10+ऋषिकेश में घूमने की जगह, जाने का समय और खर्चा

Rishikesh me Ghumne ki Jagah: इस लेख में आप ऋषिकेश के बारे में ऋषिकेश में घूमने की जगह के बारे में सारी जानकारी आसानी से मिल जाएगी। ऋषिकेश कहाँ है ? ऋषिकेश क्यों प्रशिद्ध है ? ऋषिकेश में घूमने में जगह कौन कौन सी है ? कब जाना चाहिए ? कैसे जाना चाहिए ? किस तरह की गतिविधियाँ करनी चाहिए ? कितना खर्च करना होता है ?

ऋषिकेश में घूमने की जगह  जाने का समय और खर्चा

ऋषिकेश में घूमने से लेकर रहने तक की सारी जानकारी इस लेख के माध्यम से आपको मिल जाएगी , बस आप इसमें शुरू से अंत तक बने रहिये।

Contents

ऋषिकेश कहाँ स्थित है ?

ऋषिकेश उत्तराखंड राज्य के देहरादून जिले में में बसा काफी खूबसूरत और प्रशिद्ध पर्यटन स्थल है जो की हिमालय की तलहटी में बसा हुआ है। यह ऋषि मुनियों की जन्मभूमि के रूप में प्रशिद्ध है। ऋषिकेश में घूमने की जगह काफी सारी है क्योंकि यहाँ पर देश विदेश से लोग योग और साधना शांति के लिए आते हैं इसलिए इसे योग केपिटल ऑफ़ द वर्ल्ड के नाम से भी जाना जाता है

ऋषिकेश से जुड़े रोचक तथ्य

  • ऋषिकेश विश्व के योग की राजधानी के रूप में काफी प्रशिद्ध है। ऋषिकेश में घूमने की जगह के साथ साथ यह योग के लिए भी काफी प्रशिद्ध है। ऋषिकेश प्रकृति के गोद में बसा हुआ है जिस कारण से यहाँ पर योग ध्यान और साधना का अभ्यास करना आपको एक अलग अध्भुत अनुभव प्रदान करता है।
  • ऋषिकेश में शराब और मांस का विशेष रूप से प्रतिबंद है। क्योंकि ऋषिकेश में घूमने की जगह के साथ ही बहुत धार्मिक और पवित्र स्थल है।
  • यहाँ का कैलाश आश्रम 133 साल पुराना है , जो शास्त्रीय वेदांत अध्ययनों को बढ़ावा देने और उसे संरक्षित करने के लिए प्रशिद्ध है। इस आश्रम ने स्वामी शिवानंद, स्वामी विवेकानंद और स्वामी राणा तीर्थ जिसे प्रमुख लीडर दिए।
  • ऋषिकेश को चारों धामों केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री का प्रवेश द्वार माना जाता है।
  • ऋषिकेश में घूमने की जगह के साथ साथ यह अपने रोमांचक गतिविधियों के लिए भी काफी प्रशिद्ध है जैसे की बंजी जम्पिंग पैराग्लाइडिंग, ट्रकिंग, केम्पिंग और रिवर राफ्टिंग के लिए भी काफी ज्यादा प्रशिद्ध है। पर्यटकों का भीड़ बड़ी तदाद में इन खेलों के लिए देखने को मिलता है।
  • ऋषिकेश सिर्फ ऋषिकेश में घूमने की जगह के लिए प्रशिद्ध नहीं है यह पवित्र, धार्मिक और योग शिक्षाओं के मामले में प्रशिद्ध शहर होने के कारण इसका साक्षरता दर ( 78 ) भी काफी ज्यादा है।
  • ऋषिकेश के त्रिवेणी घाट सबसे बड़े घाट के रूप में प्रशिद्ध है यहाँ शाम के समय में गंगा की महाआरती होती है। इस जगह का उल्लेख आपको रामायण और महाभारत में भी देखने को मिलेगा। यहाँ लाखों की सांख्या में पर्यटकों का भीड़ देखने को मिलता है।

ऋषिकेश में घूमने लायक जगह – Rishikesh me Ghumne ki Jagah

ऋषिकेश ऋषि मुनियों का शहर इसलिए यहाँ की खूबसूरती पवित्रता और धार्मिकता एक अलग ही लेवल का देखने को मिलता है। ऋषिकेश की यात्रा आपके मन और आत्मा को बदल कर रख देता है। ऋषिकेश में घूमने की जगह और देखने की जगह काफी सारी है यदि आप ऋषिकेश घूमने जा रहे हैं तो फिर इन प्रमुख जगहों में जाने का मौका कभी भी न छोड़ें।

ऋषिकुंड ऋषिकेश में घूमने की जगह

त्रिवेणी घाट से कुछ दुरी पर ऋषिकुंड स्थित है जहाँ आप पैदल यात्रा करके भी आसानी से पहुँच सकते हैं। इस कुंड की खास विशेषता यह है की सर्दियों के मौसम में भी इस कुंड का पानी गर्म रहता है। एक पौराणिक कथाओं के अनुसार इस कुंड का निर्माण ऋषि मुनियों ने अपने तपोबल से किया था और इस कुंड एक उपयोग ऋषिमुनि अपने स्नान के लिए किया करते थे।

Rishikund
Source : Rishikund

इस कुंड में गंगा यमुना एवं सरस्वती से पानी एक साथ एकत्रित होता था। कुंड के पास ही एक रघुनाथ मंदिर देखने को मिलता है जो की भगवान राम और सीता का मंदिर है। इस मंदिर के गर्भगृह में भगवन राम और सीता की काफी सूंदर मूर्ति देखने को मिलती है।

बीटल्स आश्रम, ऋषिकेश

बीटल्स आश्रम ऋषिकेश में घूमने की जगह में काफी आकर्षक पर्यटन स्थलों में एक है, यह पहले महर्षि योगी के आश्रम के नाम से प्रशिद्ध था। यह आश्रम रामझूला से करीब 1 किलोमीटर की दुरी पर स्थित स्वराश्रम नाम के चट्टान पे बसा हु है। 1968 में ब्रिटिश बेंड ने यहाँ रहकर योग साधना किया था और बहुत सारे गीत का भी निर्माण किये था।

Beatles Ashram in Rishikesh
Source : Beatles Ashram in Rishikesh

इस आश्रम का दूसरा नाम चौरासी कुटी भी है। इस आश्रम के परिसर में रसोई मेडिटेशन झोपड़ी , महर्षि योगी एक घर , पुस्तकलय और एक मंदिर भी देखने को मिलता है। यहाँ कुछ दीवारें ख़राब हो चूँकि फिर भी आपको दीवर की रंगीन चित्र भीति अवश्य देखने को मिलेगी। यहाँ आना आपके मन को काफी सकून और शांति देता मिलता है।

कौडियाला

Kaudiyala Rishikesh
Source : Kaudiyala Rishikesh

ऋषिकेश में घूमने की जगह की कोई कमी नहीं है और इनमे से ज्यादातर जगह पर्यटकों द्वारा काफी पसंद किया जाता है। कौडीयाला एक ऐसी जगह है जो पर्यटकों डरा काफी पसंद किया जाता है। यहाँ आपको तरह तरह के रोमांचक गतिविधियों पैराग्लाडिंग बोटिंग एवं रिवर राफ्टिंग का भरपुर मजा लेने का मौका मिलता है। यहाँ आने पर आपको बिलकुल गोवा के बीच में आने जैसा ही आनंद मिलेगा।

बंजी जंपिंग हाइट्स, ऋषिकेश

Bungy Jumpiming in Rishikesh
Source : Bungy Jumping

ऋषिकेश में घूमने की जगह में एक जगह बंजी जम्पिंग भी है जो की भारत की सबसे ऊँची बंजी जम्पिंग के रूप जानी जाती है और यह एडवेंचर्स का शोक रखने वालों के लिए काफी प्रशिद्ध है। यहाँ आप बंजी जम्पिंग के अलावा बहुत ही प्रकार के रोमांचक गतिविधियों जैसे की जायंट स्विंग फ़्लाइंग फॉक्स का भरपूर मजा ले सकते हैं।

त्रिवेणी घाट

ऋषिकेश में घूमने की जगह में यह एक पवित्र जगह है जहाँ पर गंगा यमुना और सरस्वती तीनों नदियों का संगम है। यहाँ आपको सुबह आरती देखने को मिलती है और शाम के वक्त महा आरती देखने को मिलती है।

त्रिवेणी घाट प्रमुख स्न्नान घाट के रूप जाना है यहाँ पर श्रद्धालु सुबह के समय गंगा नदी में डुबकी लगाने स्नान आदि आते हैं। त्रिवेणी घाट के एक छोर शिवजी और गंगा माता की सूंदर सी मूर्ति है जो की उसके जटा से निकल रही है और वही दुसरी तरफ श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को गीता का ज्ञान देते हुये एक सुंदर सी मूर्ति देखने को मिलती है। और यहाँ आपको गंगा माता का विशाल मंदिर भी देखने को मिलता है।

triveni ghat
Source : triveni ghat

कहा जाता है पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान कृष्ण को तीर लगने के बाद इसी नदी के तट पर कुछ देर के आराम के लिए रुके थे बस इस कारण से इस तट का महत्व और भी बढ़ गया था।

कैलाश निकेतन मंदिर

ऋषिकेश में घूमने की जगह के रूप प्रशिद्ध यह मंदिर 13 मंजिला मंदिर है जो की ऋषिकेश का सबसे ऊँचे मंदिर के रूप में जाना जाता है। इस मंदिर में आपको सारे देवी देवताओं का प्रतिमा देखने को मिलेगा। इसका दूसरा नाम त्रिंबकेश्वर मंदिर भी है।

Kailash -niketan -temple
Source : Kailash – niketan – temple

लक्ष्मण झूला को पर करने के बाद ही आप कैलाश निकेतन मंदिर का दर्शन कर सकते हैं , इस मंदिर का निर्माण 12 खंडो में हुआ है जो की काफी विशाल और ऋषिकेश के अन्य मंदिरों काफी अलग है।

इस मंदिर के 13वीं मंजिल से ऋषिकेश के प्रकृति अध्भुत सौन्दर्य का मजा ले सकते हैं।

नीलकण्ठ महादेव मंदिर

ऋषिकेश में घूमने की जगह में नीलकंठ महादेव मंदिर एक प्रशिद्ध पर्यटन स्थल और काफी खूबसूरत मंदिर में से एक मंदिर है। इस मंदिर को ऋषिकेश में सबसे पूजनीय मंदिर के रूप में जाना जाता है। माना जाता है की इसी जगह पर भगवान शिव ने समुन्द्र मंथन के दौरान विषपान किया था इस वजह से उनका गाला नीला रह गया था और तब से उनका नाम नीलकंठ पड़ा।

इस मंदिर में आपको एक ताजे पानी का झरना भी देखने को मिलता है , जिसमे श्रद्धालु गण पूजा दर्शन से पहले स्न्नान आदि कर लेते हैं।

राजा जी नेशनल पार्क

अगर आप ऋषिकेश में घूमने जा रहे है और आप पशु पक्षी प्रेमी हैं तो फिर आपको राजा जी नेशनल पार्क अवश्य जाना चाहिए। क्योंकि ऋषिकेश में घूमने की जगह के रूप में राजा जी नेशनल पार्क वाइल्ड लाइफ का मजा लेने वालों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है।

यहाँ आप जंगल सफारी का भी भरपुर मजा ले सकते हैं यहाँ पर आपको तरह तरह के विभिन्न प्रजातियों के पशु पक्षी जैसे की जंगली जानवर और विभिन प्रजाति के पक्षी को आप करीब से देख सकते हैं। यहाँ प्रत्येक साल लाखों की सांख्या में पर्यटकों का भीड़ देखने को मिलता है। जानवरों में आपको विभिन तरह के खरगोश, कोबरा हिरन,जंगली बिल्ली , सांभर, जंगली सुअर चीता, चीता और भालू देखने को मिल जाते हैं।

ऋषिकेश के इस प्रशिद्ध नेशनल पार्क में आपको घूमने के दौरान कुछ फीस भी देना होता है प्रति व्यक्ति शुल्क 750 रुपया है और फिरंगियों के लिए 1500 का फीस है। अगर आप इस जंगल सफारी का मजा पैदल न चलकर के एक जीप से लेना चाहते हैं तो इसके लिए आपको 1500 फीस देना होता है और पार्टी व्यक्ति का चार्ज 150 रुपया आता है।राजाजी नेशनल पार्क ऋषिकेश में घुमने की जगह में काफी खुबसुरत और मनोरंजक जगह है।

लक्ष्मण झूला

लक्ष्मण झूला ऋषिकेश में घूमने की जगह में हैंगिंग ब्रिज के रूप में प्रशिद्ध है। यह आपको शहर से मात्र 5 किलोमीटर की दुरी पर देखने को मिलता है। इसकी नदी से ऊंचाई 70 फ़ीट है और लम्बाई 450 फ़ीट है। यह झूला आज के समय में टूरिस्टिक प्लेस बन गया है।

इस झूले की मान्यता यह है की यहाँ पर भगवान राम के भाई लक्मण ने इसी जगह से नदी को पर किया था।इस पुल को 1929 में बनाया गया था। आपको इस झूले के आसपास काफी सारे मंदिर देखने को मिलेंगे जहाँ पे रुकने से आपके मन को काफी शांति मिलेगी।

वशिष्ट गुफा

वशिष्ट गुफा ऋषिकेश से मात्र 16 किलोमीटर की दुरी पर ही है। ऋषिकेश में घूमने की जगह में यह गुफा काफी पवित्र और चमत्कारिक गुफा है। यह गुफा गुलर के पेड़ों के बीच स्थित है जो की ध्यान एवं साधना करने के लिए काफी प्रशिद्ध है। इस गुफा में बहुत सारे ऋषियों ने सिद्धि हाशिल किये थे।

यह गुफा गंगा किनारे पहाड़ियों के नीचे बसा हुआ है जिसे हाजरों साल पुराणी जानी जाती है। इस गुफा की सबसे विशेष बात यह है की इस गुफा के अंदर ठंडी हो या गर्मी हर समय तापमान एक सा होता है। यह एकदम से प्राकृतिक गुफा है इस गुफा की खोज ऋषि वशिष्ट ने किया था इस कारण इसे वशिष्ठ गुफा के नाम से जाना जाता है।

ऋषिकेश के प्रसिद्ध भोजन

समोसा

समोसा भारत का प्रशिद्ध स्ट्रीट फ़ूड है यह आपको हर राज्य शहर और नुकड़ में देखने को मिल जाता है। अपने कभी न कभी इसका स्वाद अवश्य लिया होगा। ऋषिकेश में घूमने की जगह में हर चौक चौराहों में आपको समोसा जिसे पर्यटक सुबह चाय के साथ नास्ते में बड़े ही चाव के साथ खाते हैं। समोसे को चाय या काफी के साथ लेने का मजा ही अलग होता है।

समोसे को बनाने के लिए आलू को विभिन्न प्रकार के मशोलों में मिलकर उसे भुजी या सब्जी बनाकर मेदे या आटे में स्टफिंग करके तैयार किया जाता है।

मिठाई

ऋषिकेश एक पवित्र एवं धार्मिक स्थल है ऋषिकेश में घूमने की जगह में ज्यादातर आपको सिर्फ मंदिर ही देखने को मिलते हैं जहाँ आपको पूजा सामग्री के रूप में प्रसाद के रूप में तरह तरह की मिठाई देखने को मिलती है।

यहाँ आपको शुद्ध घी से बनी बहुत तरह की मिठाइयां देखने को मिलती है जिसका स्वाद अद्भुत होता है। यहाँ आपको विभिन्न तरह की मिठाइयाँ नारियल की बर्फी , बेसन के लड्डू और बेसन की बर्फी देखने को मिलती है आपको जो भी अच्छा लगे उसे आप अपने साथ ले जा सकते हैं। चाहे तो आप इनका इस्तेमाल अपने नास्ते में भी कर सकते हैं।

डोसा

वैसे तो डोसा साउथ इंडियन के लिए काफी प्रशिद्ध मन जाता है। जैसा की आपको पहले पता चल चूका है ऋषिकेश में घूमने की जगह काफी सारी है और इन जगहों में भारत के विभिन्न राज्यों से श्रद्धालु और पर्यटक घूमने के लिए आते हैं।

यदि आप दक्षिण भारतीय हैं या फिर आपको डोसा पसंद है तो फिर आपका यहाँ पर स्वागत है। इसे बनाने के लिए चवाल और चने के दाल के पेस्ट का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें विभिन्न तरह की चटनियों को डाल कर और भी ज्यादा स्वादिस्ट बने जाता है।

पानी पुरी

पानी पूरी भारत के हर गली चौराहे में देखने को मिल जाता है इसे गेहूं के पूड़ी में चोखा डाल कर तैयार किया जाता है और इसे तीखा पानी में डुबोकर खाया जाता है। ऋषिकेश में घूमने की जगह कई सारे हैं, सारे जगहों में यह आपको आसानी से मिल जायेगा।

यह आप पे जाता है आप इसे सड़कों से भी ले के खा सकते हैं या फिर आप इसे रेस्टरेंट में जाके मजा ले सकते हैं , इसे तीखा और टेस्टी बनाने के लिए इसमें इमली के पानी को मिलाया जाता है।

आलू पूरी

ऋषिकेश को देव भूमि कहा जाता है ऋषीकेस में घूमने की जगह में जायदातर आपको मंदिर ही देखने को मिलते हैं पूजा आरती के बाद आलू पूरी यहाँ का स्वादिस्ट नास्ते के रूप में काफी फेमस है। आलू पुर वैसे तो पुरे भारत में कहीं पर भी के रूप में मिल जाता है।

लेकिन यहाँ का आलू पूरी का स्वाद आपको थोड़ा अलग मिलेगा , इसे अक्सर स्थनीय क्षेत्रों में उपयोग में आने वाले पतों का बर्तन बना कर परोसा जाता है।

छोले भटूरे

क्योंकि ऋषिकेश में घूमने की जगह काफी सारे हैं इसलिए भारत के हर जगह से लोग घूमने के लिए आते हैं इसलिए आपको यहाँ पर हर तरह का भारतीय व्यंजन आपको देखने मिलता है। वैसे तो छोला भटूरा पंजाबियों का पसंदीदा खाना है।

अगर आपको छोला भटूरा अच्छा लगता है तो फिर यहाँ पर भी आप छोले भठूरे का भरपूर मजा ले सकते हैं आपको यहाँ छोला भटूरा एक ग्लास लस्सी के साथ मिलता है जो आपके दिन की शुरआत को शानदार बना देता है। ऋषिकेश में घूमने की जगह में बहुत सारे आउटलेट छोले भठूरे के लिए काफी प्रशिद्ध है उनमे से एक नाम आता है छोटीवाला जो की काफी प्रशिद्ध है और उनका छोला भटूरा 1958 से प्रशिद्ध है।

ऋषिकेश में निशुल्क रहने की सुविधा

ऋषिकेश में आप कही भी होटल बुक करते हैं तो आपको फीस देना होता है। लेकिन यदि आप ऋषिकेश में रहने में रहने की जगह में निशुल्क रहने की सुविधा चाहते हैं तो फिर आपको परमार्थ निकेतन आश्रम जाना होगा। जहाँ श्रद्धालुओं और पर्यटकों के लिए निशुल्क जाने की सुविधा है और भोजन की भी उचित व्यवस्था है।

इसके साथ ही अगर आप कम खर्चों में जैसे की 100 – 200 रुपए खर्च करके रहें की जगह खोज रहे हैं तो फिर आपको बाबा काली वनप्रस्त आश्रम ,जय राम आश्रम, निर्मल आश्रम मंदिर आश्रम और साधना आश्रम अवश्य विजिट करना चाहिए।

यहाँ की ज्यादातर आश्रम गंगा नदी के तट पर बसे होने के कारण यहाँ से आपको गंगा के किनारे का अद्भुत नजारा देखने को भी मिलता है।

इसके साथ ही आपको यहाँ पर कई तरह के कीमती होटल भी देखने को मिलता है जो ऐसी और नॉन ऐसी भी होते हैं आप अपने बजट और अनुसार जो सही लगे आप बुक कर सकते हैं।

ऋषिकेश कैसे पहुंचे?

यदि आप ऋषिकेश जाना चाहते हैं तो पहले यह पता होना चाहिए की ऋषिकेश उत्तराखंड में स्थित है और उत्तराखंड भारत के सभी राज्यों के से सड़क रेल एवं वायु मार्ग से जुड़ा है आप किसी भी राज्य से हैं। आप अपने शहर से किसे भी माध्यम के द्वारा यहाँ पर आसानी से आ सकते हैं यह आप पर निर्भर कारता है की आपको कोन सा माध्य्म अच्छा लगता है।

सड़क मार्ग द्वारा

ऋषिकेश सड़क मार्ग से भारत के सभी राज्यों और शहरों से जुड़ा हुआ है जिससे सड़क मार्ग द्वारा आप आसानी से ऋषिकेश पहुँच सकते हैं। भारत के कुछ बड़े शहरों से दिल्ली, हरिद्वार एवं देहरादून ऋषिकेश के लिए डायरेक्ट आपको बस की सुवधा मिल जाती है।

हवाई जहाज

अगर आप ऋषिकेश हवाई जहाज से जाना चाहते है तो फिर आपको अपने शहर से जॉलीग्रांट के लिए टिकट बुक करना होता है इसके बाद आपको वहां से ऋषिकेश के लिए 34 किलोमीटर की यात्रा आपको टैक्सी से करनी होती है।

ट्रेन के माध्यम से

अगर आपको ट्रेन से यात्रा करना अच्छा लगता है तो सबसे पहले अपने नजदीकी रेलवे स्टेशन से हरिद्वार के लिए टिकट बुक करा लें। हरिद्वार का यह रेलवे स्टेशन दिल्ली मुंबई लखनऊ चेनई जैसे बड़े शहरों से सीधे जुड़े होने के कारण आपको कही से भी यहाँ लिए बिना किसी झंझट के आप आसानी से ऋषिकेश पहुँच सकते हैं।

ऋषिकेश कैसे घूमे?

अगर आप ऋषिकेश घूमने के लिए जा रहे हैं तो पुरे ऋषिकेश आप पैदल नहीं घूम सकते हैं तो इसके लिए आपको बाइक या टैक्सी रेंट पर लेनी होती है। ऋषिकेश में घूमने की जगह के आसपास इसे कई सारे दुकान देखने को मिल जाते हैं जहाँ से आप बाइक या कार रेंट में लेकर पुरे ऋषिकेश में घूमने का मजा ले सकतें हैं।

वैसे यहाँ बाइक और कर का किराया अलग अलग होता है। आप 500 में बाइक किराये में ले सकते हैं बाइक के किराये में ऊपर नीचे हो सकता है यह आप पर निर्भर करता है की आप किस तरह का बाइक सेलेक्ट करते हैं। उसके पहले आपको सरे डॉक्यूमेंट सेक्युोरिटी के रूप में जमा करना होता है।

ऋषिकेश जाने का सही समय (Best Time to Visit Rishikesh)

यह आपके मुड पर निर्भर करता है आपको किस मौसम में घूमना अच्छा लगता है यदि रिवर राफ्टिंग का शोक है तो जुलाई अगस्त के महीने में बिलकुल न जाएँ क्योंकि इस समय भारी वर्षा के कारण यहाँ रिवर राफ्टििंग करना संभव नहीं है।

बहुत सारे पर्यटक गर्मी के महीनों मार्च से अप्रैल में भी आना पसंद करते हैं गर्मियों में यहाँ वातावरण घूमने के काफी अच्छा होता है।

नवम्बर से फरवरी के समय यहाँ पर ठंडी का मौसम होता है को की काफी सुहावना होता है इस वक्त आते समय ठंडी के समय उपयोग होने वाले कपड़ों के अपने साथ जरूर रखें।

ऋषिकेश में करने के लिए क्या है ?

ऋषिकेश में आप बहुत सारे रोमांचक गतिविधियों की मजा ले सकते हैं जैसे रॉक क्लाइम्बिंग, योगा , स्विमिंग ट्रेकिंग, ज़िपलीने टूर, बंगी जमपिंग, ज़िपलीने टूर और राफ्टिंग।

घूमने के साथ साथ पर्यटक इन सारी गतिविधयों का भरपुर मजा लेते हैं। जो आपका मनपसंद हो उन्हें आप जी भर के कर सकते हैं। और अपने यात्रा को शानदार तथा यादगार बना सकते हैं।

निष्कर्ष

इस लेख में आप ऋषिकेश में घूमने की जगह (Rishikesh Me Ghumne ki Jagah) जाने का समय खर्चा , कैसे जाएँ, कब जाएँ , क्या खाएं इन सारी चीजों की जानकारी इस लेख के माध्यम से आपको आसानी से मिल जाएगी। जिससे आपको ऋषिकेश की यात्रा करने में काफी सुविधा होगी।

हमारा यह लेख ऋषिकेश में घूमने की जगह यदि आपको अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना कभी भी न भूलें और इसके अलावा अगर आपके पास इस लेख से सम्बंधित कोई कोई भी सवाल सुझाव हों तो कमेंट सेक्शन में पूछना कभी भी भूलें।

ऋषिकेश की फेसम चीज क्या है ?

ऋषिकेश की फेमस मंदिर नीलकंठ मंदिर है।

ऋषिकेश जाने का सही समय कोन सा है ?

ऋषिकेश जाने का सबसे उचित समय मई और जून का महीना होता है ?

ऋषिकेश यात्रा के लिए कितने दिन चाहिए ?

ऋषिकेश घुमनें के लिए 2 दिनों का समय काफी होता है फिर भी आप चाहे तो से 5 दिनों की यात्रा का प्लान बना सकते हैं।

ऋषिकेश के पास कौन सी नदी बहती है ?

ऋषिकेश के पास चन्द्रबथा और गंगा नदी बहती है।

ऋषिकेश में कौन सा मंदिर है ?

ऋषिकेश में नीलकंठ महादेव मंदिर है जो की भगवान शिव का मंदिर है।

ऋषिकेश घूमने में कितना खर्च आता है ?

अगर आप ऋषिकेश अकेले घूमने जा रहे हैं तो फिर 2 से 3 दिनों का खर्च 4200 से 4500 हो जाता है वही यदि आप इस ट्रिप में किसी भी दोस्त को शामिल कर लेते हैं तो फिर आपका सारा खर्च मात्र 3500 से 4000 में हो जाता है।

Leave a comment