10+ शिलांग में घूमने की जगह, खर्चा और जाने का समय

Shillong Me Ghumne ki Jagah : वैसे तो भारत में घूमने के लिए पर्यटन स्थल और दर्शनीय स्थल की संख्या की कोई कमी नहीं है। लेकिन इस लेख में हम शिलांग में घूमने की जगह , जाने का समय , खर्चा , कैसे घूमें , कहाँ रुके और यहाँ करने के लिए किस तरह की मनोरंजक गतिविधियों की व्यवथा पर्यटकों के लिए की गयी है।

शिलांग में घूमने की जगह , खर्चा और जाने का समय

शिलांग भारत के उत्तर पूर्व में स्थित मेघालय की राजधानी है। यह अपने प्राकृतिक सुंदरता , ऊँचे – ऊँचे पहाड़ी के कारण , खबसूरत झीलों झरनो के कारण सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी काफी प्रशिद्ध है। यह भारत के उत्तर पूर्वी राज्य में स्थित एक शील स्टेशन है जिसे की लोगों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। उत्तर पूर्व में स्थित शिलांग जो की ‘ झीलों के शहर ‘ और बादलों के निवास के नाम से प्रशिद्ध है।

इसकी लाजवाब हरियाली और अद्धभुत खूबसूरती के कारन इसे पूर्व का स्कॉटलैंड के नाम से जाना जाता है।

Contents

शिलांग के बारे में रोचक तथ्य

यूँ तो आपको भारत में एक से बढ़कर एक पर्यटन स्थल , दर्शनीय स्थल , धार्मिक स्थल मंदिरें देखने को मिलते हैं। सभी के अपनी अपनी खूबियाँ हैं और सारे अपनी विषेशताओं के लिए जाने जाते हैं। चलिए इस लेख में जानते हैं शिलांग के कुछ रोचक तथ्य के बारे में –

  • शिलांग भारत के उत्तर पूर्वी राज्य में बसा हुआ प्रकृति की गोद में काफी खूबसूरत हिल स्टेशन है और यह मेघालय राज्य की राजधानी है
  • शिलांग भारत का पहला ऐसा हिल स्टेशन है जहाँ आप हर तरह से पहुँच सकते हैं।
  • शिलांग की पर्वत पर U – Shyllong नाम के देवता का वास स्थान है। और इसी के नाम पर इस शहर को शिलांग के नाम से जाना जाता है।
  • शिलांग अपनी खूबसूरती , सुंदरता , ऊँचे ऊँचे पहाड़ों , खूबसूरत झरनों एवं खूबसूरत पहाड़ियों के कारण ही पुरे दुनियाँ भर में प्रशिद्ध है।
  • शिलांग को झीलों का शहर तथा बादलों का निवास स्थान भी कहा जाता है।
  • ब्रिटिश के अधिकारीयों के द्वारा इस स्थान को “पूर्व का स्कॉटलैंड” के नाम से पुकारा करते थे।

शिलांग में लोकप्रिय पर्यटक स्थल (Shillong Tourist Places in Hindi)

उमियम झील

उमियम झील शिलांग में घूमने की जगह में प्रशिद्ध पर्यटन स्थल है। यह झील कृत्रिम जलाशय है। जिसका इस्तेमाल बजली उत्पन्न करने के लिए किया जाता है। यह आपको शिलांग के उत्तर से 15 किलोमीटर चाय की पहाड़ियों पर स्थित है।

Umiam Lake
Umiam Lake

यदि आपको लैंडस्केप फोटोग्राफी का शौक है तो यहाँ आपका स्वागत है आपके तरह अनेकों पर्यटक यहाँ विशाल झील के नीले पानी को देखने के लिए और उसकी प्राकृतिक सुंदरता को देखने के लिए खींचे चले आते हैं। पर्यटकों के लिए यहाँ कई तरह की वॉटर स्पोर्ट्स की भी व्यवस्था देखने को मिलती है , जिसका आप भरपूर मजा ले सकते हैं।

इसे भी पढ़े

यहाँ आपको एक पार्क भी देखने को मिलता है जो की पर्यटकों के बीच में पिकनिक स्थल के रूप में प्रशिद्ध है। उमियम झील में सूर्योदय का नजारा देखना अपने आप में आपको एक अलग ही रोमांचकारी अनुभव देता है।

एलीफेंट फॉल्स

एलिफेंटा फाल्स शिलॉंग में घूमने की जगह में सबसे ज्यादा देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है। यह काफी खूबसूरत झरना है। यह शिलांग शहर का दो स्तरीय जल प्रपात है जिसे की पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। बहुत पहले यहाँ झरने के पास एक बड़ा सा हाथी के अकार का एक पत्थर हुआ करता था , जिस कारण से अंग्रेजों के द्वारा इस झरने को एलिफेंटा फाल्स का नाम दिए गया।

Elephant Falls
Elephant Falls

अगर अभी आप यहाँ घूमे के लिए जा रहे हैं और इस पत्थर को देखना चाहते हैं तो आज के समय में यह पत्थर आपको देखने को नहीं मिलने वाला है। क्योंकि कुछ समय पहले भूकंप के कारण यह पूरी तरीके से नष्ट हो चूका है। स्थानीय लोंगो के बीच शिलांग में घूमने के जगह के रूप में सुप्रशिद्ध यह झरना तीन चरणों वाले झरनों के रूप में प्रशिद्ध है। जो की काफी मनोरम और खबशूरत है।

इसे भी पढ़े

शिलांग पीक

अगर आप शिलांग में घूमने की जगह में शिलांग के सबसे ऊँचे स्थान की तलाश में हैं तो आपको शिलांग पिक में अवश्य आना चाहिए। शिलांग पीक शिलांग में स्थित बेहतरीन पर्यटन स्थल है जिसे की पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। शिलांग पीक समुद्र तल से 6449 फीट या 1965 मीटर की ऊंचाई में स्थित है। यहाँ से पर्यटक को शिलांग की विहंगम नजारा देखने का मौका देखने को मिलता है।यहाँ के खूबसूरत नज़ारे का मजा लेने के लिए पर्यटकों के लिए एक दूरबीन की भी व्यवस्था भी है जिसके मदद से आप इस अद्भुत वादियों की खूबसूरती का भरपुर मजा ले सकते हैं। यहाँ से आपको शिलांग का 360 डिग्री नजारा देखने को मिलता है। जिसमे आप शिलांग के ऊँचे ऊँचे पहाड़ियों, झरने , झीलों और नदियों की भी खूबसुरती को अपनी खुली आँखों से देख सकते हैं।

Shillong View Point
Shillong View Point

यहाँ से आप हिमालय , शिलांग की खूबसूरती के साथ साथ बांग्लादेश के हरे भरे मैदानी भाग को भी बड़े आसानी से देख सकते हैं। शिलांग पीक की इन्ही खूबियों के कारण पर्यटक खुद को यहाँ आने से रोक नहीं पाते हैं। अगर आप शिलांग घूमने के लिए आ रहे हैं तो इस स्थान पर आना कभी भी न भूलें।

इसे भी पढ़े

स्थानीय लोंगो का मानना है की इस शिलांग की पीक पर उनके देवता लीशिलांग का वास स्थान है और उन्ही के नाम पर इस शहर का नाम शिलांग है। यहाँ आपको वायु सेना का राडार स्टेशन भी देखने को मिलता है। शिलांग पीक वायु सेना के बेस के नजदीक ही स्थित है। यहाँ आप मुख्य शहर से 10 किमी मीटर की दुरी तथा शिलांग शहर से 20 किमी की दुरी तय करके टैक्सी जैसे यातायात के साधन का इस्तेमाल करके आसानी से पहुँच सकते हैं।

वार्डस झील

शिलांग में घूमने की जगह में प्रशिद्ध वार्डस झील जो की स्थनीय लोंगो के बीच पोलक झील या नॉन पोलोक झील के नाम से प्रशिद्ध है। यह का मानव निर्मिति झील है जिसके चारोँ तरफ आपको एक वनस्पति उद्यान देखने को मिलता है। इस वनस्पति उद्यान में आपको एक फुटपाथ और फव्वारा भी देखने को मिलता है। जिसे की पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। यहाँ आप विभिन्न तरह के फूलों की प्रजाति सकते हैं , यहाँ आप कई प्रकार के आर्किड को भी देख सकते हैं। इस झील की सबसे बड़ी खासियत है की यहाँ पर एक लकड़ी का फूल भी है। इस झील में पर्यटकों के लिए नौका विहार की भी जबरदस्त व्यवस्था की गयी है। यहाँ झील के चारों और पुरे शहर की योजना दिखाई गई है जो की यहाँ आने वाले पर्यटकों को काफी पसंद आता है।

 Wards Lake
 Wards Lake

यहाँ पर्यटकों के लिए पैडल बोटिंग की भी व्यवस्था है। जिसके कारन यह झील पर्यकटों के लिए और भी ज्यादा आकर्षिक हो जाता है। आप यहाँ की किसी भी यातायत साधन का इस्तेमाल करके आप यहाँ 15 मिनिट की दुरी तय करके आसानी से पहुँच सकते हैं इस झील का नाम असम के आयुक्त विलियम वार्ड के नाम पर रखा गया था , जिन्होंने इस झील को बनवाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

इसे भी पढ़े

डॉन बोस्को म्यूजियम

अगर आप मेघलय की जनजातीय संस्कृति और सांस्कृतिक इतिहास के बारे में जानने को इच्छुक हैं तो फिर आपको शिलांग में घूमने की जगह के डॉन बॉस्को म्युसियम में जरूर जाना चाहिए। इस संग्रहालय में आपको स्वदेशी लेखों और कलाकृतियों का काफी अच्छा संग्रह देखने को मिलता है। यह इस क्षेत्र की संस्किरितक समृद्धि को दर्शाता है।

Don Bosco Museum
Don Bosco Museum

इस संग्रहालय में आपको 7 मंजिले देखने को मिलती है , जिसमे कुल 17 गैलेरी मौजूद है। यहाँ आपको कलाकृतियां , आकृतियाँ , मूर्तियाँ तथा पेंटिंग के साथ बहुत प्रदर्शनीय के रूप में देखने को मिलता है। यह संग्राहलय एक संस्थान के रूप में कार्य करता है जिसका खुद का अनुसंधान विंग समाचार पत्र , सांस्कृतिक कैलेंडर तथा प्रकाशन है। यहाँ शानदार प्रतियोगिता का आयोजन होता है जिसमे देश के कोने कोने से संगीतकार , विद्वान , गीतकार लेखक बढ़चढ़ कर हिस्सा लेते हैं।

शिलांग में घूमने की जगह में डॉन बॉस्को संग्रहालय को स्वदेशी संग्रहालय को स्वदेशी संस्कृतियों का एशिया का सबसे बड़ा संग्रहालय कहा जाता है। देशी तथा विदेशी पर्यटकों के लिए यह शिलांग का बेहतरीन पर्यटन स्थल है।

लैटलम घाटी

लैटलम घाटी शिलांग में घूमने की जगह में काफी प्रशिद्ध घाटी है। जो की पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। यह घाटी आपको खासी पहाड़ियों में देखने को मिलती है। लैटलम घाटी का शाब्दिक अर्थ होता है पहाड़ियों का अंत। इस जगह को रोमांचक गतिविधियों के शौक रखने वालों पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। यहाँ आपको ट्रेकिंग की अच्छी खासी वयवस्था आपको देखने को मिलती है। अगर आप प्राकृतिक प्रेमी है और किसी शांत वातावरण की चाह रखते हैं। तो शिलांग में घूमने की जगह में लैटलम घाटी आपके लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं है।

Laitlum canyons
Laitlum canyons

इस घाटी के ऊंचाई में पहुँचते ही आपको पुरे शहर का एक शानदार नजारा आपको देखने को मिलता है। यहाँ की सुंदरता और शांत वातावरण लोंगो को खूब भाता है। इस वजह से शिलांग में आने वाले पर्यटक कभी भी यहाँ आना कभी भी नहीं भूलते हैं।

कैथेड्रल चर्च शिलांग

शिलांग में घूमने की जगह में केथेड्रल चर्च काफी प्रशिद्ध और खूबसूरत चर्च है। जिसे की ईसा मसीह के माँ के नाम से बनाया गया है। यहाँ आपको मदर मैरी के मूर्ति के साथ साथ सफेद रंग के संगमरमर का एक खूबसूरत सा इमारत देखे को मिलता है। जो की शिलांग में घूमने की जगह के रूप में पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है.

Cathedral Catholic Church
Cathedral Catholic Church

कैथेड्रल चर्च के अंदर आपको चर्च के अंदर , क्रॉस के 14 स्टेशनों का एक सेट देखने को मिलता है जहाँ आप यीशु मशीह के जन्म से मरण तक के विभिन्न घटनाओं देखने और समझने का मौका मिलता है।

लेडी हैदरी पार्क

शिलांग में घूमने कि जगह के रूप में प्रशिद्ध यह लेडी हैदरी पार्क लबान क्षेत्र में स्थित है। इस पार्क का नाम यहाँ की प्रथम महिला और असम के राजपाल की पत्नी लेडी हैदरी के नाम पर रखा गया है। इस पार्क में आने वाले पर्यटकों के लिए सबसे ज्यादा आकर्षण का केंद्र यहाँ का जापानी शैली में बना हुआ पार्क है।

 Lady Hydari Park
 Lady Hydari Park

इस पार्क में आपको एक छोटा सा झील भी देखने को मिलता है , जिसमे आपको काफी सारे मछली एवं बतक तैरते हुए दिख जायेंगे। यहाँ आप घूमने फिरने के साथ साथ बोटिंग एवं फोटोग्राफी का भी मजा ले सकते हैं। यहाँ बच्चों केलिए भी खेलने के लिए अच्छी खासी व्यवस्था आपको देखने को मिलती है। साथ यहाँ आपको एक मिनी चिड़ियाघर भी देखने को मिलता है , जहाँ पक्षियों की 73 से अधिक प्रजातियाँ और सरीसृप की 100 प्रजातियां मौजूद है।

शिलांग में डेविड स्कॉट ट्रेल

अगर आप अत्यधिक रोमांचक गतिविधियों के शौक रखते हैं तो फिर आपको शिलांग में घूमने की जगह में डेविड स्कॉट ट्रेल में अवश्य आना चाहिए। 16 किलोमीटर का यह ट्रैकिंग ट्रेल रोमांचक गतिविधियों के शौकीन रखने वाले पर्यटकों के द्वारा काफी पसंद किया जाता है। जिसे आप 4 घंटे की सफर में पूरा कर सकते हैं। यह कभी घोडा गाड़ी का ट्रेक हुआ करता था , इसका नाम डेविड स्कॉट नाम के ब्रिटिश प्रशासक के नाम पर रखा गया है।

David Scott Trail
David Scott Trail

प्रकृति प्रेमियों , रोमांचक गतिविधियों और फोटोग्राफी के शौक रखने वाले लोगों के लिए पर्यटकों के द्वारा इसे काफी पसंद किया जाता है। यहाँ ट्रैकिंग के दौरान आसपास के खूबसूरत झरने , क्रिस्टल साफ पानी की तेज धाराएं , अति सूंदर घाटियाँ , घनादार जंगल और आसपास की अद्भुत हिरयाली और इस तरह की शानदार खूबसूरती के कारन शिलांग में घूमने की जगह में यह डेविड स्कॉट ट्रेल आपके लिए जीवनभर यादगार रहने वाला है।

शिलांग का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन

शिलांग सिर्फ अपने घूमने की जगह , अद्भुत प्रकृतिक द्रिश्यों , ऊँचे ऊँचे पहाड़ो और खूबसूरत झरनों के कारण ही नहीं जाना जाता है। बल्कि यहाँ के लजीज व्यंजन के कारण भी शिलांग पुरे विश्व में प्रशिद्ध है। शिलांग के कुछ प्रमुख भोजन निम्नलिखित है –

  • शीर सेवन
  • पुखलीन
  • पुथारों
  • मिनिल सोंगा
  • पुमालोई
  • डोहनेइओंग
  • नखम बिच्ची
  • जादोह शिलांग
  • दोह – खलीज
  • मोमोज

यहाँ आपको खाने के लिए बहुत कुछ मिल सकता है लेकिन फिर भी इस शहर की प्रशिद्ध भोजन जदोह , कीकटु , कटूंग , क्यात और तूंगरामबाई काफी प्रशिद्ध है। इन भोजनों का स्वाद अपने यात्रा के दौरान लेना कभी भी न भूलें।

शिलांग में रुकने की जगह

अगर आप शिलांग में घूमने के जगहों के सारे पर्यटन स्थलों को काफी अच्छी तरीके से घूमना चाहते हैं तो उसके लिए आपको यहाँ कम से कम से 4 से 5 दिनों के लिए रुकना पड़ेगा। आप यह रुकने के लिए रिजॉर्ट , लॉज एवं होटल किसी को भी चुन सकते हैं। यहाँ आपको हर तरह सस्ती से लेकर महंगी होटल मिल जाएगी आप अपनी बजट के अनुसार किसी भी होटल या लॉज में रह सकते हैं।

शिलांग घूमने के लिए सबसे अच्छा समय

क्योंकि शिलांग ठंडी जलवायु वाला प्रदेश है। यह हिमालय के करीब होने के कारण सालों भर यहाँ ठण्ड का माहौल बना रहता है। इसलिए यहाँ घूमने के लिए गर्मियों के समय को सबसे ज्यादा आदर्श समय मन जाता है। क्योंकि गर्मियों के समय शिलांग के अलावा अन्य शहरों में तपतपाती गर्मी के कारण लोग काफी परेशान रहते हैं। इसलिए इस समय में लोगों का यहाँ घूमने के लिए आना काफी अच्छा सौदा होता है।

गर्मी के मौसम के अलावा यदि आप यहाँ के मानसून को देखना चाहते हैं और महसूस को महसूस करना चाहते हैं। तो आपको बरसात के मौसम में यहाँ आने की जरूरत है। उनके लिए जून से अगस्त का महीना सर्वोत्तम रहता है।

शिलांग कैसे पहुंचे?

शिलांग भारत के उत्तर पूर्वी राज्य मेघालय में स्थित है। यहाँ तक पहुंचने के लिए पर्यटकों के लिए रेल , बस एवं हवाई मार्ग हर तरह की व्यवस्था उपलब्ध है। आपको अपने शहर से जो कोई भी यातायात का साधन अच्छा लगे , उसके द्वारा यहाँ तक पहुँच सकते हैं।

रेल मार्ग से

अगर आपको ट्रेन से सफर करना अच्छा लगता है। तो आपकी जानकारी के लिए बता दें की शिलांग का सबसे नजदकी रेलवे स्टेशन गुवाहटी है। सबसे पहले आप अपने शहर के ऐसे किसी रेलवे स्टेशन से गुवाहाटी के लिए टिकट बुक करा लें जो की आपको गुवाहाटी के लिए सीधे रेलवे की सुविधा उपलब्ध कराता हो। इसके बाद रेलवे स्टेशन से बाहर ही टैक्सी , कार एवं बस के माध्यम से आप शिलांग तक पहुँच सकते हैं। गुवाहाटी से शिलांग तक का सफर करने के लिए आपको 100 किलोमीटर का सफर करना होता है जिसे की आप मात्र 3 से 4 घंटा पूरा कर सकते हैं।

सड़क मार्ग द्वारा

शिलांग शहर भारत के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग द्वारा काफी अच्छी तरह से जुड़ा है। आप शिलांग के पड़ोसी शहर से शिलांग के लिए बस पकड़ कर आसानी से शिलांग पहुँच सकते हैं। शिलांग के कई ऐसे पडोसी राज्य हैं। जो शिलांग शहर के लिए सीधे बस सुविधा उपलब्ध कराते हैं।

हवाई मार्ग द्वारा

अगर आपको हवाई यात्रा करना अच्छा लगता है और आप हवाई यात्रा के लिए सक्षम हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं। शिलांग का नजदीकी हवाई अड्डा उमरोई है। जो की शिलांग से 30 किलोमीटर की दुरी में देखने को मिलता है और यह गुवाहाटी शिलांग राजमार्ग पर स्थित है। आप अपने शहर के नजदीकी हवाई अड्डा से यहाँ के लिए टिकट बुक करा करके अपनी यात्रा को शानदार एवं यादगार बना सकते हैं।

शिलांग कैसे घूमे?

शिलांग पहुँचते ही यहाँ आपको शिलांग में घूमने की जगह के सारे पर्यटन स्थलों तक बारी – बारी से जाने के लिए ऑटो , टैक्सी एवं बसों की सुविधा में मिल जाती है। यहाँ जाने के बाद सबसे पपहले यहाँ के ययातात व्यवस्था के बारे में अच्छी तरह से पता कर लें। उसके बाद यहाँ रहने खाने को अच्छे होटल को देखें।

शिलांग घूमने का खर्चा

शिलांग में घूमने के दौरान खर्चों में काफी कुछ शामिल है खाने पीने का खर्चा रहने का खर्चा , शिलांग में घूमने फिरने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला यातायात साधनो की खर्चा।और सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण अपने शहर से यहाँ तक आने वाले यातायात में इस्तेमाल किये जाने वाले साधनों का खर्चा। सारे खर्चों को मिलकर आप अकेले आसानी से 5000 से 7000 में काफी अच्छी तरीके से पुरे शिलांग को घूम सकते हैं।

वहीं यदि आप पुरे परिवार के साथ शिलांग में घूमने की जगह के सारे पर्यटन स्थलों का भरपूर मजा लेना चाहते हैं आपका खर्चा 15000 से लेकर 20000 तक हो जाता है।

शिलांग घूमते वक्त अपने साथ क्या रखें?

सिर्फ शिलांग ही नहीं कही पर भी आप घूमने के लिए जा रहे हैं तो उसके लिए आप को अपने पास कुछ खास चीजों को रखना अति आवश्यक होता है जैसे की यदि आप सर्दियों के मौसम में घूमने के लिए जा रहे हैं तो उस हिसाब से अपने पास सर्दियों में इस्तेमाल होने वाले गर्म कपड़ो , खाने के लिए फ्रूट्स , ड्राई फ्रूट्स , फर्स्ट एड बॉक्स और जरुरी दस्तावेजों को अपने साथ रखना कभी भी न भूलें।

निष्कर्ष

हमारे इस लेख में शिलांग में घूमने से जगह (Shillong Me Ghumne ki Jagah) , जाने का समय , कैसे जाएं , कहाँ जाएँ , कहाँ रुके , घूमने के दौरान कितने खर्चा की जरूरत पड़ती है। इन सारी चीजों की जानकरी आपको इस लेख के माध्यम से काफी सरल शब्दों में दी गयी है।

आशा करते हैं की हमारा यह लेख आपको लिए काफी हेल्पफुल रहा होगा , अगर इस लेख से आपको किसी भी तरह की मदद हुई हो तो इसे अपने जररूत मंद मित्रों एवं रिस्तेदारों के साथ साझा करना बिलकुल भी न भूलें।

साथ ही शिलांग में घूमने की जगह लेख से सम्बंधित किसी भी तरह का कोई भी सुझाव एवं विचार हो कमेंट में जरूर रखें।

FAQ

शिलांग घूमने के लिए सबसे अच्छा महीना कौन सा होता है ?

शिलांग में घूमने के लिए गर्मियों का मौसम काफी अच्छा होता है। जो की मई से जुलाई के बीच होता है। क्योंकि गर्मियों का समय यात्रियों के लिए यात्रा के अनुकूल रहता है।

शिलांग घूमने के लिए कितने दिन चाहिए ?

शिलांग घूमने के लिए आपको कम से कम 4 से 5 दिनों की आवश्य्कता होती है .

शिलांग में कौन सी भाषा बोली जाती है ?

शिलांग खासी भाषा बोलने वाले लोंगो की संख्या आपको देखने को मिलती है।

शिलांग में कौन सी नदी बहती है ?

शिलांग में आपको उमनगोत नदी देखने को मिलती है।

शिलांग क्यों प्रशिद्ध है ?

शिलांग अपनी अद्भुत खूबसूरती , भारी वर्षा , ऊँचे ऊँचेझरने , गुफ़ाएँ , प्राकृतिक सुंदरता के लिए विश्व भर में प्रशिद्ध है। यह अपने कला और संस्कृति के लिए भी काफी जाना जाता है।

Leave a comment