुत खूबसूरती को देखने लिए विश्व भर से पर्यटकों का यहाँ आना जाना लगा रहता है। इस मंदिर की अद्भुत कलाकारी एवं चित्रकारी के कारन इस मंदिर का पुरे विश्व में आपना एक अलग ही स्थान है।

इस मंदिर के कारण भारत ही नहीं पटना का नाम भी विश्व के लेवल में आता है। यहाँ आपको मंदिर के आसपास काफी सूंदर बगीचा भी देखने को मिलता है जहाँ सुबह शाम अक्सर लोंगो को भर्मण करते देखा जा सकता है।

पटना में रात के समय घूमने लायक जगह (Places to Visit in Patna at Night)

  • पटना तारामंडल
  • श्री कृष्ण विज्ञान केंद्र
  • संजय गाँधी बॉटनिकल गार्डन
  • जालान संग्रहालय
  • आगम कुआँ
  • पटना संग्रहालय
  • गोलघर कुमारहरि

पटना में कपल के लिए घूमने लायक जगह (Best Places to Visit in Patna for Couples)

  • जल मंदिर
  • गुरुद्वारा हांडी साहिब
  • गुरुद्वारा बाल लीला
  • महावीर मंदिर
  • बुद्ध स्मृति पार्क
  • नालन्दा विश्व विद्यालय
  • खुदा बख्स राष्ट्रीय पुस्तकालय

पटना में गर्लफ्रेंड के साथ घूमने लायक जगह (Places to Visit in Patna with Girlfriend)

  • दीदारगंज यक्षियों
  • गुरुद्वारा गोबिंद घाट
  • पादरी की हवेली
  • बेगू हज्जाम की मस्जिद
  • सूर्य मंदिर

पटना के आसपास घूमने लायक जगह (Places to Visit Near Patna)

  • चौमुखी महादेव
  • राजा विशाल का गड़ी
  • कुंडलपुर
  • बावन पोखर मंदिर
  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण संग्रहालय
  • विश्व शांति शिवालय
  • राज्याभिषेक टैंक
  • कुटागरसला विहार
  • अवशेष स्तूप
  • बड़ागांव
  • सूरजपुर
  • सीलाओ

पटना में खाने के लिए क्या क्या फेमस है? (Patna me Kya Famous Hai)

यदि आप पटना घूमने के लिए आ रहे हैं तो यहाँ प्रशिद्ध भोजन लिट्टी चोखा भोजन का स्वाद लेना कभी भी न भूलें। स्थानीय लोंगो का यह पसंदीदा भोजन है। इसे बनाने के लिए चना , मक्का एवं गेहूं के भुने हुए सतु का इस्तेमाल किया जाता है। इसे घी में डुबोकर परोसा जाता है।

यह काफी अच्छा भोजन है जिसे की लोंगो के द्वारा खूब पसंद किया जाता है। इसे बनाने के लिए तरह तरह के मशालों का प्रयोग किया जाता है। जिसे बाद में सब्जियों के साथ परोसा जाता है। यह काफी स्वादिस्ट होता है और यह ऐसा भोजन है जिसे लेने के बाद आपको लम्बे समय तक भूख भी लगने नहीं देता है।

इसके अलावा आपको इस शहर में पुरे भारत वर्ष के व्यंजन का भी स्वाद लेने का मौका मिलता है। क्योंकि यहाँ आपको भारत के विभिन्न हिस्सों के लोंगो को रहते देख सकते हैं।

अगर आप नॉनवेज के शौकीन हैं तो उसके लिए भी यहाँ अच्छी खासी व्यवस्था है। नॉनवेज में आपको सभी प्रकार के भोजन चिकन, मटन मछली एवं अंडे हर चीज की व्यवस्था देखने को मिलती है।

पटना कैसे पहुंचे? (रेल, सड़क और हवाई मार्ग)

आप भारत के किसी भी शहर से पटना काफी आसानी से पहुँच सकते हैं पटना आने के लिए आप ट्रेन , बस एवं हवाई मार्ग के सहायता से काफी सुविधाजनक तरीके से आ सकते हैं। पटना पहुँचते ही आगे की यात्रा आप रिक्शा , टैक्सी ,बाइक , शहरी बसों तथा सिटी बस के माध्यमकाफी आसानी से एवं सुविधाजनक पटना में घूमने वाले सारे स्थानों के भर्मण आप कर सकते हैं।

हवाई मार्ग

पटना का हवाई अड्डा लोक नारायण अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डा भारत वर्ष के सारे प्रमुख हवाई अड्डे दिल्ली मुंबई कोलकाता चेन्नई से अच्छी तरीके से जुड़ा है। जिससे आपको भारत के किसी भी शहर से यहाँ आने के लिए किसी भी तरह के समस्या का सामना करना नहीं पड़ता है।

सड़क मार्ग

आज के समय में पटना का सड़क मार्ग भारत के कोने कोने में काफी अच्छे से जुड़ा हुआ है। इसलिए आप किसी भी बड़े शहर से यहाँ बस के माध्यम से काफी सुविधा जनक तरीके से आसानी से पहुँच सकते हैं।

रेल मार्ग से

अगर आपको रेल की यात्रा करना पसंद है तो आपकी जानकारी के लिए बता दें की पटना का रेलवे स्टेशन भारत के बड़े बड़े रेलवे स्टेशनों से अहमदाबाद, अमृतसर, चेन्नई मुंबई , कोलकाता से सीधे रेलवे की सुविधा उपलब्ध कराती है।

भारत के मुख्य शहरों से पटना की दूरी

शहर का नाम पटना तक की दुरी ( किलोमीटर )
चेन्नई 2,120 .1
हैदराबाद 1,495.8
अहमदाबाद 1,665.6
बैंगलोर 2,087.0
मुंबई 1,872.4
कोलकाता 593.6
जोधपुर 1403.8
जयपुर 1,070.2
दिल्ली 1,051.1

पटना जाने के लिए सही समय

पटना में घूमने जाने से पहले आपको इस बात की जानकारी अवश्य होनी चाहिए। पटना में घूमने के लिए सारे पर्यटन स्थलों के भर्मण लिए सबसे अच्छा समय सर्दियों का समय होता है जो की अक्टूबर से मार्च के बीच पड़ता है। इस समय यहाँ का मौसम घूमने के घूमने के अनुकूल एवं यहाँ का प्राकृतिक सौंदर्य काफी खूबसूरत होता है। जिसे की यहाँ आने वाले पर्यटकों के द्वारा काफी पसद किया जाता है।

पटना में रुकने की जगह

इस शहर में रुकने के लिए आपको बहुत सारे छोटे मोठे होटल मोटल रेस्टोरेंट एवं लॉज मिल जाते हैं। यहाँ पर्यटकों के लिए रात गुजारने के लिए काफी अच्छी अच्छी धर्मशालाओं की भी व्यवस्था देखने को मिलती है।

यहाँ आपको विभिन्न समुदाय के द्वारा बनाये गए धर्मशालायें भी देखने को मिलता है जिसमे यहाँ आने वाले यात्रियों के ठहरने के लिए काफी अच्छा व्यवस्था की गयी है।

यदि आप होटल के शौकीन हैं तो आपको यहाँ एक से बढ़कर एक होटल देखने को मिलते हैं जिनके नाम कुछ इस प्रकार है होटल अप्सरा , होटल राज रिसोर्ट, एनके ग्रैंड , मणि इंटरनॅशनल एवं रामेश्वरम गेस्ट हाउस।

पटना घुमने में खर्चा

अगर आप छोटे मोठे गेस्ट होउस में रुकते हैं यहाँ का खर्चा आपको 200 रुपया पैर नाईट पड़ता है। इनके अलावा अगर आप रुकने के लिए होटल का इस्तेमाल कर रहे हैं तो आपका खर्च काफी ज्यादा भी सकता है।

पटना में दर्शनीय स्थल के भर्मण करने के लिए आपको रोजाना 200 से 400 तक के खर्चे करने पड़ सकते हैं। दिन के समय में भोजन के लिए आपको 200 से 300 के बीच करके हो ही जाते हैं।

इस तरह से पटना में घूमने के लिए 7 से 10 दिनों का खर्चा देखा जाय तो आपको 15 से 25000 तक के खर्चे अवश्य करने होते हैं। इसमें सारे खर्चे जैसे यातायात में होने वाले बड़े खर्चे एवं महंगे होटलों में होटलों को जोड़ लिया गया है।

पटना कैसे घूमे?

पटना में विभिन्न तरह के पर्यटन स्थलों को घूमने के लिए आपको यहाँ हर तरह के वाहन बाइक से कार तक के वाहन काफी कम कीमतों में किराये के लिए मिल जाते हैं।

इन सब के अलावा आप यहाँ पर चलने वाले लोकल बस , कैब एवं टोटो का भी इस्तेमाल एक जगह से दूसरे जगह पर जाने के लिए कर सकते हैं।

पटना घूमते वक्त अपने साथ क्या रखें?

क्योंकि आप पटना में घूमने के लिए सर्दियों के मौसम में आ रहे हैं। इसलिए सर्दियों में इस्तेमाल किये जाने वाले सारे कपड़ों स्वेटर , जैकेट , कंबल ,चादर को अपने साथ रखना कभी भी न भूलें।

इसके अलावा आपको अपने साथ घूमने के लिए उपयोग में लाये जाने वाले जरुरी दस्तावेजों को साथ में रखना होता है।

FAQ

पटना किस नदी के किनारे बसा हुआ है ?

पटना गंगा नदी के किनारे बसा हुआ है।

पटना का प्रशिद्ध भोजन क्या है ?

पटना का प्रशिद्ध भोजन लिट्टी चोखा है।

पटना कहाँ की राजधानी है ?

पटना बिहार की राजधानी है।

पटना का पुराना नाम क्या है ?

पटना का पुराना नाम पाटलिपुत्रा है।

निष्कर्ष

मैंने अपने इस लेख में पटना में घूमने की जगहों (Patna Me Ghumne ki Jagah) के बारे सरे जानकारी जैसे पटना कब घूमें, कितने दिनों में घूमें , घूमने के लिए कौन सा माध्यम का इस्तेमाल करना सही रहेगा सरल शब्दों में समझाने का कोशिश किया है।

उम्मीद है की मेरा यह लेख आपको काफी पसंद आया होगा , अगर मेरा यह लेख आपको पसंद आया हो या आपके लिए थोड़ा भी मददगार साबित हुआ हो तो इसे अपने मित्रों एवं रिश्तदारों के साथ शेयर करना कभी भी न भूलें।

इसके अलावा आपको इस लेख से किसी भी तरह की शिकायत है तो आपको अपना किमती विचार अपने इस लेख के कमेंट सेक्शन रखना अति अनिवार्य है।

Leave a comment